यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कानपुर के बिठूर में शटरिंग मजदूर की बेरहमी से हत्या


🗒 बुधवार, जून 16 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
कानपुर के बिठूर में शटरिंग मजदूर की बेरहमी से हत्या

कानपुर, । संभरपुर मोहनपुरवा गांव में बुधवार शाम 28 वर्षीय शटरिंग मजदूर सुरेश कुशवाहा उर्फ पुत्तन की चापड़ से गर्दन काटकर हत्या कर दी गई। उसका शव झोपड़ी में पड़ा मिला। गैस चूल्हे के पास शराब की आधी भरी बोतल, कटा हुआ प्याज व प्लेट में मुर्गे के पंजे पड़े थे। माना जा रहा है कि सुरेश ने किसी को दावत के लिए बुलाया था। उसी ने वारदात को अंजाम दिया। स्वजन ने गांव के दंपती पर आरोप लगाया है। उनकी तलाश जारी है।सुरेश अविवाहित था और झोपड़ी में अकेले रहता था। पड़ोस में बिसातखाने का काम करने वाले भाई राम सिंह और मजदूरी करने वाले रमेश सिंह अपने परिवारों संग अलग झोपड़ियों में रहते हैं। राम सिंह की तबीयत खराब थी, इसलिए वह घर पर आराम कर रहे थे। रमेश मजदूरी करने गए थे। उनकी पत्नी नीलम बच्चों संग मायके रमेल नगर में रह रही हैं। रमेश ने बताया कि शाम को काम से लौटने के बाद वह सुरेश से साबुन मांगने उसकी झोपड़ी में गए। तो देखा कि आंगन में सुरेश का शव खून से लथपथ पड़ा था। शरीर पर केवल अंडरवियर था। गर्दन पीछे की ओर से कटी थी और एक हाथ सिर के नीचे था। उस हाथ में चापड़ भी था। रमेश शोर मचाते हुए बाहर आए और भाई राम सिंह व आसपास के लोगों को बताया। इसके बाद पुलिस पहुंची। फॉरेंसिक टीम को अंदर चूल्हे वाले कमरे में गैस सिलिंडर के पास शराब की हाफ बोतल, थाली में मुर्गे की टांगें, कटा हुआ प्याज व मसाला रखा था। टीम ने चापड़ व चप्पल को कब्जे में लिया।रमेश व राम सिंह ने गांव की महिला व उसके पति पर हत्या करने का शक जताया। उन्होंने कहा कि सुरेश के महिला से संबंध थे। उसके पति से झगड़ा हो चुका था। पुलिस महिला के घर पर पहुंची तो ताला लगा मिला। लोगों ने बताया कि शाम को महिला परिवार संग कहीं चली गई थी। थाना प्रभारी अमित मिश्रा ने बताया कि जिन लोगों पर परिवार ने संदेह जताया है, उनकी तलाश की जा रही है। पुलिस के मुताबिक सुरेश दो वर्ष पूर्व गंगा बैराज पर अंडे का ठेला लगाता था और ईश्वरीगंज गांव में शराब ठेके के पास किराये पर कमरा लेकर रहता था। वहां से वह किसी किशोरी को बहला फुसलाकर ले गया था। तब उसके खिलाफ अपहरण का मुकदमा लिखा गया था। पुलिस ने सुरेश को जेल भी भेजा था। पांच माह बाद उसके भाइयों ने जमानत कराई थी। इसके बाद से सुरेश संभरपुर मोहनपुरवा गांव में रहने लगा। 

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» कानपुर में स्कूल से आते समय वैन में मासूम से छेड़छाड़

» परीक्षा देने आए डाक्टरों पर पथराव, विवाद के बाद दौड़ा-दौड़ाकर पीटा

» जिसे मान बैठे थे बुढ़ापे की लाठी, उसने ही घोट दिया गला

» कानपुर नगर निगम अवर अभियंता का रिश्वत लेते वीडियो वायरल

» पचास हजार रुपये का कर्ज अदा कर पाने पर किसान ने दी जान