यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कोटा में जब बच्चे भूख से बिलख रहे थे तब कांग्रेस को क्यों नहीं आई उनकी याद -उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा


🗒 बुधवार, मई 20 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

उत्तर प्रदेश में प्रवासी श्रमिकों को बस मुहैया कराने के मुद्दे पर यूपी की भाजपा सरकार और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर बुधवार को भी जारी है। यूपी के उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि पंजाब और राजस्थान में प्रवासियों को बसें क्यों नहीं उपलब्ध कराई जा रही हैं। प्रवासी श्रमिकों के मुद्दे पर कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए डिप्टी सीएम ने कहा कि राजस्थान के कोटा में जब बच्चे छात्र भूख से बिलख रहे थे, बीमार थे, तब राजस्थान अशोक गहलोत सरकार को उनकी याद क्यों नहीं आई। वह इन छात्रों को बसों से कम से कम बार्डर पर ही छोड़ देते, तब ये बसें कहां गई थीं। उन्होंने कहा कि तब उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने 630 बसें भेजकर अपने छात्र-छात्राओं को वापस बुलाया और सुरक्षित तरीके से उनके घरों तक पहुंचाया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तब स्वयं योगी सरकार की इस पहल की तारीफ की थी।डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा ने बुधवार को लोकभवन में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि कांग्रेस ने परिवहन की बसों का जो वीडियो बनाया, वह बसें राजस्थान परिवहन विभाग की हैं। ये बसें एक राजनीतिक दल कैसे निजी तौर पर एकत्रित कर सकता है। इन बसों को किस हैसियत से चलाया जाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की महासचिव प्रियंका वाड्रा ने जो 1000 बसों की सूची दी थी, उनमें 460 बसें फर्जी निकली, जिनका फिटनेस भी नहीं है। इसके अलावा 98 एम्बुलेंस, ऑटो, बाइक और 68 वाहनों के कागज ही नहीं था। उन्होंने बताया कि कांग्रेस ने जो सूची दी थी उसमें 460 बसें फर्जी हैं और उसमें भी 297 कबाड़ की हालत में हैं। 297 बसों की कोई फिटनेस नहीं है। इनमें 98 थ्री व्हीलर कार और एंबुलेंस हैं जिनके डिटेल दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि क्या उत्तर प्रदेश सरकार अनफिट बसें चलाकर श्रमिकों की जान के साथ खिलवाड़ करे।डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि कांग्रेस इस मामले में शुरू से दिग्भ्रमित करने का काम कर रही है। सरकार कोरोना महामारी के समय मरीजों के उपचार में लगी है। प्रवासी श्रमिकों को सुरक्षित तरीके से घर पहुंचा रही है। प्रवासी श्रमिकों की स्क्रीनिंग और स्केलिंग कर रही। उन्हें क्वारंटाइन सेंटर में पहुंचाने का काम कर रही है, जबकि कांग्रेस ओछी राजनीति में लगी है। कांग्रेस चाहती है कि सरकार इनकी घटिया सियासत में उलझे, जिससे श्रमिकों की समस्याओं पर ध्यान न जाए। उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार चाहती तो सीधे मदद कर सकती थी। वह राजस्थान में पैदल चल रहे श्रमिकों को इन बसों से पहुंचा सकती थी। इसी तरह पंजाब और महाराष्ट्र से भी बसें भेजी जा सकती थीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के उत्तर प्रदेश और राजस्थान के विधायक भी सवाल उठा रहे हैं कि इन बसों को खाली भेजने की क्या जरूरत थीं, इनसे प्रवासी श्रमिकों को भेजा जा सकता था।डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि वास्तव में जितनी बसों की कांग्रेस बात कर रही है, उससे ज्यादा 1,000 ट्रेनों से हम 10 लाख से अधिक प्रवासी कामागरों को सुरक्षित उत्तर प्रदेश ला चुके हैं। 6.50 लाख से ज्यादा लोगों को बसों से वापस लाया गया है। उन्होंने कहा कि यूपीएसआरटीसी की 12,000 बसें लोगों को सुरक्षित लाने में लगायी गई हैं। इसके अलावा सभी 75 जिलों में 200-200 बसें जिलाधिकारियों की निगरानी में हैं।उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि कांग्रेस ने प्रवासी कामगारों के साथ छल करने के साथ उत्तर प्रदेश सरकार को धोखे में रखा है। इसके लिए कांग्रेस और प्रियंका वाड्रा को उत्तर प्रदेश सरकार, प्रवासी श्रमिकों और देश से सावर्जनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस ने केवल मीडिया कवरेज में आने और उत्तर प्रदेश के अच्छे कार्यों को प्रभावित करने, गुमराह करने के लिए नाटक किया। इस मामले में कानून अपना काम कर रहा है। नियमों का पालन किया जायेगा।

कोटा में जब बच्चे भूख से बिलख रहे थे तब कांग्रेस को क्यों नहीं आई उनकी याद -उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ मे बीस दिन बाद पुलिस की गिरफ्त में आया रोशनी का कातिल, जंगल में मिला था कंकाल

» लखनऊ में बिना मास्‍क के नहीं मिलेगा सामान, पुलिस ने जारी किए आदेश

» हजरतगंज कोतवाली में कांग्रेस नेता पंकज पुनिया पर एफआइआर दर्ज, सोशल मीडिया पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी

» रायबरेली से कांग्रेस की विधायक अदिति सिंह ने बस मुद्दे पर अपनी ही पार्टी की राजनीति को निम्न बताते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ की

» कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा की अपील, झंडे-बैनर अपने लगा लें पर बसें तो चलने दें

 

नवीन समाचार व लेख

» इलाहाबाद हाई कोर्ट की नई गाइडलाइन, ग्रीन व ऑरेंज जोन की अधीनस्थ अदालतों में मुकदमों की होगी सुनवाई

» कानपुर मे बेटे के पास अमेरिका न जा सके बीमा कंपनी के रिटायर्ड सर्वेयर, सातवीं मंजिल से कूदकर दी जान

» कांग्रेस प्रदेश अध्‍यक्ष को जमानत के बाद लखनऊ पुलिस ले गई साथ, कांग्रेसी आए गाड़ी के आगे

» विधायक अमनमणि त्रिपाठी का क्वारंटाइन खत्म, पुलिस ने सीमा से बाहर छोड़ा

» प्रतापगढ़ में मामूली सी बात पर आठ साल की बालिका को मारी गोली