संजीत की हत्या में फॉरेंसिक टीम की जांच के बाद कई बातें सामने आ रही

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

संजीत की हत्या में फॉरेंसिक टीम की जांच के बाद कई बातें सामने आ रही


🗒 शनिवार, अगस्त 01 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
संजीत की हत्या में फॉरेंसिक टीम की जांच के बाद कई बातें सामने आ रही

संजीत यादव अपहरण व हत्याकांड में फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट में चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है। संजीत की हत्या करने में क्रूरता की हदें पार करने की आशंका हैं। उसको क्षत-विक्षत कर आरोपितों ने नदी में बहाया होगा। इसीलिए अभी तक बरामदगी नहीं हो सकी है। अनुमान है कि आरोपित ये स'चाई छिपा रहे हैं।संजीत की हत्या रतनलाल नगर स्थित किराये के घर में की गई थी। हत्यारोपित ज्ञानेंद्र, रामजी, कुलदीप, नीलू के मुताबिक हत्या वाली रात उसने सेब काटने के दौरान चाकू से अपनी कलाई काट ली थी। इसके बाद भागने का प्रयास किया था, तभी उन लोगों ने संजीत की हत्या का फैसला लिया था। एक रस्सी से गला दबाकर उसकी हत्या करके शव को बोरे में भरकर पुल से पांडु नदी में फेंक दिया था।फॉरेंसिक रिपोर्ट के मुताबिक, केमिकल डालने के बाद मकान के पांचों कमरों, दो शौचालयों और एक किचन सभी जगह खून की मौजूदगी मिली है। सवाल ये है कि पूरे घर में खून कैसे फैला। अगर मान भी लें कि कलाई काटने से खून निकला और उसे धोया गया तो अंदर के कमरों तक खून के धब्बे कैसे पहुंच गए? यह सवाल पुलिस को भी उलझा रहे हैं।विशेषज्ञों के मुताबिक ये स्थिति तब बन सकती है, जब जान बचाने के लिए संजीत पूरे घर में भागा हो। इससे आशंका है कि उसकी हत्या करने के बाद शव को क्षत-विक्षत कर टुकड़ों में नदी में बहाया गया। विशेषज्ञ कहते हैं, बोरे में भरकर फेंका गया शव अब तक मिल जाना चाहिए था, क्योंकि पानी के कारण भार बढऩे से बोरा तलहटी में रुक जाता।आरोपितों से पूछताछ में पता भी चल चुका है कि उन्होंने क्राइम पेट्रेाल सीरियल देखकर अपहरण की पटकथा तैयार की थी। इसमें शव को ठिकाने लगाने का तरीका भी जरूर ढूंढा होगा। वे जानते हैं कि शव, संजीत से जुड़े दस्तावेज और सामान बरामद नहीं होने पर पुलिस अदालत में यह साबित नहीं कर सकेगी कि हत्या उन्होंने ही की है। अब खून का एक नमूना डीएनए टेस्ट के बाद आरोपितों को सजा दिला सकता है। अभी राम जी को रिमांड पर लेना बाकी है। उससे पूछताछ के बाद काफी कुछ सामने आने की उम्मीद है। अदालत की अनुमति से आरोपितों का नारको टेस्ट कराया जाएगा। पूरे घर में खून पहुंचना बड़ा सवाल है। इस एंगल पर भी जांच कराई जाएगी। -डॉ. प्रीतिंदर सिंह, एसएसपी

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» कानपुर के भूमाफिया रामदास और उसके साथियों के खिलाफ गैंगस्टर की तैयारी

» भाजपा नेता से दारोगा बोले- दोबारा अंडर वियर पहनकर चौकी मत आना. खूब वायरल हो रहा ऑडियो

» घाटमपुर में सराफा कारोबारी समेत दो घरों से 21 लाख का माल पार

» कानपुर सेंट्रल पर फर्जी नौकरी करते पकड़े गए 13 युवकों को पुलिस ने माना पीड़ित, एक एजेंट को जेल

» कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर काम करते पर पकड़े गए 16 फर्जी कर्मचारी

 

नवीन समाचार व लेख

» सपा एमएलसी कमलेश पाठक और उनके भाइयों की करोड़ों की संपत्ति होगी कुर्क, डीएम ने दिया आदेश

» UP में 9 IPS अधिकारियों का तबादला, 6 जिलों के बदले गए पुलिस कप्तान

» पीएम मोदी ने की केंद्रीय मंत्रियों और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ बैठक

» इटावा में सरेराह युवती पर मनचलों ने फेंका तेजाब

» कानपुर देहात में TET पास कराने के नाम पर डेढ़ लाख की ठगी