रीता बहुगुणा जोशी के प्रयागराज से सांसद बनने के बाद कैंट विधानसभा सीट पर हर दिन बढ़ रहे दावेदार

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

रीता बहुगुणा जोशी के प्रयागराज से सांसद बनने के बाद कैंट विधानसभा सीट पर हर दिन बढ़ रहे दावेदार


🗒 सोमवार, जून 10 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

प्रोफेसर रीता बहुगुणा जोशी के प्रयागराज से सांसद बनने के बाद खाली हुई कैंट सीट पर हर दिन भाजपा में नया नाम सामने आ रहा है। दूसरी विधानसभा में रहने वाले भी यह मौका नहीं चूकना चाहते हैं। पूर्व मंत्री कुसुम राय और भाजपा नेता राजीव मिश्र भी टिकट चाहते हैं। कैंट सीट से तीन बार विधायक रहे और अवध क्षेत्र के अध्यक्ष सुरेश तिवारी भी दावेदार हैं।रीता बहुगुणा जोशी अपने पुत्र मंयक जोशी को उपचुनाव में उतारना चाहती हैं। भाजपा से लंबे समय से जुड़ीं एडवोकेट अनीता अग्रवाल के अलावा मध्य विधानसभा से विधायक और विधि एवं न्याय मंत्री बृजेश पाठक की पत्नी नमृता पाठक भी दावेदारों में शामिल हैं। मेयर संयुक्ता भाटिया के पुत्र प्रशांत भाटिया भी दावेदारों में शामिल हैं। 

रीता बहुगुणा जोशी के प्रयागराज से सांसद बनने के बाद कैंट विधानसभा सीट पर हर दिन बढ़ रहे दावेदार

प्रशांत के पिता सतीश भाटिया 1991 और 1993 में कैंट से विधायक थे, और 1991 में पहली बार उन्होंने कैंट सीट पर भाजपा का परचम फहराया था। लालकुआं से पार्षद सुशील कुमार तिवारी के अलावा लंबे समय से भाजपा से जुड़े मान सिंह, कुछ समय पहले ही भाजपा का दामन थामने वाले व्यापारी मुरलीधर आहूजा और योगेश मिश्र भी दावेदारों में हैं। मुरलीधर आहूजा वर्ष 2007 में कांग्रेस और योगेश मिश्र कैंट सीट पर बसपा से चुनाव लड़ चुके हैं। नौकरी छोड़कर भाजपा से टिकट चाहने वालों में नगर निगम के कर्मचारी नेता शशि मिश्र भी हैं। केसरी खेड़ा से कई बार पार्षद रहे संतोष बलखंडी भी टिकट के दावेदार हैं।मुलायम की बहू अपर्णा यादव भी कैंट सीट की किसी भी दल से चुनाव लडऩे की चर्चा है। सपा से दावेदारों में पूर्व पार्षद व 2012 में कैंट से सपा उम्मीदवार रहे सुरेश चौहान, व्यापारी नेता पवन मनोचा, पूर्व पार्षद राजू गांधी, पूर्व सपा महानगर अध्यक्ष सुशील दीक्षित, कैंट अध्यक्ष अमित सक्सेना तो कांग्रेस से छात्र नेता रहे राजेश शुक्ला, कांग्रेस मीडिया की जिम्मेदारी संभालने वाले वीरेंद्र मदान के अलावा पांच बार से पार्षद रहे गिरीश मिश्र और चार बार से पार्षद  रहे राजेंद्र सिंह गप्पू भी दावेदार हैं।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ आए रक्षामंत्री ने कहा डिफेंस कॉरिडोर देगा ढाई लाख लोगों को रोजगार

» बाबरी मस्जिद प्रकरण की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश सुरेन्द्र कुमार यादव को जेड प्‍लस सुरक्षा की मांग

» लखनऊ के पारा क्षेत्र में टप्पेबाजों ने पुलिसकर्मी बन बुजुर्ग महिला के जेवर उतरवाए

» मोहनलालगंज कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत अज्ञात वाहन ने मोटरसाइकिल सवार युवक को मारी टक्कर गंभीर रूप से घायल

» निगोहा थाना क्षेत्र मे कार की जोरदार टक्कर से भैंस की हुई मौत कार के उड़े परखच्चे

 

नवीन समाचार व लेख

» कांग्रेस और वामोर्चा में होगा गठबंधन, सोनिया गांधी ने दिखाई हरी झंडी

» भारत सरकार की सातवीं आर्थिक गणना में ब्लॉक स्तरीय पर्यवेक्षकों का प्रशिक्षण का किया आयोजन

» लखनऊ आए रक्षामंत्री ने कहा डिफेंस कॉरिडोर देगा ढाई लाख लोगों को रोजगार

» अधिकारी द्वारा जनसुनवाई पोर्टल की धज्जियां उड़ाई जा रही..

» बाबरी मस्जिद प्रकरण की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश सुरेन्द्र कुमार यादव को जेड प्‍लस सुरक्षा की मांग