यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने के बाद भी नहीं नसीब हुई पक्की सड़क


🗒 रविवार, अगस्त 14 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने के बाद भी नहीं नसीब हुई पक्की सड़क

दो पंचायतों के बीच 2 किलोमीटर का कच्चा रास्ता और पांच हजार से ज्यादा की आबादी प्रभावित

उन्नाव -  लखनऊ मंडल से जुड़े होने के साथ-साथ दो महानगरों के बीच बसा है उन्नाव यूं तो उन्नाव कई मायनो में अपने गौरव इतिहास से बहुत कुछ देश को दिया है चाहे आजादी में अहम किरदार की बात करें यह हिंदी को एक नया रूप देने में हर क्षेत्र में उन्नाव से निकले लालो ने अपनी छटा बिखेरी है पर इन सबके बीच विकास की धीमी गति की एक तस्वीर लेकर हम आपके बीच अपने खबर के माध्यम से हाजिर हैं जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित 2 ग्राम सभा दोनों के बीच में लगभग 2 किलोमीटर का कच्चा रास्ता जो आज भी कच्चा ही है एतिहात के तौर पर 2 पंचायतों के प्रधान समय-समय पर मनरेगा के माध्यम से मरम्मत कराकर काम चलाते चले आ रहे हैं पाली और सेवरा के मजरा चिलौला के बीच 2 किलोमीटर का कच्चा रास्ता 1947 से लेकर आज भी कच्चा ही है वहां से गुजरने वाले राहगीर सूर्य की पहली किरण और सूर्यास्त के बाद बमुश्किल आते जाते नजर आते हैं बरसात के समय समस्या और बढ़ जाती है वह कच्चा रास्ता दलदल में तब्दील हो जाता है इन सबके बीच 1 किलोमीटर के दायरे में सरकारी फॉरेस्ट है जंगल इतना घना है की जंगली जानवरों का खतरा भी राहगीरों पर बना रहता हैचिलौला गांव निवासी नंदकिशोर कुम्हार बताते हैं हमारी उम्र 45 साल की हो चुकी और मैं 25 साल से दही चौकी की कंपनिय में नौकरी करता चला आ रहा हूं साइकिल की सवारी करता हूं बचपन जवानी इसी रास्ते से गुजर गया हमें नहीं लगता हमारे लिए भी पक्की सड़क बनाई जाएगी इसी गांव निवासी सरोज का कहना है मैं इसी कच्चे रास्ते का प्रयोग कर व्यवसाय करने के लिए उन्नाव शहर आता जाता रहता हूं सूर्योदय के साथ घर से निकलता हूं और कोशिश करता हूं ज्यादा अंधेरा ना हो पाए अपने घर सही सलामत समय से अपने घर पहुंचे क्योंकि हमें 2 किलोमीटर के रास्ता को पार करने में ज्यादा समय लगता है दोनों तरफ जंगली बबूल के पेड़ों ने रास्ते को घेर रखा है और अब तो बारिश भी हो रही तो समस्या और ज्यादा बढ़ जाती है वहीं सरोज ने बताया ये कच्चा रास्ता कागज पर पक्का बना हुआ दिखाई देता है आप इसे अगर नेट पर सर्च करोगे तो आपको भी यह बना हुआ दिखाई देगा पाली ग्राम सभा से क्षेत्र पंचायत सदस्य संतोष कुमार ने जानकारी दी इस बार जब विधायक जी ने चुनाव जीता था तो हम लोग उनके पास इस कच्चे रास्ते को बनवाने के लिए गए थे उन्होंने आश्वासन भी दिया था एक लेटर भी विधायक जी ने जारी किया था जिसमें दिखाया गया था कि यह रोड पीडब्ल्यूडी से पास हो चुकी है और इसका निर्माण कार्य जल्द ही कराया जाएगा जहां तक हमें जानकारी है जमीनी निरीक्षण के लिए जिले से अधिकारी भी आए थे पर यह बात हमारे समझ में नहीं आती की एक कच्चा रास्ता कागजों पर ही क्यों सिमट कर रह जाता है अगर यह रास्ता बन जाए तो युवाओं के लिए रोजगार के अवसर खुल जाएंगे जो छात्र छात्राएं पढ़ने के लिए कम संख्या में आते जाते हैं उनकी भी संख्या बढ़ जाएगी उप जिलाधिकारी हसनगंज देवेंद्र प्रताप सिंह ने जानकारी दी अभी मैं तबादला के तहत आया हूं मुझे 3 दिन हुए हैं हमें इस रास्ते की कोई कोई जानकारी नहीं है आप अपने ब्लॉक संबंधित खंड विकास अधिकारी से जानकारी कर ले/

उन्नाव से अन्य समाचार व लेख

» युवक ने तनाव में फंदा लगाकर दे दी जान

» उन्नाव में खून से लथपथ मिला युवक का शव

» डिवाइडर से बाइक टकराने में चालक की मौत

» गंगा नहाने के दौरान चार दोस्त डूबे

» मिनी ट्रक की टक्कर से बाइक सवार चाचा-भतीजे की मौत

 

नवीन समाचार व लेख

» आजादी अमृत महोत्सव के अंतर्गत निकाली गई तिरंगा यात्रा

» पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में निकला भव्य तिरंगा यात्रा

» आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने के बाद भी नहीं नसीब हुई पक्की सड़क

» तिरंगा यात्रा एवं निबंध प्रतियोगिता का किया गया आयोजन

» मंत्री दिनेश प्रताप सिंह ने जनपद रायबरेली में आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत किया ध्वजारोेहण