यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

शादी का झांसा देकर 1.80 करोड़ ठगे


🗒 मंगलवार, जून 21 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
शादी का झांसा देकर 1.80 करोड़ ठगे

लखनऊ -  अलीगंज इलाके में रहने वाले 70 साल के बुजुर्ग फिजिशियन व हृदयरोग विशेषज्ञ को महिला जालसाज ने शादी का झांसा दिया। फिर अपने साथियों संग मिलकर 1.80 करोड़ रुपये ठग लिए। पीड़ित ने साइबर क्राइम थाने में तहरीर दी जिस पर पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।अलीगंज इलाके में 70 साल के बुजुर्ग फिजिशियन व हृदयरोग विशेषज्ञ रहते हैं। चिकित्सक के मुताबिक, वह वर्तमान में मुरादाबाद के एक नामी अस्पताल में बतौर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक व कंसलटेंट तैनात हैं। उनकी पत्नी का देहांत 2019 में हो गया था। इसके बाद से वह अकेले रहने लगे। अकेले होने के कारण उन्होंने दूसरी शादी करने का मन बनाया। इसके लिए एक नामी अंग्रेजी अखबार में विज्ञापन दिया। इसी विज्ञापन के जरिए कई शादी के प्रपोजल आए।चिकित्सक के मुताबिक, उनको कृषा शर्मा नाम की महिला ने भी प्रस्ताव भेजा था। उनसे व्हाट्सएप चैट व मोबाइल के जरिये संपर्क हुआ। दो मार्च से लगातार संपर्क में रही। कृषा ने खुद को 40 साल की तलाकशुदा महिला बताया। उसने बताया कि वह यूएसए के फ्लोरिडा के मियामी सिटी की रहने वाली है। वह पेशे से मरीन इंजीनियर है। एक अमेरिकन शिपिंग कंपनी में अभी बड़े कार्गो शिप पर तैनात है। करीब डेढ़ महीने बाद कृषा ने मुंबई आने की बात कही।चिकित्सक के मुताबिक, महिला ने बताया कि वह नौकरी छोड़कर व्यापार करेगी। हालांकि डॉक्टर ने कहा कि उसने बता दिया कि वह देश छोड़कर नहीं जाएगा। कृषा ने बताया कि वह गुजराती ब्राह्मण है। उनके पिता नहीं है, मां हैं। उसकी देखभाल के लिए बड़ी बहन है। बताया था कि वह सात साल की शिपिंग की नौकरी कर चुकी है। अब इसे छोड़कर अपना कारोबार करना है। वह भारत में रहने को तैयार हो गई।डॉक्टर के मुताबिक, बातचीत के दौरान कृषा ने कहा कि उसने सात लाख यूएस डॉलर का सोना दक्षिण अफ्रीका से खरीदा है। उसे लखनऊ के पते पर दक्षिण अफ्रीका के रॉयल सिक्योरिटी कोरियर कंपनी से भेजना है। वहां पर सोमालियन पैरेट्स का डर होने से सभी लोग अपने कीमती सामान शिप से हटा रहे हैं। उसके बाद रॉयल सिक्योरिटी कंपनी से मेरे पास व्हाट्सएप पर चैटिंग और मैसेज व ईमेल के जरिए बातचीत होने लगी।इस दौरान अलग-अलग मदों में (परमिशन फीस, कस्टम ड्यूटी का भुगतान, एफटीसीएल का लाइसेंस, फारेन नेशनल को ट्रेडिंग लाइसेंस) अलग-अलग खातों में रुपये जमा कराए गए। यह सभी रुपये भारत के बैंक खातों में जमा कराए गए। जालसाजों ने धीरे-धीरे कर 1.80 करोड़ रुपये हड़प लिए।इसके बाद कृषा शर्मा व अन्य आरोपियों के मोबाइल नंबर बंद आने लगे। पीड़ित को जब ठगी का अहसास हुआ तो उसने कृषा शर्मा, कोरियर कंपनी के जुलु व आरन सहित कई बैंक अधिकारियों की साजिश होने की बात कहते हुए तहरीर दी। प्रभारी निरीक्षक साइबर क्राइम थाना मो. मुस्लिम खान के मुताबिक, पीड़ित चिकित्सक की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।