यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अपनी गिरफ्तारी के डर से कौशांबी के युवक ने कर ली आत्महत्या


🗒 गुरुवार, दिसंबर 02 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अपनी गिरफ्तारी के डर से कौशांबी के युवक ने कर ली आत्महत्या

कौशांबी , । गलत संगत की वजह से तमाम लोगों को खामियाजा भुगतना पड़ता है। पता चला कि अपराध साथी ने किया लेकिन सजा आपको भी झेलनी पड़ गई। कई बार ऐसा हो चुका कि बेकसूर होने के बाद भी दोस्त के अपराध में साथी को भी गिरफ्तारी और जेल झेलनी पड़ी। ताजा मामला तो और भी दुखद है। कौशांबी के पिपरी इलाके में एक युवक के साथियों ने बकरी चुरा ली। उस वक्त साथ मौजूद रहे युवक को बचकर भागना पड़ा मगर पुलिस खोजने लगी। गिरफ्तारी के डर से युवक ने जहर खाकर जान दे दी। संगत का नतीजा यह कि युवक की मौत से अब दो बच्चों समेत उसकी पत्नी बेसहारा हो गई है। उसका विलाप और आंसू थम नहीं रहे हैं।घटनाक्रम कुछ यूं है। पिपरी के असरावे खुर्द गांव निवासी 26 साल के सोनू के पिता गणेश का दस वर्ष पहले बीमारी की वजह से निधन हो चुका है। फिर उसकी मां भी जाने कहां चली गई। युवक पत्नी और समेत दो बच्चों के साथ रहता था। सोनू मजदूरी कर पत्नी-बच्चों के साथ गुजारा कर रहा था। इसी बीच उसकी संगत कुछ ऐसे युवकों के साथ हो गई जिनकी गतिविधियां ठीक नहीं थीं। इन्हीं साथियों के साथ वह बुधवार को भी घर से निकला था। पिपरी के एक गांव में वह बकरी चोरी के आरोप में ग्रामीणों से घिर गया। उसे अपनी बाइक छोड़कर वहां से भागना पड़ा। पिपरी पुलिस ने उसकी बाइक कब्जे में ली। बाइक से सोनू का नाम-पता चलाकर उसकी तलाश पुलिस ने शुरू की।पता चला कि सोनू के दोस्तों ने कुछ दिन पहले बकरी चोरी की थी। इसी वजह से ग्रामीणों ने घेरा था। खुद भी गिरफ्तारी और जेल भेजने के डर से सोनू ने रात में जहर निगल लिया। उसकी हालत बिगड़ने लगी। आनन-फानन उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां रात करीब एक बजे उसकी सांस थम गई। उसकी मौत ने पत्नी को सदमे में डाल दिया। वह रोती-कलपती रही। बच्चों को सीने से लगाकर रोती पत्नी को गांव की महिलाएं संभालने का प्रयास करती रहीं। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।