यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ के कंटेनमेंट जोन में आवागमन पर रोक, शारीरिक दूरी का पालन अहम


🗒 सोमवार, सितंबर 14 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
लखनऊ के कंटेनमेंट जोन में आवागमन पर रोक, शारीरिक दूरी का पालन अहम

राजधानी में कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए शासन ने सख्ती के निर्देश दिए हैं। टीम 11 की बैठक में लखनऊ के कंटेनमेंटजोन के भीतर आवागमन पर रोक लगाने का निर्णय लिया गया है। शासन ने शारीरिक दूरी का पालन कराने, मास्क पहनने और सार्वजनिक स्थानों पर पान, मसाला व गुटखा इत्यादि का इस्तेमाल न करने की प्रवृत्ति को प्रोत्साहित करने की बात कही है। पुलिस आयुक्त सुजीत पांडेय व जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने शासन को संयुक्त रिपोर्ट भी भेजी है। शासन को भेजे गए रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन इलाकों में संक्रमित व्यक्ति रहते हैं उनके घर के सामने लाल और संपर्क में आए लोगों के घर के सामने पीले रंग का फ्लायर चिपकाया जा रहा है। इससे डोर टू डोर सर्विलांस टेस्टिंग की कार्यवाही में मदद मिल रही है। पुलिस आयुक्त सुजीत पांडेय के मुताबिक, राजधानी में इंदिरानगर, गोमतीनगर, आशियाना, अलीगंज, चिनहट और आलमबाग में सबसे ज्यादा संक्रमित रोगी मिले हैं। इनमें 217 ऐसे स्थान है जहां एक घर में एक से अधिक व्यक्ति संक्रमित हैं। इन स्थानों पर कोविड-19 की गाइडलाइन के तहत बैरिकेडिंग कराई जानी है। यही नहीं अलग अलग शिफ्ट में 1302 कांस्टेबल और 1302 होमगार्ड की ड्यूटी लगानी है। इसके लिए पुलिस आयुक्त ने कुल 2000 होमगार्ड की आवश्यकता बताई है और उसकी उपलब्धता सुनिश्चित कराने को कहा है। पुलिस व प्रशासन की रिपोर्ट के मुताबिक,  सिविल डिफेंस के कार्यकर्ताओं की ओर से हर रोज करीब 25 हजार मास्क का वितरण कराया जा रहा है। इसके साथ ही 40 अतिरिक्त टीमें लगाई गई हैं, जो अलग-अलग इलाकों में भ्रमण कर लोगों को जागरूक कर रही हैं। यही नहीं 2500 स्थानों पर एक घर में एक संक्रमित रोगी हैं। पुलिस आयुक्त का कहना है कि 206 पॉलीगन पर तैनात पुलिसकर्मियों को इलाके में भ्रमणशील रहते हुए कोरोना संक्रमित के संपर्क में आए लोगों को क्वारंटाइन कराने के लिए निर्देशित किया गया है।नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ पुलिस की ओर से महामारी अधिनियम के तहत एफआइआर दर्ज की जा रही है। कंटेनमेंटजोन में पुलिस की ओर से 10 चार पहिया वाहन फोर्स के साथ तैनात करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही हाई रिस्क कंटेनमेंटजोन में मजबूत बैरिकेडिंग एवं नियमित सैनिटाइजेशन की व्यवस्था नगर निगम से कराने को कहा गया है। पुलिस आयुक्त का कहना है कि विभिन्न अस्पतालों व क्वारंटाइन सेंटर पर पुलिस के कुल 206 जवान तैनात हैं। इसके अलावा निजी अस्पतालों के बाहर भी पुलिस बल तैनात किया गया है। अभी तक पुलिस की ओर से 65 हजार 649 लोगों के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा चुकी है। वहीं, एक करोड़ 27 लाख 69 हजार रुपये जुर्माना के तौर पर भी वसूला गया है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» सपा में विलय से शिवपाल यादव का इनकार, बोले- वजूद बनाए रखने के लिए गांव-गांव जाएगी प्रसपा

» उत्तर प्रदेश की आमदनी की रफ्तार पर लगा कुछ ब्रेक, नवंबर माह के राजस्व में आया कम उछाल

» बेघरों को शेल्टर होम भेजने पर नगर निगम कर्मियों की हुई पिटाई, चार लोगों पर मुकदमा दर्ज

» फेसबुक पर फैला है साइबर जालसाजों का मकड़जाल

» पीएफआइ को विदेशों से हो रही फंडिंग पर सख्ती, ईडी का उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्यों में 26 जगह छापा

 

नवीन समाचार व लेख

» उत्तर प्रदेश की आमदनी की रफ्तार पर लगा कुछ ब्रेक, नवंबर माह के राजस्व में आया कम उछाल

» बिहार में 85 पुलिसकर्मी बर्खास्त, 644 के खिलाफ हुई कड़ी कार्रवाई

» कानपुर के चकेरी में फर्जी आधार कार्ड, पैन कार्ड और निवास प्रमाण पत्र बनाने वाला आरोपित गिरफ्तार

» कानपुर में युवक की जलाकर हत्या के बाद फेंका शव, खड़ी मिली प्रतापगढ़ के नंबर की बाइक

» इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने आरोपित एसपी की एक और अग्रिम जमानत याचिका को किया नामंजूर