यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सीएम योगी ने तय किया 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्य


🗒 शनिवार, अगस्त 13 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सीएम योगी ने तय किया 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्य

लखनऊ, । केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं में पहला स्थान हासिल करने वाला उत्तर प्रदेश आजादी के 75वें वर्ष में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर संचालित हर घर तिरंगा अभियान में भी कीर्तिमान बनाने की ओर अग्रसर है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से प्रदेश में 4.5 करोड़ तिरंगे फहराने का लक्ष्य तय किया गया है।इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए प्रदेश के हजारों स्वयं सहायता समूह, गैर सरकारी संगठन, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम इकाइयां दिन और रात एक किये हुए हैं। स्थिति यह है कि उप्र इस लक्ष्य से भी ज्यादा छलांग लगाने की तैयारी कर रहा है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ढाई करोड़ तिरंगे की आपूर्ति का दायित्व प्रदेश के सभी जिलों को सौंपा है जबकि दो करोड़ राष्ट्रीय ध्वजों को खरीदने की जिम्मेदारी सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) विभाग को दी गई है। जिलों में यह झंडे स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी), गैर सरकारी संगठनों, खादी एवं ग्रामोद्योग संस्थाओं के अलावा निजी सिलाई केंद्रों द्वारा तैयार किये जा रहे हैं। जिलों की विभिन्न इकाइयों के माध्यम से 3.26 करोड़ तिरंगे तैयार करने का लक्ष्य है।तिरंगा बनाने में प्रदेश के 17,278 एसएचजी लगे हुए हैं जिन्हें 1.34 करोड़ झंडे तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं एनजीओ, छोटी औद्योगिक इकाइयों और खादी ग्रामोद्योग से जुड़ी 2679 इकाइयों को 1.12 करोड़ झंडे तैयार करने का दायित्व दिया गया है।इनके अलावा प्रदेश के 7392 निजी सिलाई केंद्र भी झंडे सिलने में लगे हुए हैं। निजी सिलाई केंद्रों को 64.33 लाख झंडे सिलने की जिम्मेदारी दी गई है। इस हिसाब से इन इकाइयों के माध्यम से 3.26 करोड़ झंडे तैयार कराने का लक्ष्य तय किया गया था।इसी तरह 1.99 करोड़ झंडे एमएसएमई के माध्यम से उपलब्ध कराए जाने का लक्ष्य रखा गया था। अपर मुख्य सचिव, एमएसएममी व खादी एवं ग्रामोद्योग नवनीत सहगल ने बताया कि 4.50 करोड़ के लक्ष्य से कहीं अधिक झंडे उपलब्घ कराए जा रहे हैं।राज्य में रिकार्ड झंडे की उपलब्धता के साथ ही उन्हें लेने वालों में भी उत्साह कम नहीं है। अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि 10 अगस्त तक सिर्फ राशन की दुकानों, ग्राम पंचायत भवनों, प्राथमिक विद्यालयों व आंगनवाड़ी केंद्रों आदि के माध्यम से ही 1.59 करोड़ झंडों को वितरित किए जा चुके हैं।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ मेट्रो में जल्द नजर आएंगे UPSSF के जवान

» इस बार नहीं अटकेगा 17 OBC जातियों को आरक्षण - संजय निषाद

» अपनी चिंता करें, बीजेपी के संपर्क में सपा के विधायक - भूपेंद्र चौधरी

» चार शातिर चोरों को पुलिस ने किया गिरफ्तार भेजा जेल

» पुलिस को जुआरियों के बारे में बताना युवक को पड़ा महंगा