यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सड़क हादसे रोकने के लिए सीएम योगी गंभीर


🗒 सोमवार, मई 16 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सड़क हादसे रोकने के लिए सीएम योगी गंभीर

लखनऊ, । सड़क दुर्घटनाओं को कम से कम करने के लिए प्रदेश सरकार सड़क सुरक्षा का विशेष अभियान शुरू करने जा रही है। इसके लिए संबंधित विभागों के साथ बैठक कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों कार्ययोजना बनाने का निर्देश दिया था। वह बुधवार को सभी नगर निकायों के जनप्रतिनिधियों से वर्चुअल संवाद कर कार्ययोजना समझाएंगे। उसके बाद अभियान की शुरुआत की जाएगी। मुख्यमंत्री ने सोमवार को अपने सरकारी आवास पर आयोजित टीम-9 की बैठक में निर्देश दिया कि सड़क सुरक्षा के व्यापक महत्व को देखते हुए पुलिस, यातायात, बेसिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा, प्राविधिक शिक्षा, उच्च शिक्षा, परिवहन, नगर विकास, लोक निर्माण आदि संबंधित विभागों के परस्पर समन्वय से जागरूकता अभियान की कार्ययोजना तैयार की जाए।बुधवार को वह इस कार्ययोजना के साथ प्रदेश के सभी नगरीय निकायों के जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ संवाद करेंगे। उसके बाद सड़क सुरक्षा अभियान शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बेसिक और माध्यमिक स्कूलों में बच्चों को यातायात नियमों की जानकारी देने के लिए विशेष प्रयास की जरूरत है। योगी ने यातायात नियमों के संबंध में प्रधानाचार्यों, प्राचार्यों और विश्वविद्यालय के प्रतिनिधियों को प्रशिक्षण देने व अभिभावकों के साथ विद्यालयों में बैठक करने के भी निर्देश दिए।मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़कों पर स्पीड ब्रेकर की खराब डिजाइन आए दिन दुर्घटनाओं का कारक बनती है। इस पर विशेष ध्यान दिया जाए। वहीं, फिटनेस के मानकों पर फेल बसों को किसी भी दशा में सड़क पर न चलने दिया जाए। उन्होंने निर्देशित किया कि एंबुलेंस संचालन से जुड़े कार्मिकों के विशेष प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाए। पीडि़त व घायल लोगों के प्रति अतिरिक्त संवेदनशीलता बरतनी चाहिए। एंबुलेंस के रेस्पांस टाइम को कम से कम करने के लिए तकनीक का सहारा लिया जाए। साथ ही वालंटियरों को भी इस काम से जोड़ें।हाल ही में दिल्ली में हुए अग्निकांड को सरकार ने गंभीरता से लिया है। योगी ने अधिकारियों से कहा है कि पूरे प्रदेश में तत्काल अभियान चलाकर सभी बहुमंजिला भवनों, अस्पतालों, शापिंग काम्प्लेक्स आदि में अग्निशमन व्यवस्थाओं का सघन निरीक्षण किया जाए। प्रदेश में सभी फायर स्टेशन पूरी मुस्तैदी से कार्यरत रहें।