यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

एक लाख के इनामी पूर्व राजस्व अध‍िकारी पर कसा श‍िकंजा


🗒 बुधवार, जून 15 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
एक लाख के इनामी पूर्व राजस्व अध‍िकारी पर कसा श‍िकंजा

लखनऊ, । पूर्व राजस्व अध‍िकारी विवेकानंद डोबरियाल के 29 अशोक विहार कालोनी खुर्रमनगर स्थित आवास पर कुर्की की नोटिस बुधवार दोपहर चस्पा की है। यह कार्यवाई कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने की है। नोटिस चस्पा करने से पूर्व पुलिस ने वहां पर माइक से एनाउंस किया और डुगडुगी पिटवाई।एडीसीपी पश्चिम चिरंजीव नाथ सिन्हा ने बताया कि बुधवार को कैसरबाग कोतवाली के अतिरिक्त इंस्पेक्टर सुधाकर सिंह पुलिस बल के साथ अशोक विहार खुर्रमनगर स्थित विवेकानंदर डोबरियाल के आवास पर पहुंचे। वहां बाहर कुर्की की नोटिस चस्पा की गई। एडीसीपी ने बताया किकैसरबाग कोतवाली में मुकदमा दर्ज होने के बाद से आरोपित लापता है। विवेकानंद डोबरियाल पर पुलिस एक लाख का इनाम भी घोषित कर चुकी है। 30 दिन के भीतर अगर फरार आरोपित विवेकानंद ने आत्म समर्पण नहीं किया तो संपत्ति की कुर्की कर उसे भगोड़ा घोषित कर दिया जाएगा।पुलिस ने पूर्व राजस्व कर्मी विवेकानंद की करोड़ों की संपत्ति का ब्योरा जुटा लिया है।उल्लेखनीय है कि विवेकानंद पर पद का दुरुपयोग करने तथा ट्रांसफर पोस्टिंग के नाम पर वसूली करने के गंभीर आरोप हैं आरोपित अपने करीबी कर्मचारियों से मिलीभगत कर जमीनों की खरीद-फरोख्त में भी फर्जीवाड़ा करता था। पुलिस की पड़ताल में विवेकानंद के करीबी सरोजनीनगर तहसील के तत्कालीन कानूनगो जितेंद्र सिंह की भूमिका भी उजागर हुई थी। इसके बाद आरोपित जितेंद्र के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज हुआ था।मुकदमा दर्ज होने के बाद से जितेंद्र भी फरार है। यही नहीं जितेंद्र के करीबी आशीष मिश्रा व उसके भाइयों पर भी मुकदमा दर्ज किया गया है। अलग-अलग दर्ज मुकदमों में नामजद आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही की रणनीति बना रही है। फरार सभी आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें दबिश भी दे रही हैं।