यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सामाजिक समरसता की जड़ें मजबूत करें स्वयंसेवक - डॉ. मोहन भागवत


🗒 सोमवार, सितंबर 14 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सामाजिक समरसता की जड़ें मजबूत करें स्वयंसेवक - डॉ. मोहन भागवत

सामाजिक समरसता की जड़ें मजबूत करने के लिए सभी स्वयंसेवकों को निकलना होगा। आम जन तक यह संदेश पहुंचाना होगा कि मंदिर, जलाशयों आदि पर सभी जातियों का समान अधिकार है। सोमवार को यह आह्वान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत ने किया। अवध प्रांत प्रवास के दूसरे दिन उन्होंने कुटुंब एकता, गौ सेवा, ग्राम विकास, पर्यावरण, धर्म जागरण व सामाजिक सद्भाव गतिविधियों से जुड़े कार्यकर्ताओं व प्रमुख पदाधिकारियों से तीन सत्रों में संपन्न बैठकों में संवाद किया।राम मंदिर निर्माण कार्य आरंभ होने के बाद से जातिवादी ताकतों के सक्रिय होने पर संघ प्रमुख डॉ. मोहन भागवत द्वारा सामाजिक समरसता पर जोर दिए जाने को अहम माना जा रहा है। समाज में बिखराव लाने के कुचक्रों को रोकने के लिए उन्होंने कहा कि कोई भी ऐसी जाति नहीं है जिसमें श्रेष्ठ महान व देशभक्त लोगों ने जन्म नहीं लिया हो। महापुरुष केवल अपने कार्यों से ही महान बनते हैं। उनको इसी भाव से देखा जाना चाहिए। चहुंमुखी विकास के लिए ये भाव बनाए रखना बहुत आवश्यक है।सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत ने परिवारिक बिखराव पर भी चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि कुटुंब संरचना प्रकृति प्रदत्त है इसलिए इसको सुरक्षित रखना और संरक्षण देना हमारा दायित्व है। परिवार कोई असेंबल इकाई नहीं है। भारतीय संस्कृति में परिवार की विस्तृत परिकल्पना है। इसमें केवल पति-पत्नी और बच्चे ही शामिल नहीं हैं वरन दादा-दादी, बुआ, चाचा-चाची भी प्राचीन काल से परिवार को अभिन्न हिस्सा माने जाते रहे हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों में इसी संस्कार के विकास से परिवार के साथ सामाजिक एकता भी मजबूत होगी।सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत ने बच्चों में अतिथि देवो भव: का भाव उत्पन्न करने पर जोर दिया। उनका कहना था कि बच्चों को समय-समय पर महापुरुषों की कहानियां व उनके संस्मरण भी सुनाए व सिखाए जाने चाहिए। साथ ही संघप्रमुख ने गौ आधारित व प्राकृतिक खेती के लिये समाज को प्रशिक्षित करने की बात भी कही। उन्होंने गत दिनों हिन्दू आध्यात्मिक एंव सेवा फाउंडेशन द्वारा किये गए प्रकृति वंदन की सराहना की। देश व प्रकृति हित में किसी भी सामाजिक या धार्मिक संगठन द्वारा किये जाने वाले कार्य में स्वयंसेवको को बढकर सहयोग करने के निर्देश भी दिए।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» राज्य महिला आयोग ने ड्रग्स व लड़कियों की तस्करी के मामले को लेकर मुख्यमंत्री से की शिकायत

» लखनऊ में भाजपा नेता के घर व दुकान पर दबंगो ने बोला धावा

» गैंगस्टर विकास दुबे के गैंग पर कसा ईडी का शिकंजा, मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज

» कमलेश तिवारी हत्याकांड में दो आरोपित गिरफ्तार, गैंगेस्टर एक्ट में थे वांछित

» अब मुगल नहीं, छत्रपति शिवाजी के नाम पर होगा आगरा म्यूजियम - सीएम योगी

 

नवीन समाचार व लेख

» क्रशर कारोबारी की मौत पर अब हत्या का मुकदमा, महोबा पुलिस को ढूंढे नहीं मिल रहे निलंबित एसपी

» उन्नाव की पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट से दहले लोग, किशोर की मौत, चार की हालत गंभीर

» अलीगढ़ मे गला दबाकर की गई थी बालक की हत्या, खाली प्लॉट में पड़ा मिला शव

» मेरठ में पैसे मांगने पर डेयरी संचालक ने मजदूर को बंधक बनाकर पीटा,

» मेरठ में फिर पकड़ी तमंचा फैक्‍ट्री, दो आरोपित गिरफ्तार,71 तमंचे भी बरामद