यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कानपुर का बिकरू गांव कांड- SIT आज नहीं दे सकेगी जांच रिपोर्ट, मांगेगी समय


🗒 शुक्रवार, जुलाई 31 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
कानपुर का बिकरू गांव कांड- SIT आज नहीं दे सकेगी जांच रिपोर्ट, मांगेगी समय

उत्तर प्रदेश के साथ ही देश-विदेश में चर्चा का विषय बने कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव कांड की रिपोर्ट अभी तैयार नहीं है। अपर मुख्य सचिव संजय आर भूसरेड्डी की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय जांच कमेटी को अभी रिपोर्ट देने में समय लगेगा, जबकि आज यानी 31 जुलाई को ही सरकार को रिपोर्ट सौंपी जानी थी।कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में दो-तीन जुलाई की रात दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला बोल गैंगस्टर विकास दुबे ने अपने साथियों के साथ सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। इसके बाद से विकास दुबे अपने गैंग के साथ फरार हो गया। सरकार को हिला देने वाली इस घटना के बाद से पुलिस ने इस केस में 21 नामजद आरोपियों में विकास दुबे सहित छह को एनकाउंटर में ढेर कर दिया जबकि चार को गिरफ्तार किया है। इस कांड की जांच 11 जुलाई को एसआइटी को सौंपी गई थी और 31 जुलाई को सरकार ने रिपोर्ट की अपेक्षा की थी। एसआईटी का गठन अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में किया गया है। इसमें अपर पुलिस महानिदेशक हरिराम शर्मा और पुलिस उप महानिरीक्षक जे रवींद्र गौड़ को सदस्य बनाया गया। शासन ने 31 जुलाई तक इस केस की जांच रिपोर्ट तलब की है।इस केस की जांच कर रही टीम आज यानी 31 जुलाई तक सरकार को अपनी रिपोर्ट नहीं दे पाएगी। एसआईटी इस केस की जांच के लिए सरकार से और समय मांग सकती है। यह तो तह है कि आज एसआईटी आज सरकार को अपनी रिपोर्ट नहीं देगी। एसआइटी आज सरकार से और समय मांग सकती है। इस केस से संबंधित कई दस्तावेज एसआइटी को नहीं मिले हैं।कानपुर के बिकरू में सीओ समेत आठ पुलिस वालों की हत्या और उसके बाद हुए घटनाक्रम की जांच के लिए गठित एसआइटी ने कानपुर में गुरुवार सर्किट हाउस में उन अफसरों के बयान दर्ज कराए जो घटना के समय या बाद में इस जांच से जुड़े हैं। एसआइटी के अध्यक्ष वरिष्ठ आइएएस संजय भूस रेड्डी, एडीजी हरिराम शर्मा और डीआइजी जे रवींद्र गौड़ की टीम सुबह दोपहर करीब 12 बजे सर्किट हाउस पहुंची। यहां पर पहले से ही डीएम डॉ. ब्रह्मदेव राम तिवारी, एसएसपी डॉ. डॉ. प्रीतिंदर सिंह सहित तमाम प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी मौजूद थे। सबसे पहले उन्होंने डीएम व एसएसपी के साथ बैठक की। इसके बाद बिकरू कांड की जांच से जुड़े अफसरों से पूछताछ की। एसआइटी की टीम करीब पांच घंटे तक सर्किट हाउस में रुकी और इस दौरान तमाम दस्तावेजों का गहन निरीक्षण भी किया।एसआइटी के सदस्यों ने स्थानीय खुफिया विभाग के अधिकारियों को भी तलब किया गया था। उनके भी बयान दर्ज कर पूछताछ की गई। उनसे पूछा गया कि इतने दुर्दांत अपराधी के बारे में उन्होंने कभी अधिकारियों को सूचना दी थी। अगर नहीं दी तो क्यों और दी तो उस पर क्या कार्रवाई हुई। एलआइयू ने स्वीकार किया है कि विकास को लेकर कोई पूर्व सूचना अधिकारियों को नहीं दी गई। यह इकाई एसएसपी के आदेश पर कुछ खास टारगेट पर ही काम करती है। विकास के बारे में कभी अधिकारियों ने रिपोर्ट मांगी ही नहीं।विकास दुबे और उसके सहयोगियों से जुड़े शस्त्र लाइसेंस की कुछ फाइलें असलहा अनुभाग में नहीं मिल रही हैं। फाइलों की तलाश जारी है। इन फाइलों की जांच एसआइटी को करनी है।  

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ में स्कूल गार्ड की दरिंदगी आई सामने, किशोरी से 13 माह तक किया दुष्कर्म; गर्भवती हुई तो छोड़ा

» पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति की मुश्किलें बढ़ाएगा ED, आय से अधिक संपत्ति में दर्ज होगा एक और केस

» लखनऊ में बीच सड़क छह दबंगों ने बेल्ट व लात-घूसों से चालक और उसके साथी को पीटा

» चीन से तनातनी के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह व सेनाध्यक्ष 16 को लखनऊ में, होगी सीमा की तैयारियों पर चर्चा

» बड़ी शांति से अरविंद कुमार शर्मा की बीजेपी में 'सनसनीखेज एंट्री', चर्चा में कई किस्से और कयास

 

नवीन समाचार व लेख

» पीएम मोदी करेंगे देशव्‍यापी टीकाकरण अभियान का शुभारंभ

» नार्को टेस्ट से उजागर हो सकते हैं रिटायर्ड कानूनगो के कृत्य

» उरई में रिटायर्ड कानूनगो की दरिंदगी का शिकार हुए बच्चों की सही संख्या जानने में जुटी टीमें

» फतेहपुर के अंबापुर हाईवे पर कंटेनर से कुचलकर तीन की मौत

» बकरा चोरी करने वाले गिरोह का शातिर चढ़ा हत्थे, बाइक व चाकू बरामद