यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सिविल अस्पताल में बढ़ेंगे चार सौ बेड, बनेगा नया ओपीडी भवन


🗒 बुधवार, मई 18 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सिविल अस्पताल में बढ़ेंगे चार सौ बेड, बनेगा नया ओपीडी भवन

लखनऊ, । डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में जल्द 400 बेड और बढ़ेंगे। इन नए बेड बढऩे के बाद अस्पताल में बेडों की संख्या बढ़कर 800 हो जाएगी। अभी 760 बेड वाला बलरामपुर अस्पताल प्रदेश में सबसे बड़ा अस्पताल है। अब सिविल अस्पताल सर्वाधिक बेड वाला अस्पताल होगा। मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में अस्पताल के विस्तारीकरण व आधुनिकीकरण के लिए निष्प्रयोज्य भवनों के ध्वस्तीकरण को मंजूरी दे दी गई है।राजधानी में स्थित सिविल अस्पताल के बगल में सूचना विभाग से मिली जमीन पर पांच मंजिला भवन बनाने की तैयारी है। इस भवन में यूरोलाजी, न्यूरोलाजी, नेफ्रोलाजी, गैस्ट्रोइंट्रोलाजी और कैथ लैब की सुविधा होगी। वहीं हीमोडायलिसिस की सुविधा के साथ-साथ अति गंभीर रोगियों के लिए 50 बेड का आइसीयू बनाया जाएगा। उधर अस्पताल में ओल्ड ओपीडी के कमरा नंबर 13 से लेकर इलाहाबाद बैंक तक के भवन को भी ध्वस्त किया जाएगा।यहां आठ मंजिला भवन बनाया जाएगा। इसमें पहले सात तल पर ओपीडी का संचालन होगा और आठवें तल पर प्रशासनिक कार्यालय होगा। वहीं इसके अलावा पार्किंग की समस्या से निजात मिलेगी। दो तल का पार्किंग भवन यहां बनाया जाएगा और सूचना विभाग की जमीन पर भी बनने वाले भवन में दो मंजिला पार्किंग होगी।दूसरी तरफ परिवार कल्याण विभाग की ओर से स्वास्थ्य कार्यकर्ता और स्वास्थ्य पर्यवेक्षक (पुरुष व महिला) अराजपत्रित सेवा नियमावली 2018 में प्रथम संशोधन को फिलहाल मंजूरी नहीं दी गई। अभी इन पदों पर भर्ती होने वाले कर्मियों को पहले ट्रेनिंग दी जाती है, फिर उनकी नियुक्ति कर जिलों में तैनाती दी जाती। इस नियमावली में संशोधन कर पहले तैनाती देने और फिर ट्रेनिंग करवाने का प्रस्ताव था, जिसे मंजूरी नहीं दी गई।