यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उन्नाव की पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट से दहले लोग, किशोर की मौत, चार की हालत गंभीर


🗒 सोमवार, सितंबर 14 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
उन्नाव की पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट से दहले लोग, किशोर की मौत, चार की हालत गंभीर

मौरावां थानाक्षेत्र के गांव प्रसाद खेड़ा स्थित एक पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट से लोग दहल गए, वहीं एक किशोर की मौत हो गई और चार गंभीर रूप से घायल हुए हैं। घटनास्थल कोठरी का मलबा करीब 100 मीटर दूर तक फैल गया और धमाका इतनी तेज था कि उसकी आवाज सुनकर आस-पास गावों में रहने वाले ग्रामीण सहम गए। घायलों में अस्पताल भर्ती कराने के बाद पुलिस ने पटाखा फैक्ट्री मालिक को हिरासत में लिया है और फील्ड यूनिट ने भी साक्ष्य एकत्र किया है।मौरावां के चंदाखेड़ा गांव के मजरे प्रसाद खेड़ा के बाहर एक कोठरी में फखरुद्दीन पटाखा फैक्ट्री संचालित करता था। सोमवार की दोपहर फैक्ट्री में पटाखा बनाने का काम चल रहा था। देर शाम पांच बजे के आसपास फैक्ट्री में अचानक आग लग गई। जबतक पटाखा बना रहे लोग कुछ समझ पाते तबतक विस्फोट हो गया। धमाका इतना जबरदस्त था कि कोठरी की पक्की दीवारें व उसपर रखी सीमेंट की चादरों का मलबा चारों ओर 100 मीटर तक बिखर गया।तेज धमाके की आवाज सुनकर गांव के लोग दौड़ पड़े और देखा तो मंजर खौफनाक था। कमलू का 16 वर्षीय बेटा अरुन कुमार की मौत हो चुकी और शव जल रहा था। अशोक का 14 वर्षीय बेटा सुजीत, हरिश्चंद्र का 13 वर्षीय बेटा सौरभ, गरीबे का 14 वर्षीय पुत्र आशीष, और रामबरन का 14 वर्षीय बेटा लवकुश गंभीर घायल होकर तड़प रहे थे। सूचना पर आई पुलिस ने एंबुलेंस से घायलों को सीएचसी भेजा। डॉक्टरों ने सुजीत को गंभीर हालत में जिला अस्पताल भेज दिया। प्रभारी निरीक्षक राजेंद्र सिंह ने बताया कि फैक्ट्री मालिक फखरुद्दीन को हिरासत में लेकर अन्य पहलुओं पर बारीकी से जांच की जा रही है।विस्फोट के समय कोठरी में पांच किल़ो बारुद, 15 सौ पटाखे, 500 सीको व 500 मस्ताब तैयार रखे थे। यहां पर नाबालिगों से पटाखे बनवाए जा रहे थे। स्थानीय लोगों ने बताया कि 500 पटाखे बनाने पर 50 रुपया दिया जाता था। दिन भर में 50 रुपये कमाने के लिए किशोर यहां काम करते थे।किशोर की मौत की खबर के बाद माता-पिता बदहवास हो गए। मां नन्हकई, बड़ी बहन आरती, बड़ा भाई पवन रो रोकर अचेत हो रहे थे। स्वजनों ने बताया कि अरुन भाई-बहनों में सबसे छोटा होने के कारण सबका दुलारा था।घटना में एक की मौत हुई और चार किशोर झुलसे है। फैक्ट्री मालिक के पास पटाखे बनाने का लाइसेंस था। मामले की जांच सीओ पुरवा को सौंपी गई है। अग्निशमन यंत्रों के पर्याप्त इंतजाम व लाइसेंस की शर्तों का उल्लंघन की जांच कराकर संबंधित पर कार्रवाई की जाएगी। -आनंद कुलकर्णी, एसपी।

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» फेक फेसबुक आइडी बनाकर स्क्रैप कारोबारी से ठगी

» किदवई पुलिस का बदमाशों को खुला संरक्षण आम आदमी दहशत मे

» घाटमपुर मीनारपुर गांव मे अराजक तत्तो तोड़ी अंबेडकर प्रतिमा

» उत्तर प्रदेश पुलिस बदमाशों को छोड़कर पत्रकारों पर हावी

» बालिका गृह से भागी किशोरी मैनपुरी में प्रेमी के पास मिली, बताया-कैसे फांदी थी बीस फीट की दीवार

 

नवीन समाचार व लेख

» क्रशर कारोबारी की मौत पर अब हत्या का मुकदमा, महोबा पुलिस को ढूंढे नहीं मिल रहे निलंबित एसपी

» उन्नाव की पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट से दहले लोग, किशोर की मौत, चार की हालत गंभीर

» अलीगढ़ मे गला दबाकर की गई थी बालक की हत्या, खाली प्लॉट में पड़ा मिला शव

» मेरठ में पैसे मांगने पर डेयरी संचालक ने मजदूर को बंधक बनाकर पीटा,

» मेरठ में फिर पकड़ी तमंचा फैक्‍ट्री, दो आरोपित गिरफ्तार,71 तमंचे भी बरामद