यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब कांग्रेस के घोषणा पत्र पर उलमा ने उठाए सवाल


🗒 गुरुवार, अप्रैल 11 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कांग्रेस के घोषणा पत्र में राष्ट्रद्रोह की धारा 124 ए को समाप्त करने के वादे पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के इस वादे से यह पता चलता है कि मुस्लिमों के प्रति कांग्रेस का नजरिया क्या है।मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कांग्रेस के इस कदम की आलोचना करते हुए कहा है कि देश के मुसलमान देशद्रोही नहीं हो सकते। कांग्रेस को यह बताना होगा कि यह कदम उसने किसके लिए उठाया है। ऐशबाग ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली कहते हैं कि मुसलमानों का देशद्रोह से कोई वास्ता नहीं है, जो भी देशद्रोह का मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें सारे मुसलमान ही नहीं हैं। देश का दुश्मन हमारा दुश्मन है। इससे बेहतर होता कि कांग्रेस अपने घोषणापत्र में आर्टिकल 341 में जो मजहबी पांबदी लगी है वह हटाने की बात करती। इसमें मुस्लिम और ईसाई को भी शामिल करना चाहिए।

अब कांग्रेस के घोषणा पत्र पर उलमा ने उठाए सवाल

शहरकाजी मुफ्ती इरफान मियां फरंगी महली कहते हैं कि कांग्रेस अगर ऐसा सोचती है कि मुस्लिम देशद्रोही हैं, यह बिलकुल गलत है। धारा हटाने से बेहतर होगा कि सिस्टम ऐसा बनाएं कि गुनाह करने वालों को सजा और बेगुनाहों को राहत मिल सके।ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता यासूब अब्बास मानते हैं कि देश में आतंकवादियों को खत्म करना होगा। देशद्रोह के कानून की धारा को हटाने और बढ़ाने से यह खत्म नहीं होगा।मौलाना ने कहा कभी कांग्रेस ने लखनऊ से शिया समुदाय के पवित्र स्थल नजफ के लिए सीधी विमान के बारे में सोचा तक नहीं लेकिन वह इस साल 14 फरवरी से चलने लगी। हज का कोटा भी बढ़ा। अब एक तरफ जहां समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी गठबंधन मुसलमानों की अधिक आबादी वाले क्षेत्रों में आजम खां जैसे मुस्लिमों को चुनाव के लिए इस्तेमाल कर रही है। वहीं कांग्रेस भी पीछे नहीं है। धर्मगुरुओं ने कहा कि मुसलमानों की आड़ में कांग्रेस के इस चुनावी दांव से खुद मुसलमान ही इत्तेफाक नहीं रखते।लखनऊ के गोमतीनगर थाने पर कांग्रेस की सांसद रह चुकी पार्टी की मीडिया सेल की संयोजक दिव्या स्पंदना के खिलाफ 26 सितंबर 2018 को देशद्रोह का मामला अधिवक्ता सैयद रिजवान अहमद ने दर्ज कराया था। दिव्या स्पंदना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ ट्विटर पर अमर्यादित टिप्पणी की थी।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» कैबिनेट की बैठक में आठ प्रस्तावों पर मुहर नई गाड़ी पर लगा सकेंगे पुराने वाहन का नंबर

» रोजेदारों के चेहरे खुशी से खिले चांद दिखा

» मोहनलालगंज पुलिस ने वांछित अपराधियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार भेजा जेल

» लखनऊ मे पत्रकार के बेटे संग मारपीट व लूट के मामले में पांच दिन बाद भी आरोपी पुलिस के गिरफ्त से दुर

» यूपी मेट्रो रेल कारपोरेशन के नाम से एकल मेट्रो परियोजना को मंजूरी

 

नवीन समाचार व लेख

» वाराणसी मे वृद्ध को गांव के दबंगों ने पीटकर किया अधमरा, मरा हुआ जानकर बोरे में बांधकर फेंका

» मथुरा में दवा प्रतिनिधि एसो.के अध्यक्ष बने ब्रजेश, सचिव धर्मेन्द्र

» नवनिर्वाचित सांसद अतुल राय की समर्पण अर्जी खारिज, तीसरी बार तय की गई तिथि पर नहीं किया समर्पण

» वर्ष 2007 में मरे व्यक्ति के खिलाफ 2017 में दर्ज हुआ मुकदमा सीओ ने जांच कर मृतक के खिलाफ लगाई चार्ज शीट

» मथुरा में श्री राधारानी रोटी कपड़ा बैंक मथुरा उत्तर प्रदेश द्वारा लगा पंडाल