बिल जमा करने के 12 घंटे बाद पुराने लखनऊ में आई बिजली, उपभोक्ता हुए परेशान

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बिल जमा करने के 12 घंटे बाद पुराने लखनऊ में आई बिजली, उपभोक्ता हुए परेशान


🗒 बुधवार, सितंबर 23 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
बिल जमा करने के 12 घंटे बाद पुराने लखनऊ में आई बिजली, उपभोक्ता हुए परेशान

स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं के लिए सिरदर्द बन गया है। बिल जमा करने के बारह घंटे बाद भी कनेक्शन नहीं जुड़ रहा है। ऐसे मामले बढ़ते जा रहे हैं। साेमवार को ठाकुरगंज में दर्जनों उपभोक्ताओं की बिजली चली गई। बकाएदारों ने आनन फानन में बिल जमा कर दिया। सुबह से शाम हो गई, बिजली नहीं आई। उपभोक्ता परिषद सेे शिकायत करने के बाद बिजली बहाल हुई। वहीं मध्याचंल एमडी सूर्य पाल गंगवार ने बताया कि बकाएदारों के कनेक्शन काटे गए थे। भुगतान होने के बाद करीब पांच सौ उपभोक्ता की बिजली आ गई। बचे हुए उपभोक्ताओं के मीटर कनेक्ट करने में समय लगा, लेकिन वह भी कनेक्ट जल्द हो गए थे। वहीं उपभोक्ताओं ने बताया कि पहले बिजली अगर कट जाती थी तो संविदा कर्मी पोल पर चढ़कर केबल के तार को एक से डेढ़ घंटे में जोड़ देते थे, अब तो बुरा हो गया है।उपभोक्ता ने आरोप लगाया कि स्मार्ट मीटर व उपभोक्ता के बीच पारदर्शिता नहीं है। मंगलवार को उपभोक्ताओं ने उपभोक्ता परिषद् को फोन कर बताया की उनका स्मार्ट मीटर बकाए पर डिस्कनेक्ट हो गया था पूरा भुगतान कर देने के 12 घंटे बाद भी सप्लाई चालू नहीं हुई। लेसा ठाकुरगंज के अनके उपभोक्ताओ की बिजली 14 घंटे तक न चालू होने पर जब उपभोक्ता परिषद् ने प्रबंध निदेशक मध्यांचल से बात की तब जाकर कुछ उपभोक्ताओ की सप्लाई चालू हो पायी। उपभोक्ता संदीप कुमार, संजय, मनोज कुमार व फहीम, गणेश ने बताया कि इस उमस भरी गर्मी में अगर 12 घंटे बिजली न आए तो क्या हाल होगा। विभाग इस चीज को समझने को तैयार नहीं है।उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद के अवधेश वर्मा ने बताया कि कार्यदायी संस्थाओं की तानाशाही के चलते उपभोक्ता परेशान है। उन्होंने कहा कि अगर यही हाल रहा तो उपभोक्ता सड़कों पर होंगे। ऐसी स्थिति जल्द से जल्द सरकार को हस्तक्षेप करके उपभोक्ता को न्याय दिलाना चाहिए।