यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कासगंज में गंगा नदी में डूबे पांच श्रद्धालु, चार की मौत, एक लापता


🗒 गुरुवार, जून 09 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
कासगंज में गंगा नदी में डूबे पांच श्रद्धालु, चार की मौत, एक लापता

कासगंज ,  । गंगा स्नान के लिए कासगंज जनपद में गंगाघाटों पर भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। गुरुवार की भोर से ही तीर्थनगरी सोरों के हरिपदी घाट, लहरा, कछला, कादरगंज, शहबाजपुर गंगाघाट पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। श्रद्धालुओं ने मां गंगा का अभिषेक किया। चंदन टीका लगाकर सुख समृद्धि की कामना की।स्नान के दौरान कुछ हादसे घटित हो गए।गंगा दशहरा पर्व पर स्नान के लिए पहुंचे श्रद्धालुओं में से पांच श्रद्धालु गंगा नदी में डूब गए। जिनमें से चार श्रद्धालुओं के शव गोताखोरों ने नदी से बाहर निकाले हैं जबकि एक श्रद्धालु पानी में डूबकर लापता है। जिसकी तलाश के लिए गोताखोरों की टीमें लगी हुई हैं।गंगा स्नान के लिए शहबाजपुर गंगाघाट पर पहुंचे सहावर थाना क्षेत्र के गांव मंगदपुर निवासी 18 वर्षीय सौरभ विनोद कुमार, 16 वर्षीय निखिल पुत्र कमलेश, 15 वर्षीय ममतेश पुत्र देवेंद्र गंगा स्नान के दौरान वे पानी की गहराई तक पहुंच गए और डूबने लगे। घाट पर चीख पुकार मच गई। गोताखोर बचाव के लिए नदी में उतरे। लगभग आधा घंटे की मशक्कत के बाद सौरभ और निखिल को बेहोशी की हालत में निकाला गया। जबिक ममतेश की तलाश जारी रही।अस्पताल में चिकित्सकों ने निखिल और सौरभ को मृत घोषित कर दिया है। परिवार के साथ गंगा स्नान को पहुंचे पटियाली क्षेत्र के गांव नगला तरसी निवासी आठ वर्षीय जनक पुत्र भूली सिंह गंगा में डूब गया। गोताखोरों ने एक घंटे की मशक्कत के बाद बालक का शव गंगा नदी से बाहर निकाला। वहीं कादरगंज घाट पर गंगा स्नान के लिए परिवार के साथ गए 12 वर्षीय बलवीर पुत्र मुकेश शाक्य गंगा नदी में डूब गया। गोताखोरांें ने शव गंगा नदी से बाहर निकाला है।शहबाजपुर गंगा घाट पर तीन श्रद्धालु स्नान के दौरान डूबे जिनमें से दो के शव निकाल लिए हैंं एक की तलाश जारी है। कादरगंज घाट पर दो श्रद्धालु डूबे दोनों के शव गोताखोरों ने नदी से निकाल लिए हैं। - राजीव निगम, तहसीलदार पटियालीघाटों पर सुबह से ही श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। जगह-जगह समाज सेवियों ने पेयजल कही प्याऊ लगाई। यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए पुलिस और प्रशासन की टीमें जुटी रही।