यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रियंका गांधी वाड्रा ने की कांग्रेस में जान फूंकने की कोशिश, गिनाए कारण


🗒 बुधवार, जून 01 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
प्रियंका गांधी वाड्रा ने की कांग्रेस में जान फूंकने की कोशिश, गिनाए कारण

लखनऊ /  उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पटकनी खाने से बेदम हुई कांग्रेस पार्टी में कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को जान फूंकने की कोशिश की। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं को मायूसी से उबरने और जीत हासिल करने के लिए सौ गुणा ऊर्जा के साथ काम करने के लिए प्रेरित किया।प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित दो दिवसीय नव संकल्प कार्यशाला के मंच से यह भी स्वीकार किया कि जनता से जुड़ाव न हो पाने और आम जन तक अपनी बात न पहुंचा पाने के कारण ही पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा। यह भी बताया कि पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलकर वह हार के कारणों को तो जानने का प्रयास करेंगी ही, खुद अपना भी मूल्यांकन करेंगी कि कमी कहां रह गई।विधानसभा चुनाव के बाद पहली बार लखनऊ आईं प्रियंका गांधी वाड्रा तकरीबन 45 मिनट प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में रहीं। अपने 15 मिनट के संबोधन में उन्होंने कहा कि जो भी हमने किया, वो काफी नहीं था। हम संगठन और अपने कार्यक्रमों में बदलाव तो लाए लेकिन जनता से नहीं जुड़ पाए। जनता से हमारा संवाद नहीं रहा, यहीं हम चूके। पहले कांग्रेस नेता सिर्फ राजनीतिक नहीं, सामाजिक मुद्दों को लेकर और तीज-त्योहारों में भी जनता के बीच जाते थे लेकिन आज हम ऐसा नहीं करते।प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि हमारे कार्यक्रमों में सिर्फ पार्टी के लोग जुटते हैं, जनता नहीं। उन्होंने महंगाई, बेरोजगारी जैसे मुद्दों का जिक्र करते हुए कहा कि जनता से सीधे जुड़े इन मुद्दों को लेकर हमें लोगों के बीच जाना होगा। अपनी गलतियों को सुधारना होगा। गांव-गांव, घर-घर जाकर पार्टी को खड़ा करना होगा क्योंकि अब कोई और रास्ता नहीं है। तभी हम भाजपा का विकल्प बन सकेंगे।उन्होंने उदयपुर के चिंतन शिविर में कांग्रेस की ओर से लिए गए फैसलों को भी समझने पर जोर दिया। नव संकल्प कार्यशाला के पहले दिन पार्टी के डिजिटल सदस्यता अभियान, नगर निकाय चुनाव और सोशल मीडिया के महत्व पर विशेष सत्र हुए जिसमें उदयपुर शिविर में पारित अलग-अलग प्रस्ताव पेश किये गए।पार्टी छोड़कर जाने वालों की ओर इशारा करते हुए प्रियंका ने कहा कि जो निराश थे, वे चले गए। जो यहां बैठे हैं, वे लड़ने वाले हैं। मुश्किल परिस्थितियों में भी आप पार्टी की विचारधारा से डिगे नहीं। यह आपकी सबसे बड़ी उपलब्धि है। कार्यकर्ताओं से लोक सभा चुनाव के साथ नगर निकाय चुनाव की तैयारियों में जुटने के लिए कहा।प्रियंका के आने से पहले नव संकल्प शिविर के मंच पर पूर्व सांसद कौशल किशोर 'कमांडो' और पार्टी के प्रदेश प्रशासन प्रभारी रहे योगेश दीक्षित के बीच बैठने की व्यवस्था को लेकर तीखी झड़प हुई। वहीं प्रियंका जब मंच से उतर कर जाने लगीं तो पार्टी कार्यकर्ता शीला मिश्रा ने आवाज देकर कहा कि 'यहां बहुत गड़बड़ चल रही है, मैं आपको कुछ बताना चाहती हूं।' प्रियंका ने कहा कि 'मैं सबसे बात करूंगी, आपसे भी।'