यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

शादी का झांसा देकर किया बलात्कार , रिपोर्ट दर्ज,नहीं गिरफ्तार कर पा रही पुलिस.


🗒 शनिवार, अगस्त 14 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
शादी का झांसा देकर किया बलात्कार , रिपोर्ट दर्ज,नहीं गिरफ्तार कर पा रही पुलिस.

कानपुर नगर के बर्रा थाना क्षेत्र की है जहाँ वैभव मिश्रा नाम के ब्यक्ति ने शादी का झांसा देकर घर आयी महिला का किया बलात्कार, मुकादमा दर्ज पर नहीं हो रही गिरफ्तारी , दे रहा लड़की को जान से मारने की धमकी .मामला फ़रवरी २०२१ का है जब पूजा तिवारी (बदला हुआ नाम , जिनके पति की म्रत्यु सन २०१८ में अचानक हो गयी) ने जीवन साथी डॉट कॉम पर आई एक प्रार्थना को स्वीकार किया जो कि वैभव मिश्रा नामक ब्यक्ति की थी , प्रोफाइल के हिसाब से लड़का चार्टर्ड अकाउंटेंट था और उसने लॉ की पढाई भी किया था , प्रोफाइल का रख रखाव लड़के के पिता अनंत राम मिश्रा (पेसे से वकील है )के द्वारा किया जा रहा था, बात आगे बढ़ी तो अनंत राम मिश्रा से पूजा तिवारी की बात फ़ोन पर होने लगी , मामला देखने दिखाने तब पंहुचा लड़के को लड़की और लड़की को लड़का पसंद आ गया , पूजा तिवारी के पिता ने वैभव मिश्रा के घर जाकर सब रस्म रिवाज करते हुए रिश्ता तय कर दिया मंगनी अप्रैल में और शादी जून में होनी तय हुई , लड़की और लड़के के परिवार का एक दूसरे के घर आना जाना सुरु हो गया , लड़की की माने तो वैभव के घर वाले बार बार जिद करके उसको घर बुलाने लगे अगर वो मना करती तो वैभव और उसकी बहन पूजा को उसके घर से लेने आ जाते पूजा कभी कभी वहां रुकने भी लगी उसको वहां अच्छा लगने लगा , बताते चले की वैभव की पत्नी अपने पीछे 1 बेटी और 1 बीटा छोड़ कर 28 जनवरी २०२१ को पेट में अचानक दर्द होने के कारन परमात्मा में विलीन हो गयी , बच्चो के साथ और पूरे परिवार के साथ पूजा को अच्छा लगने लगा और वह अपना घर समझ कर वहां आने जाने व रुकने लगी थी रूकती भी क्यों नहीं सब इतना कहते थे और शादी भी अगले 1 महीने में होनी थी , सब कुछ ठीक चल रहा था परन्तु ३० अप्रैल को वैभव के बाबा का देहांत हो जाता है वैभव का पूरा परिवार गावं जाने लगता है पर वैभव की बहन जो की डाक्टरी की पढाई कर रही थी की परीक्षा अगले कुछ दिनों में थी, वैभव के पिताजी पूजा से कहने लगे की तुम आकर बेटी के पास रुक जाओ उसकी परीक्षा है वो नहीं जा पायेगी , क्योकि इस बार कई दिन लगने वाले थे इसलिए पूजा ने कहाँ की आप एक बार पिताजी और भाई से बात करके अनुमति मांग लेते तो मै आके रुक जाती वैभव के पिता ने ऐसा ही किया और पूजा को उसके घर से इस बात पर अनुमति मिल गयी की दुःख की घडी है ऐसे में अपने ही काम आते है, वैभव और उसका परिवार गावं चला जाता है और अन्त्योथी का काम करने के उपरान्त 10 अप्रैल की रात में वापस आ जाये है .घटना १२ मई की रात की है जब रात को बिजली चली जाती है और काफी देर तक ना आने के कारण वैभव के माता और पिता जो की ऊपर छत वाले कमरे में सोये हुए थे बिजली न होने के कारन नीचे आ जाते है , नीचे कमरों में इन्वर्टर की सुविधा दी हुई है , पूजा जो की नीचे वैभव की बहन के साथ सोयी थी उठ कर बैठ जाती है , काफी देर बैठे रहने के बाद जब बिजली नहीं आती है तो वैभव की माता जी पूजा से कहती है की तुम वैभव के कमरे में जाके लेट जाओ वहां कान्हा भी (वैभव का बेटा ) लेटा हुआ है पता नहीं बिजली कब आएगी ,पूजा ने कहाँ मम्मी जी मै ऊपर जाके के लेट जाती हूँ तो मम्मी ने बोला की ऊपर इन्वर्टर कनेक्शन नहीं है और पता नहीं बिजली कब आएगी , पूजा वैभव के कमरे में दरवजा खुला छोड़ कर लेट जाती है और सो जाती है , पूजा की माने तो उसको अपने ऊपर किसी के होने का अहसास होता है और उसकी आँखे खुल जाती है आँखे खोलते ही वह देखती है की वैभव उसके ऊपर लेता हुआ है और उसने दरवाजा भी बंद कर दिया है वो उठने और चिल्लाने की कोशिश करती है परन्तु वैभव उसका मुह दबा देता है और उस पर बलात्कार करने लगता है , पूजा की माने तो बहोत छुड़ाने पर भी उसने नहीं छोड़ा पर जब पीड़ा हद से जादा होने लगी तो उसने पूरी ताकत से वैभव का हाथ मुह से हटाया और जोर से चिल्लाई चिल्लाने की आवाज से वैभव का बेटा जो की वहीं बेड पर लेटा था जग गया और पूंछने लगा ये क्या है , वैभव डर के तुरंत नीचे उतर गया पूजा का कहना है की उसने अपने कपडे सँभालते हुए वहां से जाने लगी तो वैभव ने उसके पैर पकड़ लिए और किसी से कुछ ना बताने को कहा , तब तक वैभव का बेटा बहार जाकर अपनी बुआ को सब बताने लगा तो सबने उसको डाटते हुए सो जाने को बोला , पूजा ने भी बाहर निकल कर माँ और बहन को आप बीती सुनाई तो सबने कहाँ की अगले महीने शादी हो जाएगी तुम परेशान मत हो , १३ मई को पूजा अपने घर आ जाती है .पूजा की माने तो इस हादसे के बाद वैभव उसको अनदेखा करने लगा और वैभव का फ़ोन देर रात तक ब्यस्त रहने लगा पूंछने पर ग्राहक से बात करता हूँ कह कर बुरा बर्ताव सुरु कर दिया अब पूरा परिवार ना तो फ़ोन करता ना ही फ़ोन उठाता पूजा को मानसिक रूप से बहोत तकलीफ होने लगी थी , पूजा दोबारा ३० मई को फिर से वैभव के घर गयी और शादी के लिए कहा तो वैभव की माता और पिता जी कहने लगे की अभी घर में म्रत्यु हुई है 2 साल शादी नहीं होगी यह बात पूजा ने अपने पिता जी से बताया तो उन्होंने भी वैभव के पिता से बात की परन्तु 2 साल शादी न करने की बात कहते हुए वो लोग फ़ोन काट देते , फिर एक दिन पूजा ने वैभव के पिता को १२ मई को हुए बलात्कार के हादसे को बताया परन्तु पिता जी कहने लगे तो क्या हुआ और क्या बात करनी है बताओ ,ऐसा कहकर फ़ोन काट दिया पूजा को अब लग गया था की उसके साथ धोखा किया गया है .एक दिन अमर उजाला की एक खबर पद कर उसकी हिम्मत बंधी और वह कानपुर नगर के पुलिस आयुक्त के पास अपनी सिकायत लेकर गयी और उनके कहने के उपरान्त महिला थाने में मामला धारा 376 और 120 बी के अंतर्गत दर्ज हो गया .संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज होने के बावजूद भी कानपुर महिला थाना की पुलिस अभी तक अभियुक्त को गिरफ्तार नहीं कर पायी,हमारे संवाददाता के पूंछने पर थाना प्रभारी महिला थाना स्नेहलता बताती है की पुलिस ने ४ से 5 बार वैभव मिश्रा के घर पर दबिस दी है परन्तु अभियुक्त घर से फरार है और खोजने पर भी नहीं मिल रहा है जबकि संवाददाता की माने तो सूत्रों का कहना है की पुलिस केवल एक बार वैभव के घर आई है और वैभव और उसका पूरा परिवार घर पर ही है वो कही नहीं गया है ,संगीन धाराओ में मुकदमा दर्ज होने के बाद भी पुलिस का ऐसा ढुल मुल रवैया किसी और ही तरफ इसारा कर रहा है लड़की का कहना है कि अब वैभव के घर वाले अलग अलग नंबर से फ़ोन करते है और कहते है कि चाहे जहाँ जाओ कुछ कर नहीं पाओगी हमारा मै पैसा पानी की तरह बहा दूंगा अब लड़की अपनी जान का खतरा भी महसूस करने लगी है .

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» अल्पसंख्यक आयोग ने कमिश्नरेट पुलिस से मांगा जवाब

» फेसबुक पर दोस्ती कर लखनऊ में किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म

» हरियाणा निर्मित अवैध अंग्रेजी शराब के साथ कानपुर में पकड़े गए तस्कर

» 40 से ज्यादा लड़कियों को जाल में फंसाकर लाखों ठगे

» क्राइम ब्रांच ने अंतरराज्जीय एटीएम हैकर गैंग को पकड़ा