यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यूपी के सभी बड़े भवनों का 3 दिन में होगा फायर आडिट


🗒 सोमवार, सितंबर 05 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
यूपी के सभी बड़े भवनों का 3 दिन में होगा फायर आडिट

लखनऊ, । लखनऊ के लिवाना होटल में हुए भीषण अग्निकांड के बाद अब पूरे उत्तर प्रदेश में अभियान के तहत होटल, अस्पताल, माल, स्कूल, बहुमंजिला इमारतों व प्रतिष्ठानों में फायर सुरक्षा का आडिट होगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी अस्पतालों व मेडिकल कालेजों में अग्नि व विद्युत सुरक्षा संयत्र की विस्तृत भौतिक जांच कराने का निर्देश भी दिया है।सीएम योगी आदित्यनाथ कहा है कि जहां भी आवश्यक हो, किसी भी प्रकार की गड़बड़ी से बचने के लिए सिस्टम को अपडेट किया जाए। सीएम याेगी के निर्देश पर डीजीपी मुख्यालय ने सभी जिलाें में अभियान के तहत तीन दिनों में फायर आडिट कराने का निर्णय किया है।डीजीपी डीएस चौहान ने सभी पुलिस आयुक्तों व कप्तानों को इसके लिए विस्तृत निर्देश दिए हैं। अग्निशमन सुरक्षा मानकों के अनुरूप की गई कार्रवाई की रिपोर्ट तलब किए जाने के साथ ही जिले में कहीं सुरक्षा मानकों का उल्लंघन नहीं हो रहा है, इसका प्रमाणपत्र भी मांगा गया है।सीएम योगी आदित्यनाथ ने लिवाना होटल में हुए भीषण हादसे को लेकर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर कड़े निर्देश दिए। ऐसी घटनाओं की रोकथाम के लिए इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (आइसीसीसी) का उपयोग किए जाने से लेकर सभी तहसीलों में फायर स्टेशन की स्थापना के निर्देश दिए गए हैं।एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि सभी जिलों में स्थानीय प्रशासन, नगर निगम व अन्य संबंधित विभागों के समन्वय से अभियान के तहत कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। सभी होटल, अस्पताल, माल, स्कूल, नर्सिंग होम, आवासीय अपार्टमेंट तथा अन्य बहुमंजिला व्यवसायिक प्रतिष्ठानों का सुरक्षा आडिट होगा।हर स्थान पर माकनों के अनुरूप आगमन-निकासी की व्यवस्था तथा अग्निशमन उपकरणों की क्रियाशीलता की जांच होगी। विभिन्न भवनों में फायर की एनओसी प्रदान किए जाने की प्रक्रिया में सभी मानदंडों का अनुपालन किया गया अथवा नहीं। इसकी भी जांच होगी।कहीं भी गड़बड़ी अथवा लापरवाही पाए जाने पर जिम्मेदारी तय कर दोषी अधिकारियों व कर्मियों के विरुद्ध कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। सभी फायर स्टेशनों का निरीक्षण व वाहनों की क्रियाशीलता का परीक्षण कराने का निर्देश भी दिया गया है।कहा गया है कि अभियान के तहत यह सुनिश्चित किया जाए कि जिले में कहीं अग्निशमन सुरक्षा मानकों का उल्लंघन नहीं हो रहा है। डीजी फायर सर्विस अविनाश चंद्र का कहना है कि अभियान के तहत लोगों को अग्नि सुरक्षा के प्रति जागरूक भी किया जाएगा।डीजीपी डीएस चौहान ने कहा है कि कहीं भी आग की बड़ी घटना होने पर उच्च स्तर की सक्रियता बरती जाए। राष्ट्रीय व राज्य आपदा मोचन बलों को तत्काल सूचना देकर बुलाया जाए। जिले के उन अस्पतालों को भी चिन्हित कर लिया जाए, जहां बर्न यूनिट हों। ताकि आपदा की स्थिति में घायलों को तत्काल पास के अस्पताल में पहुंचाया जा सके।