यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आइएसआइएस के संपर्क में था अहमद मुर्तजा अब्बासी, गहन पड़ताल जारी


🗒 शनिवार, अप्रैल 30 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
आइएसआइएस के संपर्क में था अहमद मुर्तजा अब्बासी, गहन पड़ताल जारी

लखनऊ, । गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर के बाहर सुरक्षाकर्मियों पर जानलेवा हमला करने वाला अहमद मुर्तजा अब्बासी बेहद शातिर है। उत्तर प्रदेश एटीएस की टीम उससे सख्ती से पूछताछ कर रही है। सुरक्षा एजेंसियों की सख्ती पर उसने आज बड़ा राज खोला है।अहमद मुर्तजा अब्बासी से बड़े राज खुलवाने में लगीं जांच एजेंसियों की पड़ताल के दौरान मुर्तजा पर बड़ा खुलासा हुआ है। जांच एजेंसियों ने माना कि मुर्तजा आइएसआइएस के सम्पर्क में था। अब्बासी ने विदेशी सिम कार्ड भी खरीदा था। इसके जरिए आइएसआइएस जैसे खतरनाक आतंकी संगठनों के संपर्क में आया था। वह विदेशी सिम कार्ड की मदद से आइएसआइएस के सम्पर्क में था। उसने नेपाल के रास्ते लाखों रुपया सीरिया भेजा था। उसने कई बार नेपाल के जरिए सीरिया में लोगों के पास पैसे भी भेजे थे। इसकी शुरुआत उसने 2012 से 2015 के बीच की। बीते डेढ़ साल के दौरान वह करीब आठ लाख रुपये नेपाली बैंकों के जरिए सीरिया भेज चुका है। मुर्तजा मुम्बई में बीटेक की पढ़ाई के दौरान ही आतंकी संगठनों के संपर्क में आ गया था। वह यमन मूल के के अमेरिकी इमाम अनवर नासिर अल अवलाकी से भी प्रभावित है।एटीएस ने मुर्तजा अब्बासी को गोरखपुर पुलिस की कस्टडी से अपनी कस्टडी में ले लिया है। उसे लखनऊ मुख्यालय लाकर पूछताछ की जा रही है। एडीजी ला एंड आर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि गोरखनाथ मंदिर के सुरक्षाकर्मियों पर हमले के मामले में हमारी गिरफ्त में आए आरोपित अहमद मुर्तजा अब्बासी से गहन पड़ताल जारी है। उसके कई ई-डिवाइस, उसके विभिन्न सोशल मीडिया अकाउंट जैसे जीमेल, ट्विटर, फेसबुक के साथ ही साथ ई-वॉलेट का डेटा विश्लेषण किया गया है। प्रशांत कुमार ने बताया कि गोरक्षनाथ मंदिर की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों पर हमले के अभियुक्त मुर्तजा से यूपी एटीएस की गई पूछताछ में आतंकी संगठन आइएसआइएस के एक्टिविस्ट से सम्पर्क में होने, आइएसआइएस की शपथ लेने व इस आतंकी के समर्थकों को आर्थिक सहायता देने की पुष्टि हुई है।मुर्तजा ने इंटरनेट मीडिया अकाउंट की पड़ताल में खुलासा हुआ है कि वह इस्लामिक अवेकनिंग फोरम पर इस्लाम की बातें सुनता और सवाल पूछता था। उसने 29 डालर का विदेशी सिम खरीदा था, जिसके जरिए वह सोशल मीडिया अकाउंट बनाकर सीरिया, अरब क्रांति और आइएसआइएस से जुड़े वीडियो देखता था। एटीएस को मुर्तजा के एक टेलिग्राम अकाउंट के बारे में भी पता चला है। मुर्तजा के बैंक खातों की करीब 20 लाख रुपये हैं। कुछ खाते निष्क्रिय हैं। मुर्तजा के संपर्क के मामले में पुलिस ने अब तक सहारनपुर, सिद्धार्थनगर और महाराजनगर में छापेमारी की है। सहारनपुर से एक मौलाना को हिरासत में लिया गया है। अब्बासी की काल डिटेल और काल लोकेशन के आधार पर भी उससे संपर्क रखने वालों की धरपकड़ जारी है।