यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कानपुर देहात से मासूम के अपहरण दिल्ली ले जा रहे रिश्तेदार को पुलिस ने पुखरायां स्टेशन से पकड़ा


🗒 गुरुवार, मई 30 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

कानपुर देहात के बरौर के डुडियामऊ गांव से अपहृत मासूम और अपहर्ता को पुलिस ने गिरफ्तार किया तो अलग ही एक कहानी सामने आ गई। अपहर्ता व उसके रिश्तेदार ने 85 हजार रुपये में बच्चा देने के लिए रिश्तेदार से सौदा किया था। इससे पहले कि वह उसतक बच्चा पहुंचा पाते पकड़े गए लेकिन जब उन्होंने अपहरण का कारण बताया तो एक नई कहानी सामने आई।बरौर के डुडियामऊ गांव से 12 मई की शाम 4 बजे राजू सविता का सात वर्षीय पुत्र विवेक अचानक लापता हो गया था। खोजबीन के बाद उसका पता नहीं लगा तो राजू ने शक के आधार पर गांव निवासी व हाल निवासी ईडब्लूएस 260/876 रतनपुर कालोनी थाना पनकी गंगागंज कालोनी कानपुर नगर में रह रहे प्रांशु मिश्र के खिलाफ 17 मई को अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।प्रांशु का गांव के साथ ही राजू के घर भी आना-जाना था। पुलिस ने उसकी तलाश शुरू की तो वह भूमिगत हो गया था। एसपी राधेश्याम ने बताया कि मंगलवार को बरौर थाना प्रभारी सुखवीर ङ्क्षसह को एक बच्चे के साथ दो लोगों के पुखरायां रेलवे स्टेशन पर खड़े होने व कहीं जाने की तैयारी की सूचना मिली। इस पर वह दारोगा धर्मेंद्र कुमार व अन्य पुलिस बल के साथ पहुंचे और घेराबंदी कर प्रांशु व राजू तिवारी को दबोच लिया। मौके से अपहृत मासूम विवेक को सुरक्षित संरक्षण में लिया गया।

कानपुर देहात से मासूम के अपहरण दिल्ली ले जा रहे रिश्तेदार को पुलिस ने पुखरायां स्टेशन से पकड़ा

रतनपुर कालोनी, पनकी कानपुर निवासी प्रांशु मिश्र का अक्सर डुडियामऊ पैतृक गांव आना जाना होता था। उसके फूफा प्रदीप के सगे भाई राजू तिवारी की शादी के 14 वर्ष बाद भी कोई संतान नहीं थी। इस पर वह अक्सर प्रांशु से कोई बच्चा दिलाने की बात कहते थे। प्रांशु ने पुलिस को बताया कि अक्सर गांव आने के दौरान बच्चों संग प्रांशु को खेलता देखता था। एक दिन फूफा की बात दिमाग में कौंध गई। टॉफी व मिठाई देकर मासूम विवेक से परिचय बढ़ाया। जब वह खुद उसके पास आने लगा तो 12 मई की शाम मौका पाकर बोलेरो में बिठा लिया अपहरण कर लिया। इसके बाद फूफा के भाई राजू तिवारी को फोन कर सिकंदरा बुलाया और उसे बच्चा सौंप दिया।कानपुर देहात एसपी ने बताया कि अपहर्ता प्रांशु मिश्र ने बच्चे को अपने फूफा प्रदीप के सगे भाई मूल रूप से हसैना थाना मुस्करा हमीरपुर व वर्तमान में मकान नंबर 38, गली नंबर 8, समयपुर बादली दिल्ली निवासी राजू तिवारी को बेचने की बात कबूली। राजू तिवारी ने बच्चे के एवज में उसे 85 हजार रुपये देने की जानकारी दी। प्रांशु के पास से 15,500 रुपये बरामद किए गए हैं। अपहरण में इस्तेमाल की गई बोलेरो भी कब्जे में ली गई है। कोर्ट में पेशी के बाद दोनों को जेल भेज दिया गया।

कानपुर देहात से अन्य समाचार व लेख

» शिवली कोतवाली अंतर्गत फसल की रखवाली करने गए वृद्ध की धारदार हथियार से हत्या

» कानपुर देहात मे यूपीकॉप की मदद से 12 साल बाद अपनों से मिलेगा खोया बेटा

» कानपुर देहात मे पुलिस चौकी में दारोगा की निजी पिस्टल से चली गोली माथे पर लगने से दीवान की मौत

» कानपुर देहात में नहर की सफाई में श्रमिकों के हाथ आया खजाना, विवाद होने पर लगी पुलिस को भनक

» विकास को ही मानना चाहिए भगवान, चुनाव को देख भाजपा मुद्दे से भटकी: अखिलेश यादव

 

नवीन समाचार व लेख

» तिलोक पुरवा मंदिर के निकट बीती रात हुआ भीषण एक्सीडेंट दो की मौत एक घायल।

» क्रांतिकारी जनसंघर्ष मोर्चा सामाजिक संगठन ने किया बृक्षारोपण।

» आगरा मे अनबन पर प्रेमिका ने खाया जहर; अस्पताल में देखने पहुंचे प्रेमी के परिवार को लड़की के घरवालों ने पीटा

» जिला गोंडा में भाजपा के बूथ अध्यक्ष पर कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला, हालत गंभीर

» अब गलत शिकायत पर दंड के प्रावधान पर पुनर्विचार करेगा चुनाव आयोग