मामूली विवाद में तीन दोस्तों को दौड़ा-दौड़ाकर बेरहमी से पीटा, एक की मौत

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मामूली विवाद में तीन दोस्तों को दौड़ा-दौड़ाकर बेरहमी से पीटा, एक की मौत


🗒 बुधवार, सितंबर 16 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मामूली विवाद में तीन दोस्तों को दौड़ा-दौड़ाकर बेरहमी से पीटा, एक की मौत

उन्नाव-अचलगंज मार्ग के बंथर चौराहे पर रविवार को हुए मामूली विवाद में ढाबा संचालक और उसके साथियों ने सिपाही भर्ती में चयनित सुमित व उसके दो दोस्तों को डंडे और रॉड से पीटा। तीनों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया और घटनास्थल से कुछ दूर पर तैनात पुलिस पिकेट तमाशबीन बनी रही। बुधवार सुबह सुमित की मौत हो गई, जबकि उसके दोस्तों की हालत नाजुक बनी हुई है। पोस्टमार्टम हाउस पर स्वजनों ने कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा किया। स्वजनों का आरोप है कि घटना के बाद अचलगंज पुलिस मामले पर पर्दा डालने की कोशिश करती रही।चकेरी थाना क्षेत्र के दहेली सुजानपुर के भवानीनगर निवासी स्क्रैप कारोबारी बृजेश ङ्क्षसह का 23 वर्षीय इकलौता बेटा सुमित सिपाही भर्ती परीक्षा में चयनित हुआ था। छह अक्टूबर से उसकी ट्रेङ्क्षनग शुरू होनी थी। 13 सितंबर की दोपहर उसके पास एयरफोर्स में तैनात दोस्त संग्राम का फोन आया। संग्राम ने बताया कि लखनऊ से उसका कुछ सामान आना है। इस पर सुमित अपराह्न तीन बजे मोहल्ले के शुभम ङ्क्षसह, उत्कर्ष साहू उर्फ वासु, कोयला नगर के शुभम सेंगर, सैनिक चौराहा निवासी मंजुल के साथ कार से बंथर चौराहे पर पहुंचा। कार किनारे खड़ी कर उत्कर्ष, शुभम ङ्क्षसहऔर सुमित पास ही ढाबे से पान मसाला लेने गए। मंजुल ने बताया कि ढाबे वाले ने मसाले की कीमत ज्यादा मांगी।इस पर न लेने की बात कहकर तीनों लौटने लगे तो विवाद हो गया। आरोप है कि इसके बाद ढाबा संचालक ने अपने आधा दर्जन साथियों संग मिलकर तीनों को बेरहमी से दौड़ा दौड़ाकर पीटा। लाठी डंडे और लोहे की रॉड से तीनों के सिर पर वार कर लहूलुहान कर दिया। पास ही पुलिस की पिकेट थी, लेकिन कोई सिपाही बचाने नहीं आया। कार में बैठे मंजुल व शुभम सेंगर को पता लगा तो वह अपने तीनों साथियों को लेकर रामादेवी स्थित एक निजी अस्पताल लाए, जहां डॉक्टरों ने उन्हें रेफर कर दिया। यहां से तीनों को कृष्णा अस्पताल में भर्ती कराया गया। बुधवार सुबह सुमित की इलाज के दौरान मौत हो गई।नाती के साथ मारपीट की घटना की खबर उत्कर्ष के बाबा 72 वर्षीय राज किशोर को मंगलवार की रात पता चली। उसकी गंभीर हालात सुनकर उन्हें गहरा धक्का लगा। आधी रात के बाद उन्हें हार्ट अटैक पड़ा और उनकी मृत्यु को गई।तीन दिनों से उन्नाव पुलिस घटना पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही थी। सुमित की मौत की सूचना पर पुलिस हरकत में आई और तीन दिन बाद घटना की रिपोर्ट दर्ज कर अपना बचाव किया। पुलिस ने ढाबा संचालक रजोल मिश्रा और बचोल मिश्रा सहित पांच को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है।  

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» रिचा दुबे के बाद ईडी अब और लोगों से भी कर सकती है पूछताछ

» कानपुर - जिलाधिकारी ने किया पतारा ब्लॉक राजकीय धान क्रय केंद्र का औचक निरीक्षण ।

» बर्रा ससुराल वालों ने ही नवविवाहिता की जान ली ।

» हमीरपुर के राठ कस्बे में दिनदहाड़े हत्या

» कानपुर-कासगंज रेल रूट पर पटरी से उतरे मालगाड़ी के 4 डिब्बे

 

नवीन समाचार व लेख

» मथुरा में ईसाई समाज की बेशकीमती संपत्ति पर भू माफिया कब्जा

» जिला जेल में मिली आ व्यवस्थाएं तेज तर्रार न्यायिक अधिकारी ने की जांच।

» मथुरा पुलिस और अग्निशमन विभाग की टीम ने साइकिल की दुकान से कि लाखों की आतिशबाजी जप्त।

» कोरोना गाइडलाइन के उल्लंघन पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर पर केस दर्ज

» मुख्तार अंसारी के करीबी ने कैंसर पीड़ित ठेकेदार को धमकाया, तीन लाख रुपये हड़पे