यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सिचाई विभाग के बाबू बन गए हैं विभाग के आका


🗒 शनिवार, मार्च 21 2015
🖋 Shivam Sahu, Managing Editor All Up

ललितपुर -ललितपुर के लघु सिंचाई विभाग में तैनात बाबू के ठाठ-बाँट किसी से कम नहीं है।इन बाबू की मर्जी के बिना लघु सिंचाई विभाग में पत्ता भी नहीं मिलता।वैसे तो विभागाध्यक्ष अधिशाषी अभियंता होता हैं,परन्तु अपनी पकड़ के बल पर यह बाबू विभाग का आका बन बैठा है।अधिशाषी अभियंता से लेकर अवर अभियंता तक सभी इस वरिष्ठ सहायक के इशारों पर काम करते हैं।बात यही नहीं रुक जाती हैं।इस वरिष्ठ सहायक की चरण वंदना करने वाले ठेकेदारों को वरीयता के आधार पर निर्माण कार्यों के ठेके निविदा प्रक्रिया को ताक पर रखकर दिए जाते हैं।यह ठेके देने में यह बाबू मोटा कमीशन ठेकेदारों से वसूलता हैं।इस बाबू के रसूख का अंदाज आप इससे भी लगा सकते हैं कि यह वर्षों से एक ही जनपद में तैनात रहने के साथ -साथ कैशियर जैसे महत्वपूर्ण पटल का कार्य भी देख रहा है।जबकि नियमानुसार कोई बाबू तीन साल से अधिक एक ही पटल का कार्य संचालित नहीं कर सकता हैं।परन्तु अपने रसूख के चलते यह वर्षों से कैशियर जैसे पटल का कार्य संचालित कर रहा है। इस बाबू अपने रसूख के चलते नियमों को ताक पर रखकर काम करता है।लघु सिंचाई विभाग में जब करोड़ो की लागत के चैकडेम,बंधी सहित अन्य निर्माण कार्य के ठेके आते हैं।तो ठेकेदार टेण्डर प्रकाशित होने का इंतजार ही करते रहते हैं।वही मोटी कमीशन देने वाले ठेकेदार इस बाबू की परिक्रमा कर ठेके पा जाते हैं।विभाग में यह खेल लंबे अंतराल से बददस्तूर जारी है।कई अवर अभियंताओ को तो माप पुस्तिका(एम बी) करने के समय जानकारी मिलती हैं कि यह निर्माणाधीन परियोजना मेरी थी।मजबूरी में अवर अभियंताओ को घटिया निर्माण कार्यों की एम बी करनी पड़ती हैं।नहीं। तो यह रसूखदार बाबू/कैशियर इस गुस्ताखी पर नाराज हो जायेंगे।कई अवर अभियंता अपने साथ घटित हुई यह आब बीती सुना चुके हैं।परन्तु कोई भी अवर अभियंता इस ताकतवर बाबूसे लड़ने की हिम्मत नहीं कर पाता है। लघु सिंचाई विभाग के निर्माण कार्यों में धांधली व अनिमित्ततायें बरतकर यह भ्रष्ट वरिष्ठ बाबू करोड़ो रुपये की अवैध संपति अर्जित कर चुका है।उच्चाधिकारी भी इस बाबू पर कार्यवाही करने से डरते हैं।क्योंकि इस यादव सिंह की ऊंची पहुंच का सभी हवाला देते हैं।यह बाबू भी नोटों के बल पर सभी को खरीदने की धमकी देता रहता है।जिस भी राजनैतिक दल की सत्ता प्रदेश में आती हैं।उस राजनैतिक दल के कद्दावार नेता इस बाबू का रक्षण करते नजर आते हैं।यह बाबू मीडिया मैनेजमेंट में भी माहिर हैं। जनपद के जिलाधिकारी जुहैर बिन सगीर से इस भ्रष्ट लिपिक की शिकायतें की गई हैं।जिलाधिकारी ने भी शीघ्र ही कार्यवाही क आश्वासन दिया है।उन्होंने कहाकि है कि इस भ्रष्ट लिपिक के काले कारनामों की जांच कराई जायेगी।

ललितपुर से अन्य समाचार व लेख

» शीर्ष वरीयता पर जल जीवन मिशन - CM योगी

» भगवान श्रीराम की कथा वास्तव में भारत की कथा - CM योगी

» भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश के लोगों को किया गुमराह - अखिलेश

» गोदाम पर हो रही घटतौली से परेशान कोटेदारों ने दिया ज्ञापन

» नाबालिग लड़की से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में सपा तथा बसपा जिलाध्यक्ष गिरफ्तार