यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पचास हजार रुपये का कर्ज अदा कर पाने पर किसान ने दी जान


🗒 बुधवार, सितंबर 08 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पचास हजार रुपये का कर्ज अदा कर पाने पर किसान ने दी जान

कानपुर, । बैैंक से लिया 50 हजार रुपये का ऋण न चुका पाने और दो दिन पहले नोटिस आने से परेशान किसान ने जान दे दी। उनका शव अछल्दा थाना क्षेत्र के गांव सलेमपुर के बाहर नीम के पेड़ से रस्सी के सहारे लटका मिला। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव उतारा। स्वजन का रो-रो कर हाल बेहाल है। सलेमपुर गांव के 39 वर्षीय सुखराम भदौरिया के पास तीन बीघा खेती थी। उसी के सहारे वह पत्नी ललिता देवी सहित उसके बेटे योगेंद्र व पुत्री ज्योति का भरण-पोषण करते थे। उन्होंने किसान क्रेडिट कार्ड से वर्ष 2020 में सेंट्रल बैंक आफ इंडिया की अछल्दा शाखा से 50 हजार रुपये का ऋण लिया था। स्वजन ने पुलिस को बताया कि न चुका पाने के कारण बैंक ने छह सितंबर को नोटिस जारी किया गया था। इसे लेकर वह तनाव में आ गए थे। उनके पुत्र योगेंद्र ने पुलिस को बताया कि एक फाइनेंस कंपनी में जमा रुपये न मिलने की वजह से पिता ऋण नहीं लौटा पाए थे। नोटिस आने के बाद से वह तनाव में थे। बुधवार सुबह वह खेत गए थे।काफी देर तक न लौटने पर ङ्क्षचता हुई। इस बीच पिता का शव गांव के बाहर एक खेत में पेड़ से लटका होने की सूचना मिली तो वहां गए। क्षेत्राधिकारी मुकेश प्रताप सिंह व थाना प्रभारी तारिक खान व फोरेंसिक टीम घटनास्थल पहुंची। थानाध्यक्ष तारिक खान ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह पता चलेगी। स्वजन ऋण न चुका पाने पर आत्मघाती कदम उठाने की बात कह रहे हैैं। मामले की जांच की जा रही है।