यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

केजीएमयू की बिजली केबल में फॉल्ट आने से 13 घंटे गुल रही बिजली, मचा हाहाकार


🗒 गुरुवार, जुलाई 11 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

केजीएमयू की बिजली केबल में फॉल्ट आने से हॉस्टल, कार्यालय, डिपार्टमेंट समेत 16 भवनों में अंधेरा छा गया। इस दरम्यान जनरेटर चलाए गए, मगर लोड नहीं उठा सके। संस्थान में 13 घंटे तक आपूर्ति बहाल नहीं हो सकी। कैंपस में पानी के लिए हाहाकार मच गया। साथ ही सैकड़ों मरीज बगैर जांच कराए ही लौट गए।केजीएमयू में बुधवार रात एक बजे बिजली गुल हो गई। ऐसे में वार्ड, हॉस्टल में अंधेरा छा गया। छात्र और मरीज बेहाल हो गए। हंगामा करने पर जनरेटर चलाए गए, मगर यह ट्यूबवेल, लिफ्ट का लोड नहीं ले सके। ऐसे में हॉस्टल, वार्ड में पानी का संकट छा गया। मरीजों की शिफ्टिंग तीमारदारों ने रैंप से की। उन्हें कई मंजिल तक स्ट्रेचर खींचना पड़ा।दरअसल, केजीएमयू में बिजली सप्लाई की दो लाइन हैं। इसमें 33 केवी में फॉल्ट आ गया। लिहाजा, इस लाइन से कनेक्ट कुलपति कार्यालय, कुलसचिव कार्यालय, पैथोलॉजी, माइक्रोबायोलॉजी, पीएसआइ भवन, लिंब सेंटर, पीडियाट्रिक सर्जरी, पीडियाट्रिक्स, जनरल सर्जरी, गांधी वार्ड, न्यूरोलॉजी विभाग, ओल्ड वीएल हॉस्टल, सीवी हॉस्टल, न्यू सीवी हॉस्टल, नेहरू छात्रावास, एसपी हॉस्टल में बिजली गुल रही।पांचों हॉस्टल में सुबह पानी का संकट छा गया। इस दौरान मेडिकोज ने हंगामा किया। वहीं पीडियाट्रिक्स सर्जरी, पीडियाट्रिक, गांधी वार्ड, जनरल सर्जरी, लिंब सेंटर में पानी का संकट हो गया। करीब 10 के बजे जनरेटर की स्पीड बढ़ाकर व किराए पर जनरेटर लाकर बिजली आपूर्ति सुधारी गई। इसके बाद पंप से ऊपरी मंजिलों में पानी पहुंचा। 

 केजीएमयू की बिजली केबल में फॉल्ट आने से 13 घंटे गुल रही बिजली, मचा हाहाकार

पैथोलॉजी, माइक्रोबायोलॉजी में जहां 10 बजे तक जांचें ठप रहीं। वहीं लिंब सेंटर में एक्स-रे मशीन बंद रही। ऐसे ही कृत्रिम अंग निर्माणशाला का काम दिनभर बाधित रहा। यहां ड्रिल मशीन, ग्राइंडर, राउटर, ओवन समेत कई मशीनें रन नहीं कर सकीं। ऐसे में 20 मरीजों के सहायक उपकरण व 15 मरीजों के कृत्रिम अंगों का निर्माण नहीं हो सका।  इसके अलावा गेट लैब, डायनिमिक यूरो लैब बंद रहीं। लिंब सेंटर में एक्सरे न होने से गठिया व फ्रैक्चर के मरीजों का इलाज बाधित हो गया। यहां ऊषा, इमरान, सैफुद्दीन आदि घंटों बैठे रहे। मगर, जांच नहीं हो सकी। ऐसे में ही पैथोलॉजी में सुबह जांचें ठप रहीं। सैकड़ों मरीज बगैर इलाज के लौट गए। एक्स-रे न होने से कलावती के पैर का प्लास्टर काटना टाल दिया गया। वहीं इन विभागों में ऑपरेशन 11 बजे से शुरू हुए।केजीएमयू के जनरेटर लोड नहीं उठा सकेंगे। ऐसे में सुबह सेवाएं चरमराने लगीं। लिहाजा, 125 केवी, 250 केवी के दो जनरेटर किराए पर लाए गए। इन्हें सब स्टेशन पर कनेक्ट कर बिजली आपूर्ति बहाल की गई। केजीएमयू के अभियंता अखिलेश कुमार के मुताबिक बिजली खराब होने पर तुरंत लेसा को जानकारी दी गई। मगर, वह इंटरनल फॉल्ट बताकर टालता रहा। उच्चाधिकारियों के कहने पर लेसा ने फॉल्ट की मरम्मत की। रात में गई बिजली गुरुवार दो बजे के करीब बहाल हो सकी।केजीएमयू के प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह ने बताया कि बिजली लेसा की फॉल्ट की वजह से गई थी। जनरेटर चलाकर सेवाएं सुचारू रूप से चलाने का प्रयास किया गया। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ PGI में शुरू हुई वैस्कुलर मालफॉर्मेशन सर्जरी

» यूपी सरकार महत्वपूर्ण पदों पर तैनात दागी अफसरों को हटाएगी

» निगोहा थाना क्षेत्र के अंतर्गत नाबालिक के साथ छेड़खानी करने वाले युवक को पुलिस ने किया गिरफ्तार

» मोहनलालगंज क्षेत्र के सिसेंडी में दो पक्षों में मामूली विवाद को लेकर चले लाठी-डंडे दोनों तरफ से मुकदमा दर्ज

» मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना 80 जोड़ों ने जयमाला डाल कर थामा एक दूसरे का हाथ

 

नवीन समाचार व लेख

» प्रतियोगी छात्र ज्ञान प्रकाश की हत्या के तीन आरोपित गिरफ्तार

» केजीएमयू की बिजली केबल में फॉल्ट आने से 13 घंटे गुल रही बिजली, मचा हाहाकार

» लखनऊ PGI में शुरू हुई वैस्कुलर मालफॉर्मेशन सर्जरी

» बाराबंकी में महिला ने ससुर पर दुष्‍कर्म का आरोप लगाया

» यूपी सरकार महत्वपूर्ण पदों पर तैनात दागी अफसरों को हटाएगी