यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उत्तर प्रदेश एसटीएफ की हिरासत में बाहुबली अतीक अहमद का छोटा बेटा अली अहमद,


🗒 शनिवार, सितंबर 19 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
उत्तर प्रदेश एसटीएफ की हिरासत में बाहुबली अतीक अहमद का छोटा बेटा अली अहमद,

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर उत्तर प्रदेश में इन दिनों बाहुबलियों पर पुलिस तथा उत्तर प्रदेश एसटीएफ का शिकंजा कसा है। प्रयागराज में पूर्व सांसद अतीक अहमद तो मऊ, गाजीपुर व लखनऊ में दबंग विधायक मुख्तार अंसारी से सभी अवैध निर्माण को जमींदोज किया जा रहा है।एसटीएफ मेरठ टीम ने शनिवार को अतीक अहमद के छोटे बेटे अली को नौचंदी से पकड़ लिया है। उससे उमर के बारे में पूछताछ की जा रही है। प्रयागराज में अब से करीब चार वर्ष पहले मामा के निकाह में करीब 12 राउंड फायरिंग करने वाले अली अहमद को आज एसएटीएफ ने हिरासत में लिया है।अली अहमद तथा उमर अहमद प्रयागराज के फूलपुर से समाजवादी पार्टी से सांसद रहे अतीक अहमद के पुत्र हैं।अली अपने फूफा के घर मिलने आया था। एसटीएफ को सूचना मिली थी कि अली का भाई दो लाख की इनाम उमर आया है। छापामारी के दौरान उमर का कोई पता नहीं चल पाया है। अली को हिरासत में लेकर पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया। दो साल पहले प्रॉपर्टी डीलर मोहित जायसवाल को अगवा कर जेल में बुलाकर पिटाई के मामले में उमर वांछित चल रहा है।लखनऊ के प्रापर्टी डीलर मोहित जायसवाल को 2018 में गोमतीनगर उनके ऑफिस से अगवा कर देवरिया जिला जेल ले जाया गया था। जहां बाहुबली अतीक अहमद ने अपने बेटे उमर, गुर्गे गुरफान, फारूख, गुलाम व इरफान के साथ जेल की बैरक प्रापर्टी डीलर की पिटाई करते हुए उससे 45 करोड़ की जमीन अपने नाम पर लिखवा ली। उसकी एसयूवी गाड़ी भी अतीक अहमद के गुर्गो ने लूट ली।बाहुबली के चंगुल से छूट कर किसी तरह लखनऊ पहुंचे मोहित ने आला अधिकारियों को वारदात की जानकारी दी। तभी पुलिस ने अतीक अहमद के गुर्गे इरफान और गुलाम को गिरफ्तार कर लिया था। अतीक अहमद का स्थानांतरण गुजरात जेल में कर दिया था। सीबीआइ ने अतीक के बेटे उमर पर दो लाख का इनाम घोषित कर दिया। तब से उमर के पीछे यूपी पुलिस के अलावा एसटीएफ और एसटीएफ भी लगी हुई है। शनिवार को मेरठ एसटीएफ को उमर के नौचंदी के भवानी नगर में अपने फूफा के घर होने की सूचना मिली। एसटीएफ की टीम ने छापा रहा, जहां पर एसटीएफ की टीम को उमर नहीं मिल पाया। उसका भाई अली मिला था। अली को एसटीएफ ने अपने पुलिस लाइन स्थित ऑफिस में लाकर पूछताछ की। उसके बाद परिवार के सुपुर्द कर दिया।डिप्टी एसपी एसटीएफ, ब्रिजेश सिंह ने बताया कि उमर की तलाश में भवानी नगर कालोनी में छापा मारा गया था। उमर तो नहीं मिला उसका छोटा भाई अली मिला। अली से उमर के बारे में जानकारी जुटाई गई । अली को परिवार के सुपुर्द कर दिया। साथ ही उमर की तलाश में एसटीएफ की टीम काम कर रही है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» 31277 शिक्षकों के चयन की काउंसिलिंग पूरी, शुक्रवार को मिलेगा नियुक्ति पत्र

» अभी पूरी नहीं हुई हाथरस कांड की SIT जांच, एक बार फिर मांग सकती है और समय

» लखनऊ में 'पति-पत्नी और वो' के चक्कर में हाईवोल्टेज ड्रामा

» उत्तर प्रदेश सवा करोड़ कोरोना वायरस टेस्ट करने वाला पहला राज्य बना

» दीपावली से पहले देनदारियों का भुगतान करें सभी विभाग - सीएम योगी

 

नवीन समाचार व लेख

» बलिया में हत्याकांड पर विपक्ष ने छेड़ा कानून-व्यवस्था का मुद्दा, निष्पक्ष जांच की मांग

» बाराबंकी में किन्नरों के घर पर हमला, तोड़फोड़ व मारपीट, मुकदमा दर्ज

» पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार, बर्खास्त एसओ-सिपाही के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

» इलाहाबाद हाई कोर्ट कोविड-19 को लेकर बेफिक्री पर चिंतित, DGP से पूछा- कैसे पालन करा रहे हैं कोरोना प्रोटोकॉल

» 31277 शिक्षकों के चयन की काउंसिलिंग पूरी, शुक्रवार को मिलेगा नियुक्ति पत्र