यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ स्थित काकोरी में चाचा के अवैध तमंचे से अचानक चली गोली, भतीजी के पेट के पार


🗒 शनिवार, जून 27 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

लखनऊ स्थित काकोरी में तीन वर्षीय मासूम के पेट पर गोली लगी। आनन फानन में परिवारीजन बच्ची को लहूलुहान हालात में ट्रॉमा सेंटर ले गए। जहां बच्ची का इलाज चल रहा है। बताया जा रहा है कि अवैध तमंचे की सफाई करते समय चाचा का हाथ ट्रिगर पर दबा तो गोली चल गई, जो सीधे भतीजी के पेट को पार कर गई। काकोरी पुलिस के मुताबिक, घटना की जानकारी के बाद आरोपित युवक को गिरफ्तार कर लिया गया है।दरअसल, मूलरूप से रायबरेली निवासी शुभेन्द्र यादव यहां मोन्दा गांव में नई कालोनी में परिवार के साथ किराये से रहते हैं। शनिवार सुबह शुभेन्द्र यादव घर मे ही अवैध तमंचा की सफाई कर रहे थे। वही पास में शुभेन्द्र के दिवगंत भाई राजन यादव की बेटी आर्या खेल रही थी। तभी अचानक तमंचे से फायर हो गया। फायर से निकली गोली घर मे खेल रही आर्या के पेट में जा धंसी। जिससे बच्ची फर्स पर ही लहूलुहान होकर गिर पड़ी। घर में हड़कंप मच गया। आनन-फानन परिवारीजन बच्ची को इलाज के ट्रॉमा सेंटर ले गए। जहां उसकी हालत गंभीर बनी है। इंस्पेक्टर काकोरी ने बताया कि आरोपित शुभेन्द्र के पास से 315 बोर का अवैध तमंचा बरामद किया गया है, इसी तमंचे की सफाई करते समय हादसा हुआ।

लखनऊ स्थित काकोरी में चाचा के अवैध तमंचे से अचानक चली गोली, भतीजी के पेट के पार

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» गांधी परिवार की सोच खुद की प्रगति तक सीमित - स्मृति ईरानी

» इंस्पेक्टर इटौंजा पर किसान की पीट-पीटकर जान लेने का आरोप, शव रख परिजनों ने किया प्रदर्शन

» राजधानी मे बुजुर्ग की कोरोना से मौत, संक्रमण के भय से घरवालों ने छोड़ा शव

» अलीशा व केशव ने बढ़ाया लखनऊ का मान, बाराबंकी के अभिमन्यु व योगेश टॉप थ्री

» इस बार पश्चिम से निकला पढ़ाई का सूरज, पूरब फिसड्डी

 

नवीन समाचार व लेख

» आनंद अस्‍पताल के संचालक हरिओम आनंद ने जहर खाकर जान दी

» गाजीपुर में प्रशिक्षण के लिए आए सिपाही ने लगाई फांसी

» वाराणसी में वेतन कटौती को लेकर धरने पर बैठे एंबुलेंस कर्मी

» गांधी परिवार की सोच खुद की प्रगति तक सीमित - स्मृति ईरानी

» अमेठी आइबी व इंटेलीजेंस की टीम सात गाड़ियों से पहुंची सहायक महाप्रबंधक के आवास पर घंटों चली जांच।