यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ के अस्पतालों में अब घंटेभर में हो सकेगा कोरोना का टेस्ट


🗒 सोमवार, जून 15 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
लखनऊ के अस्पतालों में अब घंटेभर में हो सकेगा कोरोना का टेस्ट

केजीएमयू-लोहिया संस्थान में घंटे भर में कोरोना का टेस्ट हो सकेगा। इसके लिए ट्रू-नेट मशीन आ गई हैं। ऐसे में कोरोना टेस्ट को लेकर अब घंटों मरीजों का इलाज बाधित नहीं रहेगा। साथ ही समय पर इमरजेंसी ऑपरेशन भी किए जा सकेंगे।लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक डॉ. एके त्रिपाठी के मुताबिक दो ट्रू नेट मशीन लगना है। एक मशीन आ गई है। इस पर टेस्ट करने के लिए सोमवार को टेक्नीशियन को प्रशिक्षण दिया गया। हॉस्पिटल ब्लॉक के कोविड लैब में मशीन को स्थापित कर दिया गया है। मंगलवार को मशीन का ट्रायल रन होगा। इसके बाद मरीजों का टेस्ट शुरू हो जाएगा।कोरोना टेस्ट एक घंटे में होने पर गाइनी, हृदय रोग, न्यूरो के मरीजों को काफी राहत मिलेगी। इमरजेंसी में प्रसव के लिए आनी वाली गर्भवती को कोरोना टेस्ट कराकर उसका सिजेरियन किया जा सकेगा। ऐसे में ही हेड इंजरी, स्ट्रोक के मरीजों का समय पर इलाज हो सकेगा। हृदय रोगियों के इमरजेंसी केस में तत्काल उनकी एंजियोग्राफी, एंजिया प्लास्टी व आइसीयू शिफ्टिंग की जा सकेगी। मरीजों को जांच के लिए 12 से 24 घंटे इमरजेंसी में इंतजार नहीं करना होगा।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» उत्‍तर प्रदेश में सर्वाधिक हादसों में लखनऊ टॉप पर, मौतों के मामले में कानपुर अव्‍वल

» जनसेवा ही भारतीय जनता पार्टी का राजनीतिक ध्येय - स्वतंत्र देव सिंह

» सीएम योगी ने की घोषणा- स्कूलों में मनेगा साहिबजादा दिवस, पाठ्यक्रम में शामिल होगा गुरुओं का इतिहास

» कोई और विकल्प नहीं तो पिग जिलेटिन से बनी वैक्सीन जायज - मौलाना रशीद फिरंगी

» बीजेपी सरकार की नीति दमनकारी, मुझे घर में कैद किया - अजय कुमार लल्लू

 

नवीन समाचार व लेख

» छेड़छाड़ पर महिला को चढ़ी चंडी, सिरफिरे के सिर से उतारा इश्क का भूत

» जमीन के विवाद में खूनी संघर्ष, निर्माण ढहाया

» शामली रेलवे स्टेशन पर खड़ी ट्रेन के इंजन में अचानक लगी आग

» उत्‍तर प्रदेश में सर्वाधिक हादसों में लखनऊ टॉप पर, मौतों के मामले में कानपुर अव्‍वल

» जनसेवा ही भारतीय जनता पार्टी का राजनीतिक ध्येय - स्वतंत्र देव सिंह