यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ महोत्सव नवंबर नहीं अब जनवरी में होगा


🗒 गुरुवार, नवंबर 07 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

25 नवंबर से आशियाना के स्मृति उपवन में प्रस्तावित लखनऊ महोत्सव टाल दिया गया है। अब इसका आयोजन अगले साल जनवरी के तीसरे सप्ताह कराने का दावा किया जा रहा है, लेकिन यह भी किसी चुनौती से कम नहीं होगा। पांच फरवरी से डिफेंस एक्सपो का आयोजन है ऐसे में प्रशासनिक दावे कितने सच होंगे यह बड़़ा सवाल है।डिफेंस एक्सपो में लाखों देशी और विदेशी मेहमान और पर्यटक शामिल होने के लिए आ रहे हैं। ऐसे में तीसरे सप्ताह में लखनऊ महोत्सव का आयोजन का दावा मुश्किल नजर आ रहा है। एक्सपो के आयोजन में पूरी प्रशासनिक मशीनरी दिसंबर के आखिरी सप्ताह से ही लग जाएगी। भारत सरकार पूरी तरह कार्यक्रम को सफल बनाने में लगी है। विदेशों की तमाम बड़ी कंपनियां इसमें शिरकत कर रही हैं। ऐसे में इस दौरान महोत्सव का आयोजन होना मुश्किल नजर आ रहा है।इससे पहले मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम की अध्यक्षता में महोत्सव समिति की बैठक में तिथियों को आगे बढ़ाने पर चर्चा के बाद इस पर मुहर लग गई। प्रशासन का कहना है कि इस दौरान बारावफात से लेकर कार्तिक स्नान और दूसरे तमाम त्योहारों में प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों की व्यस्तता के चलते तिथियों को आगे बढ़ाया गया है। जनवरी में इसका धूमधाम से आयोजन किया जाएगा।माना जा रहा है कि अयोध्या के पर संभावित फैसले को लेकर कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन ने इस मेगा इवेंट को स्थगित करना ही बेहतर समझा। एक अधिकारी का कहना है कि महोत्सव में बड़ी संख्या में लोग एक साथ इकट्ठा होते हैं इसलिए फैसले के बाद सुरक्षा को लेकर बड़ी चुनौती थी। लिहाजा महोत्सव को आगे बढ़ा दिया गया है।राजधानी के सबसे मेगा इवेंट लखनऊ महोत्सव को लेकर पूरे शहर ही नहीं आसपास के जिलों के लोगों को भी साल भर उत्सुकता होती रहती है। 25 नवंबर से पांच दिसंबर तक इसका आयोजन किया जा रहा था। अधिकारियों का कहना है कि चूंकि इस अयोध्या प्रकरण के चलते कानून-व्यवस्था में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी व्यस्त रहेंगे इसलिए तैयारियों का मौका नहीं मिल पा रहा है।महोत्सव को लेकर जहां लेागों में उत्सुकता रहती है वहीं इसके आयोजन में तमाम चुनौतियां भी आती रहती हैं। 2105 में इसका आयोजन चुनाव के कारण नहीं हो सका। वहीं 2107 में यूपी दिवस के चलते निर्धारित तिथियों में आयोजन नहीं हो सका। बेगम हजरत महल पार्क से महोत्सव के आयोजन का जो सिलसिला शुरू हुआ जो अब तक कई स्थान बदल चुका है। लक्ष्मण मेला स्थल पर भी महोत्सव का आयोजन किया गया। 2017 में यूपी दिवस के साथ इसका आयोजन अवध शिल्प ग्राम में किया गया।अयोध्या पर संभावित फैसले के बाद महोत्सव जैसे बड़े आयोजन की सुरक्षा व्यवस्था किसी चुनौती से कम नहीं होती। लगातार खुफिया इनपुट भी मिल रहे हैं जिनको लेकर प्रशासन पहले से ही सतर्क है। ऐसे में महोत्सव का आयोजन जहां पर लाखों की भीड़ रोजाना आती हो उसकी सुरक्षा अपने आप में बड़ा सवाल थी। 

लखनऊ महोत्सव नवंबर नहीं अब जनवरी में होगा

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ मे रोजगार मेले में उमड़ी भीड़, साठ हजार रुपये महीने तक का मिला पैकेज

» लखनऊ मे झगड़े के बाद महिला मित्र के घर में युवक ने दी जान

» लखनऊ के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर तैनात दारोगा का फंदे पर लटकता मिला शव

» हटाए गए प्रमुख वन संरक्षक पवन कुमार

» सम्मान होता देख बच्चों की खुशी हुई दोगुनी

 

नवीन समाचार व लेख

» बीएचयू अस्पताल मे तीन की गिरफ्तारी के बाद भी चौथे दिन रेजीडेंट्स की हड़ताल जारी

» लखनऊ महोत्सव नवंबर नहीं अब जनवरी में होगा

» लखनऊ मे रोजगार मेले में उमड़ी भीड़, साठ हजार रुपये महीने तक का मिला पैकेज

» लखनऊ मे झगड़े के बाद महिला मित्र के घर में युवक ने दी जान

» लखनऊ के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर तैनात दारोगा का फंदे पर लटकता मिला शव