यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

राजधानी मे फर्जी लेफ्टीनेंट को थाने के बाहर पीड़िता ने दी सजा, गाल पर जड़ा जोरदार थप्पड़


🗒 मंगलवार, मई 14 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

फर्जी लेफ्टीनेंट बनकर बेरोजगारों को नौकरी और आर्मी मेडिकल कॉलेज में दाखिले के नाम पर ठगने वाले जालसाज को सोमवार सुबह एक पीडि़ता ने थाने के बाहर जोरदार थप्पड़ जड़ दिया। यह देख उसके साथ पहुंचे चार अन्य पीड़ितों ने हंगामा शुरू कर दिया। बवाल बढ़ता देख पुलिस ने लोगों को समझाकर शांत कराया और जालसाज को आननफानन गाड़ी में बिठाकर जेल भेज दिया। जानकारी के मुताबिक हिरासत में लिए गए आरोपित हर्ष वर्धन सिंह से मिलिट्री इंटेलीजेंस और अभिसूचना मुख्यालय की टीम ने रविवार देर रात तक पूछताछ की। सोमवार सुबह विभूतिखंड पुलिस जालसाज को जेल भेजने की तैयारी कर रही थी। इसी बीच ठगी का शिकार विकास मिश्रा, जसप्रीत सिंह जस्सी, हरप्रीत कौर, सुभांगी सिंह, ऋषभ वर्मा थाने पहुंचे। पुलिस आरोपित को जेल ले जाने के लिए बाहर निकली तो पीडि़ता हरप्रीत कौर ने हर्ष वर्धन को थप्पड़ जड़ दिया। बाद में उसके साथ आए अन्य लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। हंगामा बढ़ता देख पुलिस ने हर्षवर्धन को गाड़ी में बिठाया और जेल भेज दिया। पांचों पीड़ितों ने थाने में तहरीर दी है। 

राजधानी मे फर्जी लेफ्टीनेंट को थाने के बाहर पीड़िता ने दी सजा, गाल पर जड़ा जोरदार थप्पड़

पीड़ितों ने बताया कि हर्षवर्धन ने उन्हें आर्मी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस में दाखिला दिलाने का दावा किया था। वह खुद को लेफ्टीनेंट बताते हुए अपनी पोस्टिंग एएमसी (आर्मी मेडिकल कोर) में बताता था। इंस्पेक्टर राजीव द्विवेदी ने बताया कि आरोपित को जेल भेज दिया गया है। वहीं, पीड़ितों की तहरीर पर दर्ज मुकदमे में धाराएं और पीडि़त बढ़ा दिए जाएंगे। कई अन्य पीड़ितों ने भी पुलिस से संपर्क किया है। सीओ हजरतगंज अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि जालसाज हर्ष वर्धन ने भर्ती बोर्ड में तैनात एक इंस्पेक्टर के बेटे जसप्रीत सिंह से ढाई लाख रुपये ठगे थे। उसे भी उसने आर्मी मेडिकल कॉलेज में दाखिला कराने का दावा किया था। हर्षवर्धन ने शहर स्थित एक स्कूल से इंटर की पढ़ाई की थी। पीडि़ता शिवांगी उसकी जूनियर थी। मेडिकल कॉलेज में दाखिले के नाम पर उससे 2.88 लाख रुपये ऐंठे थे। वहीं, हरप्रीत कौर से पांच लाख, विकास मिश्रा से चार लाख और ऋषभ से दो लाख रुपये लिए थे। साइबर क्राइम सेल के दारोगा राहुल राठौर ने बताया कि हर्ष वर्धन सिंह अपने क्लाइंट विकास मिश्रा, जसप्रीत सिंह, हरप्रीत कौर, सुभांगी सिंह समेत अन्य से अक्सर लोहिया हॉस्पिटल अथवा एमिटी चौराहे के आसपास मिलता था। वह जब मिलने जाता था तो बुलेट और स्कूटी से बवर्दी दुरुस्त जाता था। पीड़ित सुभांगी ने बताया कि उन्हें और अन्य साथियों को भी कभी हर्षवर्धन पर शक नहीं हुआ। वह उनसे ऐसे रौब गांठता था कि किसी को शक ही नहीं हुआ। वह साथियों को बताता था कि ज्वाइनिंग के बाद छह माह तक कई स्थानों पर अंडर कवर रहा। वहीं, पुलिस गिरोह के सरगना विराट उर्फ विवेक ठाकुर और सिद्धार्थ की तलाश में दबिश दे रही है। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» मोहनलालगंज क्षेत्र में खराब पड़ी मर्करी ग्रामीणों में आक्रोश शासन प्रशासन सुस्त

» UP राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने दी बकरीद की बधाई, शिया-सुन्नी ने एक साथ पढ़ी नमाज

» अब सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वाले पर होगी NSA की कार्रवाई

» लखनऊ के बाजारखाला थाना क्षेत्र में महिला ने कागज पर सुसाइड नोट लिखकर फांसी लगाई

» शिवपाल सिंह यादव की पार्टी उत्तर प्रदेश में विधानसभा का उपचुनाव नहीं लड़ेगी

 

नवीन समाचार व लेख

» पीएम रिपोर्ट में फांसी लगाकर आत्महत्या की हुई पुष्टि

» वृन्दावन कोतवाली प्रभारी को एस एस पी ने प्रशत्ति पत्र दे कर सम्मानित किया

» पुलिस की कार्यशैली की स्थानीय लोगो ने पूरी की प्रसंशा

» छटीकरा में दो महिला फिरने के बहाने एक महिला को राल ले जाकर की मारपीट

» नो0 एंट्री में घुसी ट्रक, ली स्कूटी सवार बृद्ध की जान