यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मानक पूरे न होने के बाद भी अफसरों ने दे दी थी हरी झंडी


🗒 सोमवार, सितंबर 05 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मानक पूरे न होने के बाद भी अफसरों ने दे दी थी हरी झंडी

लखनऊ, । मानकों को ताख पर रखकर कंडिशनल एनओसी के सहारे होटल लेवाना करीब डेढ़ साल से चल रहा था। होटल में अग्निशमन उपकरण और मानकों के पूरा न होने के बाद भी फरवरी 2021 में सीएफओ विजय कुमार सिंह, जिला प्रशासन समेत कई विभागों के अफसरों ने निरीक्षण के बाद कंडिशनल एनओसी के सहारे संचालन की हरी झंडी दी थी। व्यवसायी से अफसरों की मिलीभगत ने चार लोगों की जान ले ली और 12 घायल हो गए। कंडिशनल एनओसी के तहत संबंधित इमारत के स्वामी को फायर उपकरण और मानक आदि पूरे करने होते हैं। इसके बाद भी होटल मालिक रोहित अग्रवाल और राहुल अग्रवाल ने कोई मानक पूरे नहीं किए थे। रसूख के बल पर मनमानी कर रहे थे।अब सीएम योगी आदित्यनाथ की नाराजगी के बाद सभी विभाग एक्शन में हैं। लखनऊ विकास प्राधिकरण ने सील करने का आदेश जारी किया है। सूत्रों की मानें तो एलडीए बहुत जल्द होटल को जमींदोज करने की तैयारी कर रहा है। लेवाना होटल के मालिक और मैनेजर को पुलिस ने पहले ही हिरासत में ले लिया है। इसके पहले गोमतीनगर में स्थित जेबीआर ग्रैंड में भी भीषण आग लग गई थी। सीएफओ विजय कुमार सिंह ने बताया कि होटल को वर्ष 2017 में फायर विभाग की एनओसी मिली थी। फरवरी 2021 में उसकी एनओसी को कंडिशनल रिनीवल किया गया था। कंडिशनल एनओसी रिनीवल के बाद अक्टूबर 2021 में होटल का निरीक्षण किया गया था। कुछ खामियां थीं, जैसे होटल में एक अलग से सीढ़ी निकास के लिए बनाने के लिए कहा गया था, लेकिन इसे नहीं बनाया गया। होटल में फायर उपकरण लगे थे।