यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

फर्जी वेबसाइट के जरिये नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरफ्तार


🗒 सोमवार, अप्रैल 08 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

फर्जी वेबसाइट के जरिये सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने का झांसा देकर बेरोजगारों से ठगी करने वाले गिरोह का एसटीएफ ने राजफाश किया है। पांच लोग गिरफ्तार किए गए हैं जबकि छह सदस्य अभी फरार हैं।एसटीएफ में सीओ सत्यसेन यादव के मुताबिक, आरोपितों के पास से बड़ी मात्र में फर्जी शैक्षणिक प्रमाण पत्र और अन्य दस्तावेज बरामद किए गए हैं। आरोपित सरकारी विभागों की फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों को झांसे में लेकर नौकरी दिलाने के नाम पर उनसे मोटी रकम वसूलते थे। गिरोह ने रेलवे भर्ती ग्रुप डी में 200 अभ्यर्थियों की भर्ती का फर्जी परिणाम भी घोषित किया था, जो कि rrbresult.org.in पर जारी किया था। 

 फर्जी वेबसाइट के जरिये नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरफ्तार

फर्जी वेबसाइट के जरिये सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने का झांसा देने वाले गिरोह ने रेलवे भर्ती ग्रुप डी में दो सौ अभ्यर्थियों की फर्जी भर्ती का परिणाम घोषित कर दिया था। परिणामrrbresult.org.in पर अपलोड किए गए थे। यही नहीं गिरोह ने विधानसभा मार्ग पर राष्ट्रीय पशु एवं डेयरी विकास का फर्जी रिक्रूटमेंट कार्यालय खोल दिया था। इसकी शाखा भी प्रयागराज और वाराणसी में संचालित कर रहे थे। इसके तहत अभ्यर्थियों को राष्ट्रीय पशु एवं डेयरी विकास परिषद की फर्जी वेबसाइट rpdvpgov.in तैयार किया था। वेबसाइट पर विज्ञापन निकालकर लोगों के साक्षात्कार कर नियुक्ति पत्र भी जारी कर दिया था। हालांकि नियुक्ति मिलने के बाद पीड़ितों को वेतन नहीं मिला। इससे उन्हें ठगी का एहसास हुआ।ऑफलाइन होने वाली परीक्षाओं में गिरोह ओएमआर शीट पर खेल करता था। गिरोह की ओर से पुलिस विभाग में आरक्षी, एफसीआइ, टीईटी और ग्राम विकास अधिकारी के पद पर भर्ती के नाम पर उनकी परीक्षा ली जाती थी। इस दौरान अभ्यर्थियों को ओएमआर शीट की कार्बन कॉपी दी जाती थी। परीक्षा के बाद परीक्षार्थियों से उनकी ओएमआर शीट की कॉपी वाट्सएप या अन्य माध्यमों से मंगा लेते थे। इसके बाद उसी सीरिज की ओएमआर शीट तैयार करते थे। इसके बाद अभ्यर्थियों को झांसा देते थे कि वह नई शीट पर उनके प्रश्नों का जवाब भरकर जमा कर देंगे और उन्हें नौकरी मिल जाएगी।

एसटीएफ ने आरोपितों के पास से 50 चेक, 100 शैक्षणिक प्रमाण पत्र और दस्तावेज, अलग-अलग सरकारी विभागों के प्रवेश पत्र, 14 मुहर, तीन कार, राष्ट्रीय पशु एवं डेयरी विकास परिषद के फर्जी दस्तावेज समेत अन्य सामान बरामद किए गए हैं।फरार आरोपितों में एटा के मानवेंद्र, अंबेडकर नगर के गिरीश वर्मा, बिहार के सर्वजीत, बिजनौर के सुमित गौतम व अंकित तथा जौनपुर के संजीव मिश्र शामिल हैं। इन आरोपितों को पकड़ने के लिए एसटीएफ दबिश दे रही है। एसटीएफ ने साइबर थाना में एफआइआर दर्ज की है।एसटीएफ ने अंबेडकर नगर के अलीगंज टांडा स्थित रायपुर निवासी धीरेंद्र कुमार गुप्ता, सहारनपुर के थाना रामपुर मनिहारन स्थित पहांसू गांव निवासी दिग्विजय सिंह, मेरठ के साबुन गोदाम रेलवे रोड निवासी रविकांत शर्मा, फिरोजाबाद के खैरगढ़ स्यावरी गांव निवासी गिरजाशंकर उर्फ दीपक शर्मा और कुशीनगर के सुकरौली निवासी वशिष्ठ तिवारी को गिफ्तार किया है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» सपा विधायक का मायावती पर गंभीर आरोप,यदि यूपी में गठबंधन नहीं हुआ होता तो .बसपा को मिलता जीरो और सपा को 25 सीटें

» हजरतगंज पुलिस ने 200 करोड़ की ठगी में रोहतास का वॉइस प्रेसीडेंट को गिरफ्तार किया

» राजधानी मे पांच लाख की सुपारी देकर व्यवसायी ने कराई प्रॉपर्टी डीलर की हत्या

» लखनऊ मे अपार्टमेंट से गिरकर नहीं हुई थी कारोबारी की मौत, हत्या की रिपोर्ट दर्ज

» BSP का SP के साथ गठबंधन से मोहभंग, 11 सीटों पर विधानसभा उप चुनाव अकेले लड़ने की तैयारी

 

नवीन समाचार व लेख

» हजरतगंज पुलिस ने 200 करोड़ की ठगी में रोहतास का वॉइस प्रेसीडेंट को गिरफ्तार किया

» राजधानी मे पांच लाख की सुपारी देकर व्यवसायी ने कराई प्रॉपर्टी डीलर की हत्या

» लखनऊ मे अपार्टमेंट से गिरकर नहीं हुई थी कारोबारी की मौत, हत्या की रिपोर्ट दर्ज

» BSP का SP के साथ गठबंधन से मोहभंग, 11 सीटों पर विधानसभा उप चुनाव अकेले लड़ने की तैयारी

» उत्तर प्रदेश विधान सभा से आजम खां व संगम लाल गुप्ता का इस्तीफा