यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

यूपी कैबिनेट से जल्द मिलेगी नए एक्ट को मंजूरी, VIP सुरक्षा का दारोमदार भी संभालेगी UPSSF


🗒 शनिवार, जून 27 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल (यूपीएसएसएफ) का गठन सूबे की कानून-व्यवस्था के लिहाज से बड़ा कदम है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की हरी झंडी मिलने के बाद यूपीएसएसएफ एक्ट बनाने की तैयारी जोरों पर है। माना जा रहा है कि अगले हफ्ते कैबिनेट बैठक में यूपीएसएसएफ के गठन से लेकर क्रियान्वयन तक के लिए अलग अधिनियम को मंजूरी मिल जाएगी। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) की तर्ज पर गठित हो रहा उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल (यूपीएसएसएफ) उससे भी एक कदम आगे होगा। कोर्ट, प्रमुख धार्मक स्थलों व प्रतिष्ठानों की सुरक्षा-व्यवस्था के अलावा यूपीएसएसएफ के हवाले वीवीआईपी सुरक्षा की ड्यूटी भी होगी। इसके वजूद में आने के साथ ही पुलिसकर्मियों को सुरक्षा से जुड़ी कई ड्यूटियों से आजादी भी मिलेगी और थानों की पुलिस कानून-व्यवस्था पर अपना पूरा फोकस कर सकेगी। यूपीएसएसएफ अलग एक्ट के तहत काम करेगी। एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार यह डीजीपी के अधीन ही होगी, लेकिन यूपीएसएसएफ के अलग एडीजी होंगे। यूपीएसएसएफ के जवानों के लिए सिविल पुलिस में ट्रांसफर की व्यवस्था नहीं होगी। यानी यह बल सिविल पुलिस से पूरी तरह अलग होगा। यही वजह है कि इसके जवानों के प्रशिक्षण को लेकर भी कसरत तेज हो गई है।केंद्रीय सुरक्षा बल के किसी प्रशिक्षण केंद्र तथा यूपी एटीएस के स्पॉट में इसके जवानों का खास प्रशिक्षण कराए जाने की तैयारी है। सिविल पुलिस से इनका प्रशिक्षण भी अलग होगा। इन्हेंं अत्याधुनिक सुरक्षा उपकरणों से लेकर व्यावसायिक दक्षता तक दिलाई जाएगी। स्कॉर्ट ड्यूटी के अलावा भविष्य में गनर की ड्यूटी भी इनके सिपुर्द की जा सकती है। ध्यान रहे, बिजनौर कोर्ट में हत्या की घटना के बाद न्यायालय परिसरों की सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर बड़े सवाल खड़े हुए थे। हाई कोर्ट ने न्यायालय परिसर की सुरक्षा के लिए विशेष सुरक्षा बल के गठन का निर्देश दिया था। इससे पूर्व मेट्रो की सुरक्षा में पीएसी कर्मी तैनात किए गए थे। तब भी ऐसी सुरक्षा के लिए अलग बल की मांग उठी थी।अब कोर्ट, मेट्रो, एयरपोर्ट, औद्योगिक प्रतिष्ठानों, प्रमुख धार्मिक स्थलों व बैंकों की सुरक्षा के लिए यूपीएसएसएफ के गठन का रास्ता साफ होने से बड़ी उम्मीदें जागी हैं। औद्योगिक प्रतिष्ठानों की सुरक्षा के लिहाज से भी यह बड़ा कदम है। लखनऊ में इसके मुख्यालय के साथ पांच बटालियन गठित की जानी हैं। एक बटालियन में करीब 1100 कर्मी होंगे। इस हिसाब से आने वाले समय में करीब छह हजार पुलिसकर्मी विभिन्न सुरक्षा ड्यूटियों से मुक्त होंगे। डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी का कहना है कि यूपीएसएसएफ के गठन से प्रमुख प्रतिष्ठानों व धाॢमक स्थलों की सुरक्षा और व्यावसायिक ढंग से की जा सकेगी।

यूपी कैबिनेट से जल्द मिलेगी नए एक्ट को मंजूरी, VIP सुरक्षा का दारोमदार भी संभालेगी UPSSF

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» यूपी बोर्ड के रिजल्ट में सफलता प्रतिशत में लड़कियां तो मेरिट में लड़के आगे

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, यूपी बोर्ड के टॉप-10 मेधावियों को सम्मानित करेगी सरकार

» डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की घोषणा, बोर्ड के टॉपर्स के घर तक उनके नाम से ही सड़क

» अखिलेश यादव यूपी बोर्ड हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा के 51-51 टॉपर परीक्षार्थियों को देंगे लैपटॉप

» मेरठ मंडल में चलेगा कोरोना जांच का विशेष अभियान, एक से सात जुलाई तक हर घर में होगी जांच

 

नवीन समाचार व लेख

» यूपी कैबिनेट से जल्द मिलेगी नए एक्ट को मंजूरी, VIP सुरक्षा का दारोमदार भी संभालेगी UPSSF

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, यूपी बोर्ड के टॉप-10 मेधावियों को सम्मानित करेगी सरकार

» डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की घोषणा, बोर्ड के टॉपर्स के घर तक उनके नाम से ही सड़क

» CM योगी का अल्टीमेटम 15 दिन में कराएं तटबंध की मरम्मत व स्पर निर्माण कार्य

» अखिलेश यादव यूपी बोर्ड हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा के 51-51 टॉपर परीक्षार्थियों को देंगे लैपटॉप