यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

राजधानी के थानों में ही चोरी हुईं 74 गाडिय़ां खड़ी मिलीं मालिकों को सौंपे कागजात


🗒 सोमवार, मार्च 18 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

राजधानी के थानों में ही चोरी हुईं 74 गाडिय़ां खड़ी मिलीं। एसएसपी कलानिधि नैथानी के निर्देश पर डीसीआरबी ने जब थानों में खड़ी सभी गाडिय़ों का मिलान किया तो यह हकीकत सामने आया। इसके बाद सोमवार को पुलिस लाइन में इन गाड़ी मालिकों को चिंहित कर उन्हें बुलाया गया, जहां एसएसपी ने लोगों को कागजात सौंपे। एसएसपी के मुताबिक कुछ दिन पहले विकासनगर थाने का निरीक्षण किया गया था। इस दौरान थाना परिसर में बड़ी संख्या में एमवी एक्ट में सीज खड़ी गाडिय़ां देखी गईं। पूछने पर पता चला था कि सीज गाडिय़ों के मालिक वाहन लेने वापस नहीं आए थे। इसपर खड़ी गाडिय़ों का मिलान करने के निर्देश दिए गए। मिलान के दौरान पता चला कि थाने में खड़ी चार गाडिय़ां चोरी की हैं। इसकी जानकारी होने पर एसएसपी सभी थानों में खड़े वाहनों का मिलान करने के लिए डीसीआरबी को निर्देशित किया था। इसी क्रम में तीन ई-रिक्शा, एक बोलेरो, एक टाटा मैजिक और 69 बाइक चोरी की निकलीं। बरामद गाडिय़ों में वर्ष 2012 से चोरी हुई गाड़ी भी है, जिसमें पुलिस ने फाइनल रिपोर्ट लगा दी थी।

राजधानी के थानों में ही चोरी हुईं 74 गाडिय़ां खड़ी मिलीं मालिकों को सौंपे कागजात

एसएसपी ने कहा कि सीज वाहनों पर यह ध्यान नहीं दिया जाता है कि गाडिय़ां चोरी की भी हो सकती हैं। अगर प्रदेश के सभी थानों में एआरटीओ और पुलिस की ओर से दाखिल गाडिय़ों पर यह अभियान चलाया जाए तो करीब पांच हजार से अधिक वाहन उनके मालिकों को मिल सकते हैं।एसएसपी ने इस पहल को जारी रखने के लिए एक स्क्वॉड का गठन किया है। इसमें दो इंस्पेक्टर व सिपाही तैनात किए गए हैं, जिन्हें आधुनिक उपकरण उपलब्ध कराए जाएंगे। यह टीम सार्वजनिक स्थानों, पार्किंग, मॉल व अन्य जगहों पर खड़ी गाडिय़ों के रजिस्ट्रेशन नंबर का मिलान करेंगे। इससे पुष्टि होगी कि खड़ी गाड़ी चोरी की हुई तो नहीं है।पुलिस लाइन में गाड़ी से संबंधित कागजात लेने आए मनीष ने बताया कि वर्ष 2016 में उनकी मां यशोदा की तबीयत खराब थी। मां को उन्होंने केजीएमयू में भर्ती कराया था। डॉक्टरों के कहने पर वह मां को चढ़ाने के लिए खून की व्यवस्था करने गए थे। इसी बीच चोरों ने उनकी एक्टिवा चोरी कर ली। मनीष ने भावुक होकर बताया कि समय से गाड़ी चोरी होने के कारण समय से वह खून लेकर अस्पताल नहीं पहुंच पाए थे और उनकी मां की मौत हो गई थी। चौक कोतवाली में एफआइआर कराई थी। पुलिस की पड़ताल में एक्टिवा हजरतगंज कोतवाली में खड़ी मिली।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» राजधानी में कमरे में खून से लथपथ मिला प्रॉपर्टी डीलर

» राजधानी मे घटिया पनीर बेचने पर पांच लाख का जुर्माना, तीन साल बाद सुनाया फैसला

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर एसपी कासगंज ने की टिप्पणी, डीजीपी ने किया जवाब तलब

» रक्षा मंत्री राजनाथ लखनऊ पहुंचे बोले- वन रैंक-वन पेंशन का होगा रिवीजन

» राजधानी मे वॉकी-टॉकी का इस्तेमाल कर करते थे लूट, छह गिरफ्तार

 

नवीन समाचार व लेख

» जल संरक्षण करके जीवन खुशहाल बनाएं सभी ग्रामवासी-जिलाधिकारी महोबा

» आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर हादसा, ट्रक में घुसी बोलेरो

» सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र के विधायक से मांगी 20 लाख की रंगदारी

» राजधानी में कमरे में खून से लथपथ मिला प्रॉपर्टी डीलर

» बरेली के इज्जतनगर क्षेत्र में घोड़ी के पैर बांधकर कर रहा था गंदी हरकत, रंगे हाथों पकड़ा गया