यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ में माल आपूर्ति में कई जगह लगा बाधाओं का ब्रेक, दूध वाहनों को मिला पास


🗒 सोमवार, मार्च 23 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

खाद्यान्न, सब्जी, दूध समेत आवश्यक वस्तुओं की अापूर्ति के लिए सोमवार को शहर की थोक और फुटकर मंडियां खुलीं। लेकिन माल की आपूर्ति के लिए बाहर से आने वाले वाहनों को कई स्थानों पर रोका गया। इससे दिक्कतें खड़ी हुईं। चाहे वे अनाज की ट्रालियां हो या फिर सब्जी और दुग्ध वाहन। पुलिस ने कई स्थानों पर बाहर से आने वाले ट्रकों को रोका। बाद में प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद गाड़यों को मंडियों के िलिए छोड़ा गया। इससे काफी देर तक वाहन सड़कों पर खडे़ रहे। हालांकि मंडियां सामान्य रहीं। भाव में किसी भी तरह की तेजी नहीं दिखाई दी।  बाहर से सब्जी और अनाज ला रही ट्रालियों और ठेलों को कई स्थानों पर पुलिस ने रोका। सीतापुर रोड फल एवं सब्जी मंडी में बाहर से माल लेकर आ रही कई गाड़ियों  को रोका गया। बाद में मंडी सचिव ने प्रशासनिक अफसरों काे ट्रकाें को छोड़ जाने की जरूरत बताए जाने के बाद उन्हें छोड़ा गया। इसी तरह पांडेयगंज गल्ला मंडी, डालीगंज, रकाबगंज आदि इलाकों में भी सामान ले जाने वाली गाड़ियों से पास की मांग की गई। बाद में व्यापारियों ने अधिकारियों से खाद्यान्न को छोड़ने के अनुरोध के बाद ट्रालियों को छोड़ा गया। इस तरह की बाधाएं कई बार बनीं। लेकिन सूझबूझ से उन्हें निस्तारित करा लिया गया।मंडी पूरी तरह सामान्य है। रेट भी सामान्य हैं। पुखराज दाल 84 से 85 रुपये किलो तो सूरजमुखी अरहर दाल 80.50 रुपया और डायमंड दाल 61 रुपयेकिलो  आमदिनों की तरह ही बिकी। अच्छा रोजमर्रा में प्रयोग किए जाने वाला चावल 24 से लेकर 28 रुपये किलो तक थोक मंडी में बिका। वहीं फुटकर मंडी 88, 84, और 75 रुपये में दाल और 26 से 32 रुपये किलोे तक चावल बेचा गया।लखनऊ व्यापार मंडल के अध्यक्ष राजेंद्र अग्रवाल ने बताया कि माल की आपूिर्त में थोड़ी बाधाएं हैं। ट्रालियों, ट्रकों और ठेलों पर आ-जा रही अावश्यक वस्तुओे िाकाे न रोका जाए। पास बनाए जाएं आैर आवश्यक वस्तुओं को ले जा रहे वाहनों को न रोका जाए। जांच की जाए लेकिन माल रुकने न पाए तभी लोगों को राहत मिल पाएगी। डालीगंज के कारोबारी भारत भूषण गुप्ता ने बताया कि माल मंडियों में खूब है। मंडी सामान्य हैं बस वाहनों का अावागमन सुचारु रखा जाए इसके लिए तेज कदम उठाए जाएं।हालांकि गल्ला और सब्जी की तरह आपूर्ति करने वाले वाहनों की तरह दूध वाहन नहीं रोके गए। लेकिन कई जगहों पर पास मांगा गया। बाद में वाहनों को छोड़ा गया। पराग प्रबंधन के मुताबिक सूची भेज दी गई है। शाम तक पास आ जाएंगे। हालांकि आवश्यक वस्तुएं लिखकर आज दूध वाहनों को भेजा गया।मंडी सचिव संजय सिंह ने बताया कि माल की निर्बाध आपूर्ति जारी है। कुछ जगहों पर माल रोके जाने की शिकायत आई जिसे उच्चाधिकारियों के संज्ञान में लाकर उसे छुड़वाया गया। दुबग्गा और सीतापुर रोड मंडी में 33 ट्रक आए हैं। इनमें 27,000 क्विंटल प्याज, 14,000 क्विंटल आलू और 600 क्विंटल टमाटर आया है। माल की कमी नहीं है। आपूिर्त की चेन ब्रेक  न होने पाए इसे देखते हुए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। दूध गाड़ियों के लिए पास शाम तक जारी हो जाएंगे। कालाबाजारी करने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी।

लखनऊ में माल आपूर्ति में कई जगह लगा बाधाओं का ब्रेक, दूध वाहनों को मिला पास

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ मे लूट के आरोपित चोरी की बोलेरो समेत गिरफ्तार, नहर में मिला युवक का शव

» लखनऊ में लॉकडाउन ने कम किए अपराध, बढ़े घरेलू झगड़े

» लखनऊ के न्यू उपकेन्द्र पर धमाका, सारे फीडर बंद-इलाके की बिजली गुल

» लखनऊ में मेघदूत फैक्ट्री पर छापेमारी, सैनिटाइजर के नमूने लिये गये

» लखनऊ की सीमा सील, रोके गए गैर जनपद से आने वाले लोग

 

नवीन समाचार व लेख

» हमीरपुर में वर पक्ष को बस से पचास से ज्यादा बरातियों को लाना भारी पड़ गया

» कानपुर में सामने आया कोरोना वायरस का पहला पाजिटिव केस, अमेरिका से लौटे बुजुर्ग में पुष्टि

» कानपुर रेलवे स्टेशन पर एक यात्री की बात सुनकर सभी के होश उड़ गए उठा ले गई स्वास्थ्य टीम

» इलाहाबाद हाई कोर्ट अब 28 मार्च तक बंद, सिर्फ आवश्यक केस की होगी सुनवाई

» वाराणसी में धारा 144 लागू, प्रशासनिक सख्‍ती का सड़कों पर दिख रहा असर