यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

SIT जांच में मथुरा के मुकुट मुखारविंद मंदिर में 11 करोड़ से अधिक की धांधली मिली, रिसीवर समेत 12 पर केस


🗒 शुक्रवार, सितंबर 11 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
SIT जांच में मथुरा के मुकुट मुखारविंद मंदिर में 11 करोड़ से अधिक की धांधली मिली, रिसीवर समेत 12 पर केस

विशेष जांच दल (एसआइटी) ने करोड़ों रुपये की आर्थिक अनियमितता के मामले में मथुरा के मुकुट मुखारविंद मंदिर के रिसीवर रमाकांत गोस्वामी समेत 12 आरोपितों के विरुद्ध एफआइआर दर्ज कर ली है। एसआइटी की शुरुआती जांच में 11 करोड़ रुपये की धांधली सामने आ चुकी है। अब इसमें और गड़बड़ियों की जांच की जा रही है। आरोपितों पर जांच एजेंसी का शिकंजा जल्द कसेगा। एसआइटी जांच में यह भी सामने आया है कि रिसीवर ने मंदिर में फूलों की सजावट में निर्धारित मूल्य से अधिक धन वसूला। इसमें फूलों के ठेकेदारों की भी संलिप्तता रही।मथुरा के मुकुट मुखारविंद मंदिर में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त व फूल बंगले की रकम में 11 करोड़ रुपये से अधिक की आर्थिक अनियमितता की जांच एसआइटी को सौंपी गई थी। शासन की अनुमति मिलने के बाद एसआइटी ने आरोपित रमाकांत गोस्वामी, मनु ऋषि, संतोष कुमार, राम कृष्ण शर्मा, राधा किशन, ठेकेदार विवेक शर्मा, उनकी मां सिद्धश्री शर्मा, पिंटू सैनी, लट्टू सैनी, बिहारी लाल सैनी व उनकी पत्नी कमलेश सैनी, बिहारी लाल सैनी व कोकन बाबू मिश्रा के विरुद्ध धोखाधड़ी व अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है।एसआइटी ने जुलाई, 2019 में प्रकरण की जांच शुरू की थी और बीती 20 फरवरी को जांच रिपोर्ट शासन को भेज दी थी। रिपोर्ट में कहा गया था कि मथुरा के मुकुट मुखारबिंद व हरगोकुल दसवलिया ब्राह्मणान में दान-भेंट की रकम में घोटाले की पुष्टि हुई है। जांच में पता चला कि रिसीवर रमाकांत गोस्वामी ने कोर्ट में भ्रामक तथ्य पेश कर विवादित संपत्ति खास महल के भवन को निर्धारित कीमत से करीब तीन गुना अधिक मूल्य पर खरीदा था। मामले में रिसीवर ने वैल्यूअर, विक्रेता, मुकुट मुखारविंद मंदिर के प्रबंधक व एक कर्मचारी के साथ सांठगाठ कर खेल किया था।कोर्ट के आदेशों को दरकिनार कर कृषि योग्य भूमि की खरीद में भी घपला किया गया। इसके अलावा वृद्धा पेंशन, कन्या विवाह, छात्रवृत्ति व अन्य मदों में मनमाने ढंग से चेकों के जरिए दान की रकम में घपला किया गया था। अधिक भुगतान करने के बाद रिसीवर ठेकेदारों से अपना कमीशन वसूलता था। एसआइटी अधिकारियों के मुताबिक घोटाले की रकम और बड़ी होने की आशंका है। इस बिंदु पर अभी और जांच की जाएगी।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ के शुभम सिनेमा के पास बाइक में वेल्डिंग करते समय कार में भी लगी आग

» हत्यारोपितों की गिरफ्तारी को लेकर प्रदर्शन, ग्रामीण को लगी गोली; इलाके में तनाव

» उत्तर प्रदेश में फिर मिले सर्वाधिक 7103 नए कोविड-19 के पॉजिटिव केस

» उत्तर प्रदेश में तीन आईपीएस अफसरों के साथ 49 डिप्टी एसपी के तबादले,

» लखनऊ में कोविड-19 को रोकने के लिए बनाई जाए प्रभावी योजना - सीएम योगी

 

नवीन समाचार व लेख

» दुष्कर्म मामले में पूर्व मंत्री को जेल भिजवाने वाली महिला ने अब दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री पर लगाए गंभीर आरोप

» अलीगढ़ में रिश्ते हुए दागदार, मौसा ने चार साल की मासूम संग किया दुष्कर्म का प्रयास

» अलीगढ़ में दिनदहाड़े ज्वेलर शॉप से 35 लाख की लूट, तमंचा दिखा तीन बाइकर्स ने की वारदात

» पंचायत चुनाव में सप्लाई करने को तैयार कर रहे थे हथियार, रायफल और तमंचों के साथ दो गिरफ्तार

» संगम तट पर जनवरी 2021 में होगा माघ मेले का आयोजन