यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव कुनबे की एकजुटता की कोशिश में जुटे पर नरम नहीं पड़ रहे शिवपाल यादव


🗒 सोमवार, जून 10 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

लोकसभा चुनाव 2019 में मिली करारी शिकस्त के बाद यादव कुनबे में एकजुटता के प्रयास को कामयाबी मिलती नहीं दिखायी दे रही है। सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की कोशिशों के बावजूद प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के प्रमुख शिवपाल यादव अभी बैकफुट पर आने का तैयार नहीं हैं। शिवपाल सोमवार से लोकसभा चुनाव नतीजों की समीक्षा के साथ उपचुनाव की तैयारी भी शुरू कर देंगे।समीक्षा बैठकें चार दिन चलेंगी। सोमवार को लोकसभा प्रत्याशी और मंडल प्रभारियों को बुलाया गया है। मंगलवार को जिला व शहर अध्यक्षों के साथ उपाध्यक्ष एवं प्रमुख महामंत्री भी बुलाये गए हैं। बुधवार 12 जून को फ्रंटल संगठनों के प्रांतीय पदाधिकारियों की बैठक होगी और 13 जून को प्रदेश कार्यकारिणी उपचुनाव की रणनीति तय करने के साथ संगठन विस्तार की कार्ययोजना भी तैयार करेगी। प्रसपा प्रवक्ता दीपक मिश्रा का कहना है कि गठबंधन की राजनीति फेल साबित होने के बाद जनता की निगाहें प्रसपा की ओर लगी हैं। खुद प्रसपा सुप्रीमो शिवपाल यादव भी समाजवादी पार्टी में घर वापसी की चर्चा को विराम लगा चुके हैं।

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव कुनबे की एकजुटता की कोशिश में जुटे पर नरम नहीं पड़ रहे शिवपाल यादव

लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन औंधे मुंह गिरने के बाद से समाजवादी नेताओं को एक मंच पर लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि प्रमुख नेताओं से अलग अलग वार्ता में मुलायम सिंह यादव पुराने कार्यकर्ताओं को एक मंच पर लाकर भाजपा का विकल्प तैयार करने की इच्छा जता चुके हैं। तर्क दिया जा रहा है कि भाजपा को रोकने का दम केवल सपा में है, बसपा कभी अकेले विकल्प नहीं बन सकती है। वर्ष 2007 जैसी स्थिति फिर बन पाना संभव नहीं है, क्योंकि बसपा से पिछड़ों व अतिपिछड़ों का मोह भंग हो चुका है और मुस्लिमों की पहली पंसद आज भी समाजवादी पार्टी ही है। ऐसी स्थिति में लोहिया और चौधरी चरण सिंह के अनुयायियों को एक मंच पर आसानी से लाया जा सकता है।यादव कुनबे में फिर एकता को लेकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) की ओर से सपा महासचिव रामगोपाल की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। प्रसपा समर्थकों का कहना है कि रामगोपाल के रहते एकजुटता मुश्किल है। सूत्र बताते हैं कि कोई बीच का रास्ता निकालने की कोशिश जारी है परंतु शिवपाल समर्थक रामगोपाल के रहते वापसी के मूड में कतई नहीं हैं।पिछले दिनों प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव ने सपा में वापसी को लेकर जारी सभी अटकलों पर विराम लगा दिया था। उन्होंने कहा था कि अब हमारा फोकस पार्टी के विस्तार और उसे बढ़ाने पर है। पत्रकारों के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था कि सपा में वापसी का कोई इरादा नहीं है, परिवार के बीच कोई गिला शिकवा नहीं है। इस तरह की सभी बातें बेबुनियाद हैं। हमारा फोकस पार्टी के विस्तार पर है। आने वाले चुनावों के लिए अभी से तैयारी की रूपरेखा बनाई जाएगी और उसी पर काम किया जाएगा।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» रीता बहुगुणा जोशी के प्रयागराज से सांसद बनने के बाद कैंट विधानसभा सीट पर हर दिन बढ़ रहे दावेदार

» राजधानी मे Fake दस्तावेज के सहारे तीन बैंकों से ठगे 90 लाख, गिरफ्तार

» BSP मुखिया मायावती ने पत्रकार प्रशांत कन्नौजिया की गिरफ्तारी पर साधा भाजपा सरकार पर निशाना

» सीएम योगी आदित्यनाथ अलीगढ़ के विधायकों से आज मिलेंगे

» राज्यपाल राम नाईक ने कहा- नकल व फर्जी डिग्रियों पर कसें नकेल

 

नवीन समाचार व लेख

» गाजियाबाद में घरने पर बैठी कांग्रेस की महिला पार्षद ने की आत्मदाह की कोशिश, मचा हड़कंप

» फतेहपुर मे पार्टी के लिए पहले दोस्त को घर बुलाया, फिर ऐसा क्या हुआ कि चाकू से गोदकर कर दी हत्या

» यमुना एक्सप्रेस वे पर नोएडा से आगरा की ओर जा रही कार पर दर्दनाक हादसा, चार की मौत, चार घायल

» मेरठ के स्पोर्ट्स फैक्ट्री में लगी भीषण आग, आसपास के घर कराए गए खाली

» जौनपुर मे लव जेहाद का मामला जानकार अधिवक्‍ताओं ने कर दी प्रेमी प्रेमिका की जमकर पिटाई