यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यूपी में 31151 स्थानों पर पढ़ी जायेगी ईद की नमाज


🗒 सोमवार, मई 02 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
यूपी में 31151 स्थानों पर पढ़ी जायेगी ईद की नमाज

लखनऊ । उत्तर प्रदेश में ईद-उल-फित्र का पर्व कल (तीन मई) को मनाया जाएगा। इसको लेकर पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए हैं। ईद के मौके पर इस बार सहारपुर, लखनऊ, मेरठ, बिजनौर, अलीगढ़, रामपुर, बरेली समेत अन्य संवेदनशील स्थलों पर अतिरिक्त सुरक्षा प्रबंध होंगे।ईद और अक्षय तृतीय के त्योहार एक साथ पड़ने से पुलिस व प्रशासन की चुनौती भी बढ़ गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी स्थानों पर पूरी सतर्कता बरते जाने के कड़े निर्देश दिये हैं। प्रदेश में चिन्हित 2846 संवेदनशील स्थानों पर पुलिस का अतिरिक्त पहरा होगा। सोमवार रात से ही पुलिस बल की तैनाती कर धार्मिक स्थलों के आसपास पेट्रोलिंग के निर्देश दिये गये हैं।सहारनपुर में अलविदा की नमाज के बाद हुई नारेबाजी की घटना के दृष्टिगत सभी जिलों में पूरी सतर्कता बरतने के साथ ही शरारती तत्वों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिये गये हैं। प्रदेश में मंगलवार कुल 31151 स्थानों पर ईद की नमाज पढ़ी जायेगा। इनमें 7436 ईदगाह व 19949 मस्जिद भी शामिल हैं।एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि पूर्व में हुए विवादों व घटनाओं की समीक्षा के आधार पर चिन्हित संवेदनशील स्थानों पर विशेष पुलिस प्रबंध के निर्देश दिये गये हैं। ईद की सुरक्षा-व्यवस्था में 46 कंपनी पीएसी व सात कंपनी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल भी मुस्तैद रहेगी। चार अतिरिक्त पुलिस उपाधीक्षकों की भी ड्यूटी लगाई गई है। प्रदेश में 2846 संवेदनशील स्थानों पर सुरक्षा के अतिरिक्त प्रबंध रहेंगे।एडीजी के अनुसार कहीं भी परंपरा के विपरीत कोई भी आयोजन नहीं होगा। इसे लेकर पूरी सतर्कता बरतने के कड़े निर्देश हैं। सभी जिलों में विद्युत विभाग, जल-कल विभाग, नगर निगम व अन्य संबंधित विभागों के साथ समन्वय बनाकर पानी व बिजली की आपूर्ति व साफ-सफाई सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये गये हैं।खासकर नमाज के दौरान आवारा पशुओं के विचरण को निषेध कर सभी स्थानों पर इसे लेकर पूरी सतर्कता बरतने को कहा गया है। धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर की आवाज निर्धारित मानकों के अनुरूप ही रखे जाने के निर्देश भी दिये गये हैं। इंटरनेट मीडिया पर भी पुलिस का कड़ा पहरा रहेगा। किसी भी भ्रामक संदेश अथवा अफवाह पर तत्काल खंडन किये जाने का निर्देश भी है।