यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

ईएसआइसी में गड़बडिय़ां मिलने पर विजिलेंस टीम ने 23 फाइलों को किया जब्त


🗒 शनिवार, सितंबर 19 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
ईएसआइसी में गड़बडिय़ां मिलने पर विजिलेंस टीम ने 23 फाइलों को किया जब्त

केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार को कर्मचारी राज्य बीमा निगम के क्षेत्रीय कार्यालय कानपुर में तमाम गड़बडिय़ों की शिकायतें मिल रही थीं। खासकर कोविड काल में ट्रांसफर-पोस्टिंग, निर्माण कार्य में लाखों की हेरा-फेरी तथा बीमितों के मेडिकल बिलों के भुगतान से संबंधित गड़बडिय़ां थीं। केंद्रीय मंत्री के निर्देश पर दिल्ली से आई विजिलेंस टीम ने सर्वोदय नगर स्थित कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआइसी) के पंचदीप भवन में छापा मारा। तीन दिन तक चली जांच में कई गड़बडिय़ां सामने आईं हैं। निजी अस्पतालों को मरीजों के बिलों के भुगतान में हेराफेरी मिली है। बीमितों के लाखों रुपये के मेडिकल बिल निजी घोषणा पत्र पर भुगतान किए जाने का मामला पकड़ा है। बिलों के भुगतान से संबंधित कागजातों की देर रात तक फोटो कॉपी कराई और शनिवार को साथ ले गई। मंगलवार को टीम श्रम मंत्री को अपनी जांच रिपोर्ट देगी।बुधवार शाम को दिल्ली से विजिलेंस की टीम ईएसआइसी के क्षेत्रीय कार्यालय जांच करने पहुंची। विजिलेंस टीम में उपनिदेशक शिवेन्द्र कुमार, मुकेश कुमार और सहायक निदेशक रोहताश मीणा ने शामिल रहे। टीम के सदस्य गुरुवार, शुक्रवार रात देर रात तक जांच-पड़ताल करते रहे। जांच अधिकारी उस समय हैरत में पड़ गए जब निजी घोषणा पत्र पर बिलों के भुगतान की फाइल सामने आई। सभी बिलों की फोटोकापी देर रात तक कराई। इसके अलावा 15 फाइलों को स्थानीय अधिकारियों से सत्यापन कराकर सील कर दिया। 23 फाइलों में गड़बड़ी अधिक मिलने पर जब्त कर लिया है, जिसे अधिकारी अपने साथ लेकर चले गए।जांच में विजिलेंस टीम ने पाया कि एक ही बिल नंबर पर हफ्तों तक खरीद होती रही। एक तारीख पर बिल बुक में खरीद पर एक नंबर रहा, लेकिन एक महीने के बाद दो नंबर पर अगली खरीद की गई। इस बीच, केयर टेकर में खरीद हुई, लेकिन बिल नहीं काटे गए। उसी नंबर पर वाउचर भी लगाए जाते रहे।जिम्मेदार अधिकारियों की संस्तुति के बिना ही निर्माण और रखरखाव से संबंधित बिलों का भुगतान होता रहा। कुछ फाइलें ऐसी मिली हैं, जिसमें खरीद पहले की गई लेकिन अनुमति बाद में ली गई।शनिवार को अवकाश के दिन भी दफ्तर खुला। स्टाफ भी आया, लेकिन टीम ने किसी से कोई बात नहीं की गई। अपर निदेशक आरके कैम ने भी ईएसआइसी निरीक्षकों के साथ बैठक की।  

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» बिल्हौर के मकनपुर में सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट से बिगड़ा माहौल,

» नौबस्ता में पहले नाम बदलकर युवती को प्रेम जाल में फंसाया, फिर धर्म परिवर्तन करा की शादी

» पनकी इंडस्ट्रियल एरिया के गोदाम से चोरी मामले मे पुलिस ने ट्रक चालक व उसके साथी को दबोचा

» मामूली विवाद में तीन दोस्तों को दौड़ा-दौड़ाकर बेरहमी से पीटा, एक की मौत

» ग्राम प्रधान ने गोशाला की जमीन पर कब्जा कर करा रहे खेती

 

नवीन समाचार व लेख

» CM योगी को भेजे पत्र में गलत तथ्य से प्रियंका की किरकिरी, शिक्षक भर्ती के शून्य पद वाले जिलों पर मनगढ़ंत सियासत

» ईएसआइसी में गड़बडिय़ां मिलने पर विजिलेंस टीम ने 23 फाइलों को किया जब्त

» इटावा मे दर्दनाक हादसे में गई तीन मौसेरे भाइयों की जान,

» क्रशर कारोबारी की पिस्टल घर पर मिली, एसआइटी को सौंपी

» औरैया में सपा एमएलसी के पूर्व ब्लॉक प्रमुख भाई की करोड़ों की अवैध संपत्ति होगी कुर्क