यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मुठभेड़ में मारे गए प्रेम कुमार की पत्नी और बहू ने खोले कई राज, कहा-विकास ने तबाह कर दी मेरी गृहस्थी


🗒 रविवार, जुलाई 05 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

चौबेपुर के बिकरू गांव में मुठभेड़ में सीओ समेत आठ पुलिस जवानों के शहीद होने की घटना में फरार चल रहे मोस्टवांटेड विकास दुबे के खिलाफ जुबान बंद किए ग्रामीणों के बीच उसके अपनों ने ही मुंह खोलना शुरू कर दिया है। घटना के दूसरे दिन एनकाउंटर में मारे गए विकास के मामा प्रेम कुमार पांडेय की पत्नी और बहू ने पुलिस और मीडिया के सामने कई राज खोलते हुए कहा- विकास ने हमारी गृहस्थी तबाह कर दी। वह बेगुनाह थे, उनका कसूर केवल इतना था कि भाई विकास के डर से उनके साथ जाते थे। साथ ही सास और बहू ने पुलिस को भी कठघरे में खड़ा किया है और आरोप लगाते हुए पोस्टमार्टम के बाद जानकारी दिए बिना अंतिम संस्कार करके आखिरी बार चेहरा भी नहीं देखने दिया। मुठभेड़ में मारे गए प्रेम कुमार पांडे के परिवार को रविवार को जब यह पता चला कि उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया है तो पत्नी सुषमा पांडे और बहू वर्षा पांडे का धैर्य जवाब दे गया। उन्होंने सबसे पहले पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाए और आरोप लगाया कि पुलिस ने उनका अंतिम संस्कार कर दिया, एक बार उनका मुंह तक नहीं देखने दिया गया। उन्होंने कि पुलिस पर हमले में उनका कोई हाथ नहीं था।सुषमा ने कहा कि पति की मजबूरी थी कि वह विकास दुबे का साथ देते थे। विकास दुबे के लोगों ने पुलिस वालों के साथ जो किया उसका उन्हें अफसोस है। पुलिस विकास दुबे को मारे जो घटनाक्रम का असली आरोपी है। बहू वर्षा ने कहा कि उनके परिवार के लिए विकास दुबे किसी अभिशाप से कम नहीं है, वर्ष 2001 में संतोष शुक्ला हत्याकांड के समय भी पुलिस ने ससुर को केवल इसलिए गिरफ्तार किया था क्योंकि वह विकास दुबे के साथ चलते थे। विकास उन्हें जबरन अपने साथ रखता था, जब संतोष शुक्ला हत्याकांड के बाद हथकड़ी लगाकर ससुर को घर से ले गई तो सदमे में ननद की मौत हो गई थी। विकास के कारण इस बार ससुर को जान से हाथ धोना पड़ा है। पूरी घटना में अगर कोई कसूरवार है तो वह विकास दुबे है। पुलिस विकास दुबे तक नहीं पहुंच पा रही है और बेगुनाह लोगों पर कार्रवाई कर रही है।पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के मामा प्रेम प्रकाश और चचेरे भाई अतुल के शव लेने स्वजन नहीं पहुंचे थे। पुलिस का पक्ष है कि पोस्टमार्टम कराने के बादसूचना भिजवाई तो कुछ रिश्तेदारों ने पहुंचकर सुपुर्दगी तो ले ली, लेकिन अंतिम संस्कार कराने से असमर्थता जता दी। इसके बाद पुलिस ने दोनों शव भैरोघाट ले जाकर क्रियाकर्म कराया। 

मुठभेड़ में मारे गए प्रेम कुमार की पत्नी और बहू ने खोले कई राज, कहा-विकास ने तबाह कर दी मेरी गृहस्थी

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» ढाई सौ बीघा जमीन का मालिक है हिस्ट्रीशीटर विकास और उसका परिवार

» दयाशंकर अग्निहोत्री उर्फ कल्लू ने बताया चार घंटे पहले थाने से आया फोन तो हिस्ट्रीशीटर विकास ने बुला लिए 30 शूटर

» चौबेपुर SO विनय तिवारी निलंबित, हिरासत में लेकर STF कर रही पूछताछ

» हिस्ट्रीशीटर विकास ने जिस बुलडोजर से रोका था रास्ता पुलिस ने उससे ध्वस्त किया किले जैसा घर

» कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- सत्ता के संरक्षण में बखौफ हैं अपराधी, योगी गोरखपुर वापस जाएं

 

नवीन समाचार व लेख

» मुठभेड़ में मारे गए प्रेम कुमार की पत्नी और बहू ने खोले कई राज, कहा-विकास ने तबाह कर दी मेरी गृहस्थी

» दयाशंकर अग्निहोत्री उर्फ कल्लू ने बताया चार घंटे पहले थाने से आया फोन तो हिस्ट्रीशीटर विकास ने बुला लिए 30 शूटर

» IS-227 के सक्रिय सदस्यों की कुंडली खंगाल रही पुलिस, पूर्व सांसद अतीक अहमद का है गैंग

» चंदौली में वाहन चेकिंग के दौरान दो रक्त के सौदागर गिरफ्तार

» वाराणसी मे 23वें कोरोना मरीज की मौत, 27 नए केस