यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बसपा की डगर अकेले आसान नहीं लोकसभा चुनाव में सपा से गठबंधन में मिली संजीवनी


🗒 मंगलवार, जून 04 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

समाजवादी पार्टी से गठबंधन कर बसपा ने लोकसभा चुनाव में दस सीटें भले ही हासिल कर ली हैैं, लेकिन उसके लिए अकेले ही मंजिल पाना आसान नहीं है। पिछले एक दशक से पार्टी का रुतबा लगातार घट रहा है। अभी जो हाल है उसमें अकेले दम पर '2007' जैसी स्थिति हासिल करना उसके लिए बड़ी चुनौती है। 35 वर्ष के इतिहास में बसपा का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2007 के विधानसभा चुनाव में रहा है। तब पार्टी न केवल अपने दम पर सरकार बनाने में कामयाब रही थी बल्कि सर्वाधिक 30.43 फीसद वोट भी हासिल किए थे। उसके बाद के तीन विधानसभा और दो लोकसभा चुनाव में पार्टी का ग्राफ गिरता ही रहा। 2009 के चुनाव में पार्टी के 20 सांसद जीते, लेकिन जनाधार घटकर 27.42 फीसद ही रह गया। 2014 के लोकसभा चुनाव में तो पार्टी शून्य पर सिमट कर रह गई। इससे सवर्ण व पिछड़े वर्ग के प्रमुख नेता पार्टी से किनारा करते रहे और बसपा की सोशल इंजीनियङ्क्षरग फेल होती चली गई।

बसपा की डगर अकेले आसान नहीं लोकसभा चुनाव में सपा से गठबंधन में मिली संजीवनी

इसी वजह से बसपा, 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा से मुख्य लड़ाई में भी नहीं टिकी रह सकी। दलित व मुस्लिम गठजोड़ बनाने के प्रयास भी कारगर नहीं रहे। बीते लोकसभा चुनाव में सपा से गठबंधन कर उतरने पर पार्टी को यह फायदा जरूर हुआ कि उसके सांसद शून्य से 10 हो गए। इनमें भी तीन मुस्लिम समाज के ही हैैं।अपने पुराने ढर्रे में बदलाव लाते हुए मायावती ने प्रदेश के जिन 11 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव में अकेले उतरने का फैसला लिया है, उनमें केवल जलालपुर ही उसके कब्जे वाली है। सपा रामपुर सीट पर काबिज थी। नौ सीटें भाजपा गठबंधन के पास थीं। जानकारों का मानना है कि सपा-बसपा के अलग-अलग लड़ने से गैर भाजपाई वोटरों में भ्रम पैदा होगा, जिसका फायदा भाजपा को मिलेगा। दूसरी ओर पिछड़े व दलित वर्ग में भाजपा के प्रति बढ़ते मोह को कम कर पाना भी बसपा के लिए आसान नहीं रहेगा। उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव में गठबंधन में शामिल सपा-बसपा और रालोद को मिले वोटों से कहीं ज्यादा 49.56 फीसद वोट भाजपा को मिले हैैं।

बसपा का विधानसभा-लोकसभा चुनाव में प्रदर्शन

चुनावी वर्ष   जीते/लड़े    मिले मत फीसद

2019           10/38         19.26

2017           19/403       22.23

2014           00/80         19.77

2012           80/403       25.91

2009           20/80         27.42

2007           206/403     30.43

मुद्दा से अन्य समाचार व लेख

» UP के अन्दर बनते और बिगड़ते रिश्तों का कुरुक्षेत्र

» लोकसभा चुनाव 2019 मे क्या बीजेपी को मिल रहा क्लीन स्विप

» क्या मोदी को 'जननायक ' बनने से रोक पाएंगी प्रियंका

» अब सुप्रीम कोर्ट मध्यस्थता की बात छोड़ अयोध्या में राम मंदिर मामले पर अपना फैसला सुनाए

» अब परवान चढ़ने लगी है गरीबों के मुफ्त और कैशलेस इलाज की योजना

 

नवीन समाचार व लेख

» UP मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ईद के अवसर पर प्रदेशवासियों को दीं हार्दिक शुभकामनाएं

» औरैया में सहार गोशाला के निकट गोशाला के पास मिले 12 मृत गोवंश, आक्रोशित लोगों ने कहा संसाधन न होने से हो रहीं मौतें

» हमीरपुर शमसान घाट में संदिग्ध परिस्थितियों में पड़ा मिला सिपाही का शव

» पंचकोसीय परिक्रमा को सौंदर्यरूप प्रदान करने के उद्देश्य से चलाया गया अतिक्रमण हटाओ अभियान

» EC ने कहा- अमरनाथ यात्रा के बाद होगी जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव की घोषणा