यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

महोबा में व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी हत्याकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, सात दिन में देगी रिपोर्ट


🗒 मंगलवार, सितंबर 15 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
महोबा में व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी हत्याकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, सात दिन में देगी रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने महोबा में व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी हत्याकांड की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने का आदेश दिया है। एसआईटी का नेतृत्व आईजी वीएनएस रेंज विजय सिंह मीणा और शलभ माथुर डीआईजी करेंगे। एसपी अशोक कुमार त्रिपाठी सदस्य होंगे। एसआईटी सात दिनों में रिपोर्ट प्रस्तुत देगी।उत्तर प्रदेश के महोबा के तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार द्वारा कथित रूप से रिश्वत मांगने के बाद गोली लगने से घायल व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी की कानपुर के रीजेंसी अस्पताल में मौत हो गई थी। व्यापारी ने ही एसपी द्वारा घूस मांगे जाने का वीडियो वायरल किया था, जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसपी मणिलाल पाटीदार को निलंबित कर दिया था। पूर्व एसपी पर हत्या का भी मुकदमा : भ्रष्टाचार के मामले में निलंबित एसपी मणिलाल पाटीदार पर अब हत्या का भी मुकदमा दर्ज हो गया है। कानपुर के अस्पताल में रविवार शाम क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी की इलाज के दौरान मौत के बाद हत्या की साजिश का मुकदमा हत्या की धाराओं में बदल दिया गया। इस मुकदमे में कबरई के तत्कालीन थाना प्रभारी देवेंद्र शुक्ला, इंद्रकांत के साझीदार ब्रह्मदत्त और सुरेश सोनी के साथ अज्ञात पुलिसकर्मी भी आरोपित बनाए गए हैं। दूसरी ओर, गम और गुस्से के बीच कारोबारी का अंतिम संस्कार सोमवार सुबह कर दिया गया। मामले में कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।बता दें कि सात सितंबर को कबरई के क्रशर और विस्फोटक व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी ने महोबा के तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार पर उसे प्रताड़ित करने और हर महीने 6 लाख रुपये रिश्वत मांगने का गंभीर आरोप लगाया था। उन्होंने सीएम को पत्र भी लिखा था। साथ ही वीडियो वायरल करके तत्कालीन एसपी द्वारा मिल रही धमकियों का भी जिक्र किया था। यहीं नहीं, उन्होंने अपनी हत्या की आशंका भी जताई थी। आठ सितंबर को कार में व्यापारी इंद्रकांत घायल पड़े मिले थे। उन्हें गले में गोली लगी थी। तब उन्हें कानपुर के रीजेंसी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी स्थिति दिन-ब-दिन बिगड़ती चली गई। रविवार सुबह से ही उनकी तबीयत कुछ ज्यादा ही खराब हो गई। देर शाम उन्होंने हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» एडीजी राजीव कृष्ण अलीगढ़ रेंज और डीआइजी शलभ माथुर हाथरस में संभालेंगे मोर्चा

» कोरोना संक्रमित दिव्यांगजन व बुजुर्गों से एकत्र होंगे पोस्टल बैलट

» लखनऊ में चेहल्लुम के जुलूस पर लगा प्रत‍िबंध, चप्पे-चप्पे पर तैनात रहेगी पुलिस

» मेरठ के डॉ.राजेंद्र सिंह उत्तर प्रदेश होम्योपैथिक मेडिसिन बोर्ड के उपाध्यक्ष पद पर निर्विरोध निर्वाचित

» राजधानी मे बदली रहेगी शहर की यातायात व्यवस्था