यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पीएम नरेंद्र मोदी ने ध्यान से सुना कानपुर की मुदिता मिश्रा का भाषण


🗒 मंगलवार, जनवरी 12 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पीएम नरेंद्र मोदी ने ध्यान से सुना कानपुर की मुदिता मिश्रा का भाषण

कानपुर, । स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन पर आयोजित द्वितीय राष्ट्रीय युवा संसद उत्सव में कानपुर की मुदिता मिश्रा के भाषण को पीएम नरेंद्र मोदी ने एकाग्र होकर सुना। कानपुर के पीपीएन डिग्री कॉलेज की मुदिता को प्रधानमंत्री मोदी से संवाद का मौका मिला। वर्चुअल इस कार्यक्रम में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला व केंद्रीय शिक्षा मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक भी थे।नेहरू युवा केंद्र व राष्ट्रीय सेवा योजना के इस कार्यक्रम में मुदिता ने पहले जिला, फिर राज्य उसके बाद राष्ट्रीय स्तर पर पहला स्थान हासिल किया था। मुदिता ने 'वोकल फॉर लोकल भारत को आर्थिक  महाशक्ति बनाने के लिये क्रांतिकारी परिवर्तन का मार्ग प्रशस्त करेगा' विषय पर अपना भाषण दिया था। आज भी मुदिता के भाषण का प्रसारण किया गया। जिसको पीएम नरेंद्र मोदी ने बड़े ध्यान से सुना।मुदिता ने कहा यह पवन परम अनुकूल देख, रे देख भुजा का बल अथाह, तू चलें बेडिय़ां तोड़ अथाह, रोकेगा आकर कौन राह, उठ जाग समय अब शेष नहीं, भारत मां के शारदूल बोल। इन्हीं शब्दों के साथ अपने ओजस्वी भाषण से सभी को हतप्रभ करने वाली छात्रा मुदिता मिश्रा ने दिल्ली संसद भवन के सेंट्रल हॉल में आयोजित नेशनल यूथ पार्लियामेंट में जीत हासिल कर महानगर का नाम देश भर में रोशन कर दिया था।मुदिता का भाषण मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने सुना। बीए तृतीय वर्ष की छात्रा मुदिता ने वोकल फॉर लोकल भारत को आर्थिक महाशक्ति बनाने के लिए क्रांतिकारी परिवर्तन का मार्ग प्रशस्त करेगा विषय पर सोमवार को भाषण दिया था।युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय की ओर से आयोजित नेशनल यूथ पार्लियामेंट पहुंचने के लिए प्रतिभागी को जिला और राज्य स्तर की प्रतियोगिता पार करना था। मुदिता ने यूपी का प्रतिनिधित्व किया था। हर राज्य से प्रथम दो विजेताओं को पार्लियामेंट में हिस्सा लेने का मौका मिला था।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर द्वितीय राष्ट्रीय युवा संसद उत्सव के समापन कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने राजनीतिक वंशवाद को लोकतंत्र का सबसे बड़ा दुश्मन करार दिया और इसे जड़ से उखाड़ फेंकने का आह्वान किया। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि अब केवल सरनेम के सहारे चुनाव जीतने वालों के दिन लदने लगे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि लोकतंत्र का एक सबसे बड़ा दुश्मन पनप रहा है और वह है राजनीतिक वंशवाद। राजनीतिक वंशवाद देश के सामने ऐसी ही चुनौती है, जिसे जड़ से उखाडऩा है। यह बात सही है कि अब केवल सरनेम के सहारे चुनाव जीतने वालों के दिन लदने लगे हैं। राजनीति में वंशवाद का यह रोग अभी पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ है। उन्होंने कहा इसके बावजूद कुछ बदलाव अभी भी बाकी हैं और इन बदलावों को लाने के लिए देश के युवाओं को आगे आना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि वंशवाद की वजह से राजनीति में आगे बढ़े लोगों को लगता है कि उनके पहली की पीढ़यिों के भ्रष्टाचार का हिसाब नहीं हुआ तो उनका भी कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता। उन्होंने कहा कि देश की राजनीति में अभी भी ऐसे लोग हैं जिनका आचार, विचार और लक्ष्य सब कुछ अपने परिवार की राजनीति और राजनीति में अपने परिवार को बचाने का ही है। इस अवसर पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू और  केंद्रीय शिक्षा मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक भी मौजूद रहे।

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» कानपुर में दो दिन तक कुएं में बेसुध पड़ी रही मासूम

» विकास दुबे के कई शस्त्र अब भी पुलिस की पकड़ से दूर, सामने आया हथियारों का MP कनेक्शन

» रनियां में मासूम से दुष्कर्म के आरोपित कानपुर के शातिर को पुलिस मुठभेड़ में गोली लगी

» सिपाही बनकर छापेमारी और उगाही करने वाला चढ़ा पुलिस के हत्थे

» बिकरू कांड मे जांच के दायरे में आए 23 पुलिसकर्मियों ने दिए बयान

 

नवीन समाचार व लेख

» युवती के मोबाइल पर आ रहे थे अश्लील मैसेज, वीमेन पावर लाइन में शिकायत

» सीसी कैमरे में नायब सूबेदार के साथ दिखा सूबेदार

» लखनऊ में 27 निजी समेत 78 अस्पतालों में लगेगी वैक्सीन

» श्रावस्ती में छापेमारी में बरामद हुई 10 लाख की खैर की लकड़ी

» यूपी सचिवालय के समीक्षा अधिकारी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत