यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ के ऐशबाग में फंदे पर लटका मिला विवाहिता का शव, पति पर हत्‍या का आरोप


🗒 सोमवार, अप्रैल 08 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

न्यू तिलकनगर ऐशबाग में रविवार को विवाहिता स्वाति रस्तोगी का शव घर के अंदर कमरे में पंखे के सहारे फंदे पर लटका मिला। महिला का पिछले एक साल से पति से विवाद चल रहा था। छह माह पूर्व पारिवारिक न्यायालय में समझौते के बाद छह माह से ससुराल में रह रही थीं।बाजारखाला इंस्पेक्टर बृजेंद्र सिंह के मुताबिक न्यू तिलक नगर निवासी आशीष रस्तोगी व्यवसायी है। करीब एक साल से उनका पत्नी स्वाति रस्तोगी से विवाद चल रहा था। जिसकी सुनवाई पारिवारिक न्यायालय में चल रही थी। छह माह पूर्व समझौते के बाद स्वाति कानपुर के फजलगंज क्षेत्र के दर्शनपुरवा स्थित मायके से ससुराल में रहने आयी थीं। सोमवार सुबह करीब 11 बजे स्वाती पंखे में दुपट्टे के सहारे फंदे पर लटकी मिली।

लखनऊ के ऐशबाग में फंदे पर लटका मिला विवाहिता का शव, पति पर हत्‍या का आरोप

आशीष के शोर मचाने पर पहुंचे लोग उसे फंदे से उतारा और ट्रामा सेंटर भर्ती कराया। जहां, डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। उधर, घटना की जानकारी पर पहुंचे स्वाति के भाई सुमित वर्मा और पिता विनय शंकर वर्मा ने आशीष उनकी मां और अन्य परिवारीजनों पर हत्या का आरोप लगाया है। इंस्पेक्टर ने बताया कि मृतका के मायके पक्ष से तहरीर नहीं दी गई है। वह जो भी तहरीर देंगे उसके आधार पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा। 

 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ केजीएमयू के एक कर्मी ने महिला कर्मी का अश्लील वीडियो वाट्सएप ग्रुप पर डाला

» लखनऊ के आशियाना में ऑफ‍िस से लौट रही युवती को बदमाशों ने कार में खींचा

» लखनऊ मे बिना नंबर प्लेट की गाड़ी रोकने पर होमगार्ड की पिटाई, दर्ज हुआ मुकदमा

» मायावती आज दिल्ली में करेंगी सपा के साथ नफा-नुकसान की समीक्षा

» लखनऊ पुलिस ने जब्त की 50 लाख की अवैध शराब, एक गिरफ्तार

 

नवीन समाचार व लेख

» हमीरपुर -अवैध शराब बनाने बालों पर फिर कसा सिकंजा

» मौदहा हमीरपुर जिले में पिछले 1 सप्ताह से भीषण गर्मी पढ़ने और पारा

» मथुरा में यमुना एक्सप्रेस-वे पर प्राइवेट बस पलटी, चार की मौत

» वट सावित्री पूजा सोमवती अमावस्या को लेकर महिलाओं ने की वटवृक्ष पूजा

» पुलिस लाइन के द्वारों, बैरक और सभागार का नामकरण शहीद मुकुल द्विवेदी और संतोष यादव के नाम पर किया