यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आइपीएस नवनीत सिकेरा पर अभद्र टिप्पणी करने वाले इंस्पेक्टर के खिलाफ कसा शिकंजा, लगेगी चार्जशीट


🗒 गुरुवार, सितंबर 03 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
आइपीएस नवनीत सिकेरा पर अभद्र टिप्पणी करने वाले इंस्पेक्टर के खिलाफ कसा शिकंजा, लगेगी चार्जशीट

आइपीएस नवनीत सिकेरा को अपशब्द कहने वाले इंस्पेक्टर देवेंद्र दुबे की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। वर्ष 2015 में आइजी वीमेन पावर लाइन रहे सिकेरा पर लखनऊ में तैनात तत्कालीन थानाध्यक्ष गाजीपुर देवेंद्र दुबे ने तत्कालीन गोमतीनगर थाना प्रभारी श्यामबाबू शुक्ला से फोन पर बातचीत के दौरान अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था।वर्तमान में देवेंद्र दुबे कानपुर में तैनात हैं। वहीं सिकेरा आइजी पुलिस हेडक्वार्टर हैं। नवनीत सिकेरा ने देवेंद्र दुबे के खिलाफ विभूतिखंड थाने में एफआइआर दर्ज कराई थी। इस मामले की पड़ताल के दौरान विवेचक ने खेल कर इसमें अंतिम रिपोर्ट लगा दी थी। छानबीन के दौरान उच्चाधिकारियों को जब इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने मामले की दोबारा विवेचना के निर्देश दिए। इसके बाद विभूतिखंड पुलिस ने अंतिम रिपोर्ट को निरस्त कर दिया। अब पुलिस इस प्रकरण में आरोपित देवेंद्र दुबे के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल करने की तैयारी कर रही है।छह अगस्त 2015 को देवेंद्र दुबे ने सरकारी नम्बर से श्यामबाबू शुक्ला (अब इंस्पेक्टर वजीरगंज) से फोन पर बात की थी। इस दौरान देवेंद्र की ओर सिकेरा के लिए अपशब्द का इस्तेमाल किया गया था। कुछ समय बाद यह ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। मामले की जानकारी मिलने पर सिकेरा ने 15 नवम्बर को विभूतिखंड थाने में एफआइआर दर्ज कराई थी। सिकेरा का आरोप है कि तत्कालीन एसओ की करतूत से उनकी छवि प्रभावित हुई और उन्हें मानसिक आघात भी पहुंचा। गौरतलब है कि ऑडियो वायरल होने के बाद देवेंद्र पर एक सिपाही से दोबारा सिकेरा को लेकर अभद्र टिप्पणी करने का आरोप लगा था।सिकेरा ने विभूतिखंड थाने के पूर्व एसओ देवेंद्र दुबे के खिलाफ मानहानि, गाली-गलौज और धमकाने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। मामला सार्वजनिक होने के बाद तत्कालीन एसएसपी लखनऊ राजेश कुमार पांडेय ने देवेंद्र दुबे को लाइन हाजिर कर दिया था और इसकी जांच तत्कालीन एएसपी ट्रांसगोमती मनीराम यादव को सौंपी थी।दरअसल, आरोपित देवेंद्र दुबे ने मामले को मैनेज कराने के लिए प्रकरण की जांच ट्रिब्यूनल में स्थानांतरित करा दी थी, जहां मामले को रफा दफा कर दिया गया था। इसकी जानकारी मिलने के बाद नवनीत सिकेरा ने देवेंद्र के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई थी। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने NPCL और टोरेंट पावर के करार का ब्योरा किया तलब, UPPCL अध्यक्ष से मांगा जवाब

» केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन पर यूपी की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल व सीएम योगी आदित्यनाथ ने जताया शोक

» लखनऊ में पुल‍िस ने जालसाज को पांच साल बाद दबोचा, चेक क्लोनिंग कर बैंक से न‍िकाले 1.25 लाख रुपये,

» अमीनाबाद-विकासनगर में बर्तन चमकाने का झांसा देकर घर में घुसे टप्पेबाज, जेवर लेकर भागे

» लखनऊ में भूमाफिया राम सिंह यादव पर बड़ी कार्रवाई, पुल‍िस ने जब्‍त की 83 करोड़ की संपत्ति

 

नवीन समाचार व लेख

» केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन पर यूपी की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल व सीएम योगी आदित्यनाथ ने जताया शोक

» इलाहाबाद हाई कोर्ट ने यूपी में अवैध निर्माण को नियमित करने की कंपाउंडिंग स्कीम-2020 पर लगाई रोक

» अफगानिस्तान में स्थायी संघर्ष विराम का स्वागत करेगा भारत लेकिन अपने हितों को लेकर भी सतर्क

» सीतापुर में युवती को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाने के मामले में मुख्य आरोपित व मां-बाप समेत पांच गिरफ्तार

» भड़काऊ भाषण देने के मामले में कांग्रेस नेता श्योराज जीवन गिरफ्तार