यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आबकारी विभाग के मुख्यालय के पास नहीं है नहीं जहरीली शराब से मौत का आंकड़ा


🗒 मंगलवार, मई 28 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

जनसंख्या के हिसाब से देश के सबसे बड़े राज्य में जहरीली शराब का कहर गरीब परिवारों पर अक्सर ही टूट रहा है। यहां पर इसी वर्ष सैकड़ों घर वीरान भी हो गए हैं। इन बातों का उत्तर प्रदेश आबकारी विभाग पर कोई फर्क नहीं पड़ता।राजस्व के आंकड़े तो अधिकारियों की जुबां पर हैं लेकिन, पिछले पांच वर्ष साल में जहरीली शराब की घटनाओं में कितनों की मौत हुई यह रिकॉर्ड मुख्यालय में किसी के पास नहीं है। इतना जरूर है कि जहर का कहर होने की सूचना पर डंडे लेकर पूरा अमला दौड़ पड़ता है।प्रदेश में जहरीली शराब से मौत होने की घटनाएं 2013 और इसके बाद करीब-करीब हर साल हुईं। अक्टूबर 2013 में आजमगढ़ के मुबारकपुर थाना क्षेत्र में जहरीली शराब से दो दर्जन से अधिक घरों में मातम पसर गया था। 2013 में ही मई में अमेठी के शुकुल बाजार में जहरीली शराब पीने से आठ लोग, 14 जनवरी 2015 को लखनऊ के निकट मलिहाबाद व उन्नाव में 40 लोग, जुलाई 2016 में एटा के अलीगंज थानांतर्गत लुहारी दरवाजा, लौखेरा गांव में 17 लोग, 2017 में आजमगढ़ के रौनापार थानाक्षेत्र के केवटहिया, ओडऱा सलेमपुर में सात से 10 जुलाई के भीतर 27 लोगों की मौत हो गई। कानपुर देहात और कानपुर जिले में 19 मई 2018 को एक साथ जहरीली शराब का कहर कई लोगों पर टूटा। इसमें एक क्षेत्रीय विधायक और उनके नाती पर जहरीली शराब बिकवाने की बात जांच में सामने आई थी।इसके बाद सात फरवरी को सहारनपुर और उत्तराखंड में जहरीली शराब से 100 से अधिक लोगों की मौत हुई। इसमें सहारनपुर में 38, मेरठ में 18 और कुशीनगर में आठ लोगों की मौत हुई। सिलसिला यही नहीं थमा। मार्च 2019 में कानपुर में जहरीली शराब से मौतें हो चुकी हैं। आबकारी विभाग ने इन घटनाओं के फौरन बाद कार्रवाई की। जिला आबकारी अधिकारी, क्षेत्रीय इंस्पेक्टरों और संबंधित थाने के प्रभारी समेत बीट व चौकी के सिपाही सस्पेंड हुए। जांच रिपोर्ट संबंधित जिलों से उत्तर प्रदेश आबकारी मुख्यालय और फिर यहां से प्रदेश शासन तक भेजी गई। जांच रिपोर्ट के बाद क्या कार्रवाई हुई और उसका नतीजा क्या निकला। यह बाराबंकी की घटना से सभी के सामने है। 

आबकारी विभाग के मुख्यालय के पास नहीं है नहीं जहरीली शराब से मौत का आंकड़ा

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» PGI अंसल में मिट्टी खनन विवाद में मारी गई थी बिल्डर को गोली दो शूटर और रेकी कराने वाला गिरफ्तार मुख्य साजिशकर्ता समेत दो फरार

» मायावती का मुस्लिम कार्ड, मुनकाद अली बने बसपा के प्रदेश अध्यक्ष

» राजधानी के नाका थाना क्षेत्र में गश्त कर रहे सिपाहियों को तेज रफ्तार कार ने रौंदा

» लखनऊ मे SSC की परीक्षा में दो सॉल्वर समेत तीन गिरफ्तार

» खनन घोटाले के मामले में ईडी ने शासन से मांगा पांच आइएएस का ब्यौरा, जल्द होगी पूछताछ

 

नवीन समाचार व लेख

» अनुच्छेद 370 पर थमा नहीं है कांग्रेस का घमासान, नेताओं के सुर थामने के लिए बुलाई बैठक

» किदवई नगर स्थित स्कूल से छुट्टी के बाद अचानक बच्चों के गायब होने से अफरा तफरी मच गई

» PGI अंसल में मिट्टी खनन विवाद में मारी गई थी बिल्डर को गोली दो शूटर और रेकी कराने वाला गिरफ्तार मुख्य साजिशकर्ता समेत दो फरार

» मायावती का मुस्लिम कार्ड, मुनकाद अली बने बसपा के प्रदेश अध्यक्ष

» पुलिस ने जंगली हिरण का शव ले जा रहे शिकारी को दबोचा