यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बिकरू कांड में बड़ा खुलासा, पुलिसकर्मियों पर दागे गए थे अमेरिकन विंचेस्टर कारतूस


🗒 शनिवार, अगस्त 01 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बिकरू कांड में बड़ा खुलासा, पुलिसकर्मियों पर दागे गए थे अमेरिकन विंचेस्टर कारतूस

बिकरू में दो जुलाई की रात सीओ समेत आठ पुलिस वालों की हत्या के मामले में एक के बाद एक नए तथ्य सामने आ रहे हैं। फॉरेंसिक जांच में अब यह चौंकाने वाली बात सामने आई है कि विकास दुबे गिरोह के पास मौजूद हथियारों के जखीरे में खतरनाक .30-06 विंचेस्टर कारतूस भी थे। दो जुलाई को पुलिसकर्मियों पर गिरोह ने इन कारतूसों का इस्तेमाल किया था। विंचेस्टर कारतूस का प्रयोग भारत में नहीं किया जाता है। यह अमेरिकन सेना का हथियार रहा है। पुलिस जांच में जुटी है कि आखिर यह खतरनाक कारतूस गैंगस्टर विकास दुबे तक कैसे पहुंचा।स्प्रिंग फील्ड रायफल, इनफील्ड रायफल, सेमी ऑटोमेटिक एम-1 ग्रारनेड रायफल, सेमी आटोमेटिक जानसन रायफल, फैमेज माउजर और विभिन्न प्रकार की मशीनगन में इन कारतूसों का प्रयोग किया जा सकता है।रायफल में प्रयोग में आने वाले अन्य कारतूस आमतौर पर पीतल व तांबे के बने होते हैं। .30-06 विंचेस्टर कारतूस की बॉडी व नोक स्टील की होती है। नोक बेहद सख्त होती है। बिकरू में गोपाल सैनी के भाई के लोहे के दरवाजे में जो कारतूस आरपार हुआ वह .30-06 विंचेस्टर कारतूस बताया जा रहा है।पुलिसकर्मियों की हत्या के दूसरे दिन फॉरेंसिक टीम और पुलिस ने दूसरे दिन बिकरू गांव पहुंचकर मौके से 72 जिंदा व खाली कारतूस बरामद किए थे। इनमें से एक जिंदा कारतूस और दस खाली खोखे .30-06 विंचेस्टर कारतूस के थे। भारत में सेना, किसी भी राज्य की पुलिस या शस्त्र लाइसेंस धारक इसका प्रयोग नहीं करते हैं। इसका प्रयोग पहले अमेरिकन सेना करती थी। बाद में यूरोप और अमेरिका में निशानेबाजी के लिए किया जाने लगा। आइजी मोहित अग्रवाल का कहना है कि विंचेस्टर कारतूस मिलने की जानकारी फॉरेंसिक टीम ने दी है। ये कारतूस भारत में प्रयोग नहीं किए जाते हैं। ये विकास दुबे तक कैसे पहुंचे, इसकी जांच कराई जाएगी।बिकरू कांड में बरामद कारतूसों में एके-47 के नौ, नाइन एमएम के एक कारतूस के अलावा, .30-06 एसपीआरजी के 11 खोखे बरामद हुए हैं। 12 खोखे भरे गए थे।

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» कानपुर सेंट्रल पर फर्जी नौकरी करते पकड़े गए 13 युवकों को पुलिस ने माना पीड़ित, एक एजेंट को जेल

» कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर काम करते पर पकड़े गए 16 फर्जी कर्मचारी

» कानपुर-इटावा हाईवे पर हुए हादसे में एक और मौत, अब तक 18 ने गंवाई जान

» कानपुर में मकान मालिक को झांसा देकर नौकरानी छह लाख का माल लेकर फरार

» बस की टक्कर के बाद खाई में गिरी टैंपो, 17 की मौत, डेढ़ दर्जन से अधिक लोग घायल

 

नवीन समाचार व लेख

» अब तंबाकू उत्पादों की बिक्री के लिए लाइसेंस लेना होगा अनिवार्य

» उन्नाव में खेत गई किशोरी के साथ युवक ने किया दुष्कर्म

» इटावा मेें महिला मित्र से मिलने आए युवक को पेड़ से बांध पीट-पीटकर मार डाला

» फतेहपुर में अंतरप्रांतीय टप्पेबाज गिरोह के सरगना समेत तीन हत्थे चढ़े

» फतेहपुर में OBC के फर्जी प्रमाण पत्र से सामान्य वर्ग के आदमी को बना दिया प्रधान