यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा परफार्मेंस के आधार पर स्थानांतरण नहीं चलेगी सिफारिश


🗒 बुधवार, जून 12 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों के तबादले अब बिना किसी सिफारिश व दबाव के होंगे। तबादलों में पूरी पारदर्शिता अपनाने और मनमानी रोकने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी विभागों में अब सिर्फ परफार्मेंस के आधार पर स्थानांतरण करने का निर्देश दिया है। इसके लिए उन्होंने ग्राम्य विभाग विभाग द्वारा अपनायी जा रही स्थानांतरण प्रक्रिया को मॉडल के तौर पर अपनाने के लिए कहा है। मंगलवार को लोकभवन में कैबिनेट बैठक के बाद मुख्य सचिव डॉ.अनूप चंद पांडेय ने परफार्मेंस आधारित स्थानांतरण प्रक्रिया का प्रस्तुतीकरण किया। ग्राम्य विकास विभाग में पिछले वर्ष से इस प्रक्रिया से ही स्थानांतरण किए जा रहे हैं। सबके सामने खुली बैठक में एक क्लिक पर अधिकारियों के तबादले कर उसी दिन तबादले का आदेश भी सौंप दिया जाता है। ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. महेंद्र सिंह ने बताया कि 'टेक्नोलॉजी बेस्ड ट्रांसपैरेंट ट्रांसफर मैकेनिज्म' से मेरिट के आधार पर खंड विकास अधिकारियों के तबादले उनकी पसंद से किए गए थे। इस प्रक्रिया में अधिकारियों को स्थानांतरण के लिए किसी का सहारा नहीं लेना होता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा  परफार्मेंस के आधार पर स्थानांतरण नहीं चलेगी सिफारिश

ग्राम्य विकास विभाग में अपनायी गयी प्रक्रिया के बारे में आयुक्त एनपी सिंह ने बताया कि तकनीकी विशेषज्ञों व एनआइसी से परामर्श कर एक पोर्टल बनाया गया। स्थानांतरण के लिए ऑनलाइन आवेदन प्राप्त किये गए। दस माह के परफार्मेंस के आधार पर रैंकिंग निकाली गई। जिन जिलों से अधिकारी हटे थे, उनकी सूची पोर्टल पर अपलोड की गई। स्थानांतरण होने वाले प्रत्येक अधिकारी से व्यक्तिगत सूचना ली गई कि वे किन-किन जिलों में तीन वर्ष तथा किस मंडल में सात वर्ष रह चुके हैं।अधिकारियों के नाम के आगे उक्त सूचना को अपलोड किया गया। इसके बाद अधिकारियों से स्थानांतरण के लिए पांच जिलों का विकल्प मांगा गया। विकल्प को वरीयता के आधार पर ऑनलाइन ही भरना था। आवेदन की अंतिम तारीख समाप्त होने के बाद पोर्टल स्वत: ही बंद हो जाता है। अंकों के आधार पर अधिकारियों को उनके द्वारा दिए गए विकल्प वाले जिले में खुली बैठक में स्थानांतरित किया गया। उसी दिन तबादला आदेश भी सौंप दिए गए। सिस्टम जनरेटेड ट्रांसफर प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» राजधानी में 16 साल की लड़की के साथ पड़ोसी ने की ये गंदी हरकत, पिता को पीट-पीटकर किया अधमरा

» गायत्री व एमएलसी रमेश मिश्रा के घर समेत उप्र व दिल्ली में 22 स्थानों पर CBI का छापा

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अफसरों के साथ कानून व्यवस्था और विकास की नब्ज टटोल रहे

» पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के घर समेत उत्तर प्रदेश व दिल्ली के 22 स्थानों पर CBI का छापा

» लखनऊ हाइकोर्ट ने कहा नया मेडिकल बोर्ड करे दरोगा भर्ती के अभ्यर्थी की जांच

 

नवीन समाचार व लेख

» आगरा मे ट्रांसफार्मर में हुए शॉर्ट सर्किट ने सोल फैक्ट्री को लिया चपेट में, लाखों का माल हुआ खाक

» हरदोई मे गंगा में स्नान करने गए तीन किशोर डूबे, एक का मिला शव; सीएम ने व्यक्त की संवेदना

» राजधानी में 16 साल की लड़की के साथ पड़ोसी ने की ये गंदी हरकत, पिता को पीट-पीटकर किया अधमरा

» जिला हमीरपुर में सपा एमएलसी रमेश मिश्रा के चार ठिकानों पर सीबीआइ का छापा

» UP बार कौंसिल की अध्यक्ष कुमारी दरबेश सिंह की दीवानी कचहरी परिसर में गोली मारकर हत्या